Homeएजुकेशन & करिअरGLA University: जीएलए में अल्यूमिनाई ‘गेट टू गेदर‘ कार्यक्रम संपन्न

GLA University: जीएलए में अल्यूमिनाई ‘गेट टू गेदर‘ कार्यक्रम संपन्न

जीएलए विश्वविद्यालय मथुरा एक संस्थान ही नहीं, बल्कि एक परिवार है और जब परिवार की बात आती है तो संस्थान से पढ़ाई कर चुके विद्यार्थी आज लगभग विश्व के अधिकतर देशों में जीएलए और भारत का परचम लहरा रहे हैं। उनसे समय-समय पर मिलकर बहुत बातें करना जीएलए का हिस्सा है।

इसी के अन्तर्गत स्थानीय एक होटल में आयोजित ‘गेट टू गेदर‘ कार्यक्रम में जीएलए विश्वविद्यालय से अध्ययनरत दिल्ली चैप्टर के 2002 से लेकर 2013 तक के अल्यूमिनाई एकजुट हुए। जब सभी अल्यूमिनाई एकजुट हुए तो एक दूसरे के बीच काफी लंबी बातें हुईं और पुरानी याददाश्त को ताजा करते हुए जमकर हंसी-ठिठोली भी हुई। विश्वविद्यालय के अल्यूमिनी रिलेशन विभाग के पदाधिकारियों ने सभी अल्यूमिनाई का स्वागत सत्कार किया।

अपने सभी अल्यूमिनाई से मुलाकात करते हुए जीएलए विश्वविद्यालय के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर एवं एनएचआरडीएन मथुरा चैप्टर के प्रेसीडेंट नीरज अग्रवाल ने सभी से उनके सफलतम कार्यों के बारे में जानकारी जुटाई। तत्पश्चात् कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नीरज अग्रवाल ने पिछले 24 वर्षों में विश्वविद्यालय की उत्तरोत्तर प्रगति के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि कुलाधिपति नारायण दास अग्रवाल की अध्यक्षता में जीएलए आज एक वटवृक्ष बन चुका है, जो कि प्रतिवर्ष हजारों विद्यार्थियों को रोजगार देने के साथ-साथ उद्यमिता की ओर भी अग्रसर कर रहा है। आज विश्वविद्यालय से ही अध्ययनरत छात्र स्टार्टअप लॉचपैड, इन्क्यूबेशन सेंटर, न्यूजेन आइईडीसी आदि के माध्यम से विभिन्न प्रोटाटाइप के पेटेंट ग्रांट और 50 से अधिक कंपनी रजिस्टर्ड करा चुके हैं। यानि केन्द्र सरकार की पहल आत्मनिर्भर भारत की ओर विश्वविद्यालय के छात्रों ने कदम बढ़ा दिए हैं।

ये भी पढ़ें: UPSC Prelims Result 2022: यूपीएससी प्रीलिम्स का परिणाम हुआ घोषित, यहां देखें रिजल्ट

उन्होंने कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में दिल्ली, मुंबई-पुणे और बैंगलुरू तीन चैप्टर हैं। इन चैप्टरों से 33 हजार से अधिक अल्यूमिनाई जुडे़ हैं। यह सभी विश्वविद्यालय परिवार का हिस्सा हैं। इसी परिवार से जुड़ना, मीटिंग करना, अनुभव साझा करना और आज 20 से 24 वर्ष पुराने पास आउट छात्रों से जो इंडस्ट्री चाहती है, उसके बारे में जानकारी लेकर अपने कोर्स क्यूरिकुलम को बदलना, ऐसी बहुत कुछ बातें जीएलए का हिस्सा हैं। इसी दृष्टिकोण के मद्देनजर समय-समय पर ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

इस अवसर पर सीनियर एग्जीक्यूटिव अल्यूमिनी रिलेशन गीतांजली शर्मा, दिल्ली चैप्टर से इंडियन आर्मी में मेजर दीपक गुप्ता, मिनिस्ट्री ऑफ कम्यूनिकेशन में असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल संचित कुमार गर्ग, मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक एंड आईटी विभाग में मैनेजर देवाशीष सक्सेना, चैप्टर के प्रेसीडेंट एवं बेकटेल इंडिया में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर ग्रुप सुपरवाइजर आशीष बंसल, इंडसइंड बैंक में मैनेजर सर्विस एश्योरेंस श्रद्धा प्रताप सिंह, सोपरा बैंकिंग सॉफ्टवेयर में सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर अनुज सारस्वत, कैडेंस डिजाइन सिस्टम में लीड़ एप्लीकेशन इंजीनियर अतिशत मुखोपाध्याय, नोकिया सॉल्यूषन एंड नेटवर्क में सर्विस प्रोडक्ट मैनेजर मिलन चक्रवर्ती, सर्विसबेरी टेक्नोलॉजी में टीम लीड रेषु सलुजा आदि कंपनियों से एचआर मैनेजर, टीम लीड, डायरेक्टर, एसोसिएट मैनेजर आदि अल्यूमिनी शामिल हुए।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -