Amrit Mahotsav:अमृत महोत्सव के तहत जीएलए में ईच वन सेव वन पर हुई कार्यशाला

Date:

Amrit Mahotsav: 75वें आजादी के अमृत महोत्सव के तहत जीएलए विश्वविद्यालय , मथुरा ने मथुरा आर्थोपेडिक एसोसिएशन के बैनर तले ईच वन सेव वन की थीम बेसिक लाइफ सपोर्ट पर कार्यशाला आयोजित करायी। चिकित्सकों ने जीएलए परिवार के सदस्यों को आकस्मिक स्थिति में अपनी और दूसरों की जिंदगी कैसे बचायें के बारे में कार्डियो प्रेक्टीकल करके पूरी जानकारी दी।

जीएलए विश्वविद्यालय में ईच वन सेव वन पर दो सत्रों में कार्यशाला आयोजित


शुक्रवार को जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत बेसिक लाइफ सपोर्ट-ईच वन सेव वन पर दो सत्रों में कार्यशाला आयोजित हुई।जिसमें मथुरा आर्थोपेडिक एसोसिएषन के प्रेसीडेंट डॉ. निर्विकल्प अग्रवाल एवं सेके्रटरी डॉ. प्रवीन गोयल ने कार्डियो अरेस्ट के दौरान हृदय, मस्तिष्क व फेफड़ों सहित शरीर के बाकी हिस्सों में खून पंप नहीं होता है। जिसके उपचार के बिना कोई भी घटना मिनटों में हो सकती है। सीपीआर में मरीज छाती को एक विशेष तरीके से दवाब दिया जाता है।जिससे दोबारा रक्त संचार किया जा सकता है। ऐसे में सीपीआर देने से मरीज के जीवित रहने की संभावना दो या तीन गुना बढ़ जाती है।

छात्रों को दी जानकारी

प्रथम और दूसरे सत्र में छात्र, शिक्षक और अन्य स्टाफ सदस्यों को आकस्मिक होने वाली घटनाओं से बचाव एवं स्वास्थ्य को कैसे ठीक रखें और विटामिन की कमी को पूरा करने के लिए किस चीज जरूरत होगी के बारे में प्रेक्टीकल के माध्यम से पूर्ण जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि प्रति घंटे में भारत देश में रो एक्सीडेंट की वजह से करीब 16 से 20 व्यक्ति अपनी जिंदगी से हाथ धो बैठते हैं। इसमें से कुछ ऐसे व्यक्ति होते हैं, जिन्हें समय पर उचित इलाज नहीं मिल पाता है। भले ही घायल व्यक्ति के पास से कोई अपना या अन्य व्यक्ति मार्ग से गुजर रहा हो। वह उसे बचाने के लिए जानकारी के अभाव की वजह से हाथ भी नहीं लगाता। इसलिए आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति को स्वास्थ्य के क्षेत्र में सामाजिक जानकारी होना अतिआवश्यक है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि एक व्यक्ति की जान बचाने से अच्छा और पुण्य कार्य कोई नहीं है।

डॉ. निर्विकल्प ने किया संबोधित

डॉ. निर्विकल्प ने बताया कि आपके सामने किसी भी व्यक्ति के साथ घटना घटित हो जाती है और वह अचेत अवस्था में है तो तत्काल 112 इमरजेंसी नंबर पर कॉल करें। यह कॉल तीन विभाग पुलिस, स्वास्थ्य और अग्निशमन विभाग को पहुंचेगी। यहां जो भी जरूरत होगी उस विभाग के संबंधित व्यक्ति या एंबुलेंस घटना स्थल पर पहुंचेंगे।एंबुलेंस न आने तक अचेत व्यक्ति में कैसे सुधार लाया जा सकता है और उसे किस प्रकार सामान्य इलाज मुहैया कराया जा सकता है के बारे में जानकारी दी। किसी भी घायल व्यक्ति की सहायता करना गुनाह नहीं है। वर्श 2019 में सरकार ने सुरक्षा कानून में काफी बदलाव इसलिए किए हैं।

डीन एकेडमिक प्रो. अशीष शर्मा ने कार्यशाला के बारे में दी जानकारी

डीन एकेडमिक प्रो. अशीष शर्मा ने कार्यशाला के बारे में कहा कि विद्यार्थियों और स्टाफ सदस्य को स्वास्थ्य और सुरक्षा के क्षेत्र में जानकारी हेतु मथुरा ऑर्थोपेडिक एसोसिएशन के पदाधिकारियों द्वारा अच्छी और बेहतर जानकारी प्रेक्टीकल के माध्यम से मुहैया करायी, जो कि आज के समय अतिआवश्यक है। हर व्यक्ति को किसी की घायल व्यक्ति की जान बचाने के लिए आगे आना चाहिए। इसी दौरान ही स्वास्थ्य के क्षेत्र में दी गई जानकारी काम आती है।

ये भी पढ़ें: Independence Day: आजादी से जुड़े कुछ सवालों के जवाब, भारतीयों को जानना जरूरी


कार्यशाला के अंत में प्रतिकुलपति प्रो. अनूप कुमार गुप्ता ने मथुरा आर्थोपेडिक एसोसिएशन के पदाधिकारियों को स्मृति चिन्ह् भेंट किया। इस अवसर पर विद्यार्थियों सहित विभिन्न विभाग के विभागाध्यक्ष और शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें: NEP 2022: अब कोई नहीं होगा फेल, UG सेमेस्टर परीक्षाओं में शून्य लाने पर भी होंगे प्रमोट

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

Janmashtami: जन्माष्टमी के मौके पर बांके बिहारी मंदिर में मची भगदड़, मंगला आरती के दौरान हुआ हादसा

Janmashtami: कृष्ण नगरी मथुरा वृंदावन के विश्व प्रसिद्ध ठाकुर...