Homeदेश & राज्यतीनों कृषि कानून के रद्द होने पर सीएम केजरीवाल की प्रतिक्रिया, बोले...

तीनों कृषि कानून के रद्द होने पर सीएम केजरीवाल की प्रतिक्रिया, बोले सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा आज का यह दिन

देश के अन्य दाताओं के लिए आज जीत का दिन है। पिछले 10 महीने से ज्यादा समय से धरने पर बैठे किसानों की जीत हुई है। दरअसल आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए तीनों कृषि कानून को वापस लेने का ऐलान कर दिया है। पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद किसानों में खुशी की लहर दौड़ी है, उसका कोई अंदाजा भी नहीं लगा सकता है। वहीं इस मामले पर सियासत भी तेज हो गई है।

बीजेपी के नेताओं ने एक के बाद एक ट्वीट करके पीएम के इस फैसले की जहां तारीफ की, तो वहीं विपक्षी दलों ने सरकार पर हमलावर रुख अपनाया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसे भारत के इतिहास का सुनहरा दिन बताया। उन्होंने कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में 15 अगस्त और 26 जनवरी की तरह लिखा जाएगा।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि आज सिर्फ किसानों की जीत नहीं हुई है आज जनतंत्र की जीत हुई ह। जनतंत्र में हमेशा जनता की बात सुनी जाती है।कोई भी पार्टी हो ,कोई भी नेता हो जनता के सामने आपका अहंकार नहीं चलेगा। केजरीवाल ने कहा कि इस लड़ाई में पूरे देश को एक कर दिया। इस लड़ाई में सब ने हिस्सा लिया। पूरा देश धर्म और जाति से ऊपर उठकर किसानों के साथ खड़ा था। जिन्होंने सड़क पर तीनों काले कानून के खिलाफ लड़ाई लड़ी।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि आखिरकार केंद्र सरकार को किसानों के आगे झुकना पड़ा। पूरी दुनिया के इतिहास में शायद ही इससे बड़ा लंबा कोई आंदोलन हुआ हो, इतने शांतिपूर्ण तरीके से लाखों लोगों ने संघर्ष किया।ठंड , धूप, बरसात में कोई पीछे नहीं हटा. उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि इस आंदोलन को तोड़ने के लिए सरकार ने सिस्टम ने सभी एजेंसियों ने जाने क्या-क्या कोशिश की. किसानों को आतंकी खालिस्तानी, देश विरोधी कहा गया. हर तरीके से किसानों को घेरकर उनका हौसला तोड़ने की कोशिश की गई। लेकिन किसानों ने आजादी के दीवानों की तरह लड़ाई लड़ी और जीती।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि किसानों के प्रबल साहस के सामने वाटर कैनन का पानी सूख गया, लाठी टूट गई, कील गल गई लेकिन सरकार किसानों का जज्बा नहीं तोड़ पाई। आज एक बात का दुख है कि 700 से ज्यादा किसानों ने अपनी जान गंवा दी। इनकी जान बचाई जा सकती थी अगर ये कानून पहले ही वापस ले लिया गया होता। इन शहीदों को मेरा नमन।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -