Homeधर्मनवरात्रि 2021, दिन 4, माँ कुष्मांडा: जानिए तिथि, समय, महत्व, पूजा विधि...

नवरात्रि 2021, दिन 4, माँ कुष्मांडा: जानिए तिथि, समय, महत्व, पूजा विधि और मंत्र

नवरात्रि 2021, दिन 4, माँ कुष्मांडा: हिंदू मान्यता के अनुसार, जो लोग देवी की पूजा करते हैं, उन्हें मानसिक कष्टों और बीमारियों से मुक्ति मिलती है।

नौ दिवसीय उत्सव, नवरात्रि 2021 चल रहा है, चौथा दिन नजदीक आने के साथ ही श्रद्धालुओं ने तैयारी शुरू कर दी है। नवरात्रि की चतुर्थी तिथि को सृष्टि की रचयिता देवी कुष्मांडा की पूजा की जाती है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, वह ब्रह्मांड के अस्तित्व में आने से पहले पैदा हुई थी। उसने अपनी मुस्कान से सूर्य, चंद्रमा और अन्य ग्रहों की रचना की। देवी कुष्मांडा अपने आठ हाथों में धनुष, तीर, कमंडल, कमल, त्रिशूल, चक्र और अन्य महत्वपूर्ण वस्तुओं के साथ चित्रित करी गई है। हिंदू मान्यता के अनुसार, जो लोग देवी की पूजा करते हैं, उन्हें समृद्धि, अच्छी दृष्टि और मानसिक कष्टों और बीमारियों से मुक्ति मिलती है।

नवरात्रि 2021 दिन 4: तिथि और शुभ समय

दिनांक: 10 अक्टूबर, रविवार

चतुर्थी तिथि प्रारंभ: 07:48 पूर्वाह्न, 9 अक्टूबर

चतुर्थी तिथि समाप्त: 04:55 पूर्वाह्न, 10 अक्टूबर

नवरात्रि 2021 दिन 4: महत्व

देवी कूष्मांडा का नाम तीन शब्दों से मिलकर बना है- कु का अर्थ है ‘छोटा’, ​​उष्मा का अर्थ है ‘गर्मी या ऊर्जा’ और अंदा का अर्थ है ‘अंडा’। इसका अर्थ है जिसने इस ब्रह्मांड को ‘छोटे ब्रह्मांडीय अंडे’ के रूप में बनाया है। उनकी पूजा करने वाले भक्तों को सुख, समृद्धि और रोग मुक्त जीवन प्रदान किया जाता है।

नवरात्रि 2021 दिन 4: पूजा विधि

– नहाएं और साफ कपड़े पहनें

– देवी को सिंदूर, चूड़ियां, काजल, बिंदी, कंघी, शीशा, लाल चुनरी आदि चढ़ाएं

– प्रसाद के रूप में देवी को मालपुए, दही या हलवा चढ़ाएं

– मंत्रों का जाप करें और आरती कर पूजा संपन्न करें

नवरात्रि 2021 दिन 4: मंत्र

1. सुरसंपूर्णकलाशं रुधिरालुप्तमेव च दधाना हस्तपद्माभ्यं कुष्मांडा शुभदास्तुमे

2. ऊँ देवी कुष्मांडायै नमः

ऊँ देवी कुष्मांडायै नमः

सुरसंपूर्ण कलाशम रुधिराप्लुतामेव च दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु में

3. मां कुष्मांडा प्रार्थना:

सुरसंपूर्ण कलाशम रुधिरप्लुतामेव चा

दधना हस्तपद्माभ्यं कुष्मांडा शुभदास्तु मे

4. मां कुष्मांडा स्तुति

या देवी सर्वभूतेषु माँ कुष्मांडा रूपेण संस्था

नमस्तास्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

5. मां कुष्मांडा ध्यान:

वंदे वंचिता कमरठे चंद्राधाकृतशेखरम

सिंहरुधा अष्टभुजा कुष्मांडा यशस्विनीम्

भास्वर भानु निभं अनाहत स्थितिम चतुर्था दुर्गा त्रिनेत्रम

कमंडल, चपा, बाण, पद्म, सुधाकलश, चक्र, गदा, जपवतीधरम

पतम्बरा परिधानं कमनीयम मृदुहस्य नानलंकर भुषितम्

मंजिरा, हारा, केयूरा, किन्किनी, रत्नकुंडला, मंडीतामो

प्रफुल्ल वदानमचारु चिबुकम कांता कपोलम तुगम कुचामो

कोमलंगी स्मृतिमुखी श्रीकांति निमनाभि नितांबनि

6. मां कुष्मांडा स्तोत्र

दुर्गातिनाशिनी त्वम्ही दरिद्रादी विनाशनिम

जयम्दा धनदा कुष्मांडे प्रणाममयः

जगतमाता जगतकात्री जगदाधारा रूपनिम

चरचारेश्वरी कूष्मांडे प्रणामयः

त्रैलोक्यसुंदरी त्वम्ही दुख शोक शोक निवारिनिम परमानंदमयी,

कुष्मांडे प्रणाम्याहं

7. मां कुष्मांडा कवची

हमसराय में शिरा पाटू कुष्मांडे भवनाशिनिं

हसलकारिम नेत्रेचा, हसरौश्च ललताकाम

कौमारी पाटू सर्वगत्रे, वारही उत्तरे तथा,

पूर्वे पातु वैष्णवी इंद्राणी दक्षिणा मामा

दिग्विदिक्षु सर्वत्रेव कुम बिजम सर्वदावतु

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img