Homeदेश & राज्यपेट्रोलियम मंत्रालय ने आज बैठक में लिया बड़ा फैसला, पेट्रोल और डीजल...

पेट्रोलियम मंत्रालय ने आज बैठक में लिया बड़ा फैसला, पेट्रोल और डीजल के दाम में हो सकती है कटौती

देश में पेट्रोल और डीजल के दाम लगातार आसमान छू रहे हैं, जो केंद्र सरकार के लिए सिरदर्द बन गए हैं। आने वाले कुछ वक्त में जब उत्तर प्रदेश और पंजाब में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं ऐसे में भारतीय जनता पार्टी को डर है कि कही पेट्रोल और डीजल के दाम उन्हें महंगे ना पड़ जाए। इस चीज को ध्यान में रखते हुए पेट्रोलियम मंत्रालय ने मंगलवार को एक बैठक की जिसमे एक बड़ा फैसला लिया गया है, आने वाले कुछ वक्त में पेट्रोल और डीजल के दाम और भी घटाए जा सकते हैं।

सूचना के अनुसार केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल के दामों को कम करने के लिए रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार से करीब 50 लाख बैरल कच्चा तेल रिलीज कर सकती है, इतनी ज्यादा मात्रा में कच्चा तेल रिलीज करने से पहले भारत सरकार अमेरिका, जापान, चीन और दक्षिण कोरिया जैसे कुछ बड़े कच्चे तेल के उपभोक्ता देशों के साथ विचार-विमर्श करेगी उसके पश्चात ही कोई निर्णय लिया जाएगा। आपको बता दे यह देश एक ही समय अपने रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार से कच्चा तेल रिलीज कर सकते हैं, ऐसा कहा जा रहा है कि कच्चे तेल के रिलीज से बाजार में कच्चे तेल की कीमत काफी नीचे आ सकती है।

Global crude oil price rise despite rising Covid-19 surge. Here's why -  Business News

भारत कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है, भारत से ऊपर सिर्फ अमेरिका और चीन हैं। कच्चे तेल के सबसे बड़े उपभोक्ता सूची में रूस, जापान और दक्षिण कोरिया जैसे देश भी शामिल हैं। कच्चे तेल के उत्पादक देश और खाड़ी देशों ने इसके उत्पादन को पिछले कुछ वक्त में काफी सीमित कर दिया है, जिसके कारण अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत आसमान छू रही है।

यह भी पढ़े- अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में आई गिरावट, राष्ट्र स्तर पर पेट्रोल और डीजल के दाम स्थिर

भारत और अन्य देशों द्वारा बार-बार कहे जाने के बावजूद कच्चे तेल के उत्पादक देशों ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की सप्लाई को नहीं बढ़ाया है। इसकी वजह से अमेरिका और भारत ने रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार से कच्चे तेल के रिजर्व को रिलीज करने का मन बना लिया है ताकि इसकी कीमत को काबू किया जा सके।

Crude oil reserves: Filling the strategic gap | Business News,The Indian  Express

भारत सरकार जो हमेशा से कच्चे तेल को तर्कसंगत, जिम्मेदार और बाजार के बहाव को देखते हुए बढ़ाने और घटाने के पक्ष में रही है, ऐसे में भारतीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की स्थिति पर काफी चिंता जताई है। राष्ट्र स्तर पर पेट्रोल और डीजल के दामों को नियमित करने के लिए मोदी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन उसके बावजूद पेट्रोल और डीजल के दाम सौ का आंकड़ा छू रहे हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -