Homeराज्यउत्तर प्रदेशप्रमोशन के लिए फिजिकल टेस्ट में लगा रहे थे दौड़, पर हार...

प्रमोशन के लिए फिजिकल टेस्ट में लगा रहे थे दौड़, पर हार गए जिंदगी की दौड़

भारत में एक नौकरी के लिए कितनी पापड़ बेलने पड़ते हैं यह बताने की जरूरत नहीं हैं, और ऊपर से सरकारी नौकरी के तो क्या ही कहने। एक नौकरी मिलने के बाद भी एक आम आदमी की तकलीफे नही खत्म होती, जो व्यक्ति अब तक नौकरी के लिए भाग रहा था वह नौकरी मिलने के बाद प्रमोशन पाने के लिए दौड़ता हैं।

ऐसा ही एक मामला लखनऊ से सामने आ रहा हैं जहां रिटायरमेंट की कगार पर पहुंच चुके फायर ब्रिगेड के एक चालक की प्रमोशन की चाह के चलते मृत्यु हो गई। आपको बता दे की लखनऊ फायर डिपार्टमेंट में ऑफिसर पद के प्रमोशन के लिए चालकों का फिजिकल टेस्ट लिए जा रहे थे। इस दौरान 56 वर्षीय मोहन लाल जो एक चालक थे, उन्होंने भी इस टेस्ट में हिस्सा लिया था, मोहन लाल जो इस दौड़ में हिस्सा लेने के लिए प्रयागराज से लखनऊ पहुंचे थे। उनकी इस दौड़ लगाने के दौरान मृत्यु हो गई।

मोहन लाल शुरुआत में अच्छे दिख रहे थे लेकिन पांच चक्कर लगाने के बाद छठे चक्कर में वह अचानक से जमीन पर गिर गए। डिपार्टमेंट के लोग उन्हें फौरन हस्पताल लेकर गए लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी, डॉक्टरों ने उन्हें चेक कर मृतक घोषित कर दिया। इस मामले में बयान देते हुए चीफ फायर ऑफिसर वीके सिंह ने बताया कि लखनऊ के अंदर अलग-अलग जिलों से 19 चालकों ने इस टेस्ट में हिस्सा लिया था जिसमे मोहन लाल भी थे।

यह भी पढ़े- आशीष अपने ही फैलाए जाल में फसे, अपने जवाबों से नहीं कर पाए एसआईटी को संतुष्ट

वीके सिंह ने बताया कि प्रमोशन के लिए चालकों को पीएसी मैदान के कुल 8 चक्कर लगाने थे। यह दूरी करीब 3200 मीटर की थी। उन्होंने आगे कहा कि मोहन लाल ने पांच चक्कर लगा लिए थे, जब वह 6वा चक्कर लगा रहे थे तभी अचानक वह बेहोश होकर जमीन पर गिर गए। उन्हें तुरंत एंबुलेंस के जरिए हस्पताल ले जाया गया लेकिन इस दौरान वह जिंदगी की दौड़ हार चुके थे।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKTWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img