- विज्ञापन -

Latest Posts

Aviyog Tritiya Vrat: अवियोग तृतीया व्रत से अनेक जन्मों तक सुहागिन रहेंगी स्त्रियां, जानिए व्रत की विधि

Aviyog Tritiya Vrat: मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया से अवियोग तृतीया व्रत रखा जाता है। भविष्य पुराण के अनुसार जोशी यह व्रत रखती है वह अनेक जन्मों में सुहागिन रहकर अंत में शिवलोक में निवास करती है। यह व्रत रखने वाली स्त्री सौभाग्य धन आयु और पुत्र की प्राप्ति भी होती है। बता दें कि, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव ने पार्वती बा महर्षि वशिष्ठ ने अरुंधति को इस व्रत के महत्व के बारे में बताया था।

इस तरह से करें व्रत

पंडित रामचंद्र जोशी है कि, इस व्रत के लिए स्त्रियां मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया की रात को खीर का सेवन कर शिव व पार्वती को प्रणाम करें। इसके साथ तृतीया तिथि में सुबह गुलर की दातुन से मंजन कर स्नान करें। शालि चावल के चूर्ण से शिव और पार्वती की प्रतिमा बनाएं। उन्हें एक उत्तम पात्र में स्थापित कर विधिपूर्वक उनका पूजन करें। चतुर्थी को सुबह उठकर दक्षिणा के साथ उस प्रतिमा को आचार्य को समर्पित कर शिवभक्त ब्राह्मणों को उत्तम भोजन कराएं। इस तरह हर महीने यह व्रत और पूजन करना चाहिए।

मार्गशीर्ष से 12 महीनों की तृतीया की इस पूजा में भगवान शिव और पार्वती को महीने के हिसाब से नीलकमल, कनेर, बिल्वपत्र, पलाश, कुब्ज, मल्लिका, पाढर, सफेद कमल, कदम्ब, तगर, द्रोण तथा मालती पुष्पों से पूजा करनी चाहिए

Also Read: Vivah Panchami: विवाह पंचमी के दिन करें ये असरदार उपाय, घर में जल्द बजेगी…

व्रत का करें उद्यापन

इस व्रत के उद्यापन के लिए भगवान शिव को सुवर्र्ण, कमल वस्त्र, ध्वजा, दीपक और भोग अर्पित कर आरती करनी चाहिए. 12 ब्राह्मण दंपति का पूजन कर उन्हें यथाशक्ति शिव-पार्वती की मूर्ति बनवाकर ताम्रपत्र में स्थापित कर मोती, मूंगा और पुखराज सहित आचार्य को समर्पित करना चाहिए। इसके साथ जलपूर्ण कलश, छाता, जूता और सुवर्ण ब्राह्मणों को दान में देना चाहिए. घर में उम्मीद से आए किसी भी व्यक्ति को इस दिन क्षमता अनुसार दान- दक्षिणा देनी चाहिए।

Also Read: Winter Fashion Tips: सर्दी के दिनों में अपने लुक्स को बनाएं और भी खास,…

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल