Homeदेश & राज्यBijali Sankat: देश के लोग हो जाएं सावधान, कोयले की कमी से...

Bijali Sankat: देश के लोग हो जाएं सावधान, कोयले की कमी से बिजली संकट पर सियासी करंट

देश में बिजली का संकट आ सकता है। कई देशों में जरूरत से ज्यादा बारिश होने के चलते कोयले की आवाजाही प्रभावित होने से राजस्थान, दिल्ली और पंजाब समेत कई राज्यों में बिजली संकट गहरा गया है यानी देश में कोयले का संकट मंडरा रहा है। कई शहरों के बिजली प्लांट में कोयले की सप्लाई बंद हो गई है और अब ब्लैक आउट का डर सताने लगा है। एक तरफ पावर प्लांट्स में कोयले की कमी से जुड़ी रिपोर्ट्स आ रही है। उत्तर प्रदेश समेत कुछ राज्यों में घंटों बिजली कटौती हो रही है। दूसरी ओर राज्य सरकारें संकट भांपकर केंद्र सरकार से गुहार लगा रही हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी पीएम मोदी को पत्र लिखकर चिंता जाहिर की। अरविंद केजरीवाल के ट्वीट के बाद केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने बिजली संकट को नकारते हुए कहा कि न कोई संकट था और न ही होगा और सरकार की नजर बनी हुई है।

बिजली संकट पर सियासी संग्राम

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राजधानी के पावर प्लांट में में कोयले की किल्लत पर अलार्म बेल बजा दिया है। कोयले की किल्लत पर मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि दिल्ली में अगर 24 घंटे का स्टॉक बचा तो हमें भी पावर कट प्लान करना पड़ेगा। मनीष सिसोदिया ने कहा कि, कई पावर प्लांट में कोयले की किल्लत है और प्लांट बंद भी हुए हैं। कोयले की समस्या पर सियासत भी शुरू हो गई है। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कोयले की किल्लत की आशंकाओं पर केंद्र सरकार पर करारा हमला किया है। उन्होंने कहा है कि, बीजेपी से देश नहीं चल रहा है और वो इस संकट से भागने के बहाने ढूंढ रहे हैं। मनीष सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने ऊर्जा मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस सुनी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि कोयले की दिक्कत नहीं है। सिसोदिया ने कहा कि ऊर्जा मंत्री दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पत्र लिखने पर आपत्ति जता रहे थे, लेकिन ये केंद्रीय मंत्री का गैर जिम्मेदराना बयान है। दिल्ली के डिप्टी सीएम ने कहा कि इसी तरह जब देश में कुछ महीने पहले ऑक्सीजन संकट हुआ था तो केंद्र सरकार मान नहीं रही थी, तब कई राज्यों ने भी गुहार लगाई थी, लेकिन केंद्र सुनने को राजी नहीं था. सिसोदिया ने कहा कि तब मोदी सरकार आंख बंद कर बैठी रही और अब फिर बेशर्मी से कह रही है कि कोयले की कोई दिक्कत नहीं है।

कोयले की किल्लत…बड़ी समस्या

उत्तर प्रदेश में भी कई जिलों में बिजली गुल होने की खबर सामने आई। अलीगढ़ विद्युत विभाग के एसडीओ अरविंद कुमार ने बिजली की आपूर्ति कम होने के चलते लोगों से सहयोग की अपील की है। कोयले की कमी पर विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना महामारी से उबरती अर्थव्यवस्था में बिजली की मांग में तेज वृद्धि और इसके आपूर्ति के मुद्दों के कारण कोयले की कमी हो गई है। कोरोना महामारी से पहले भारत में अगस्त 2019 में 106 बिलियन यूनिट बिजली की खपत हुई थी लेकिन अगस्त 2021 में यह बढ़कर 124 बिलियन यूनिट तक पहुंच गई है।

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img