- विज्ञापन -

Latest Posts

GLA University के नीरज ने 1200 से अधिक इंटर स्कूली छात्रों को किया मोटीवेट

GLA University: एक हजार से अधिक छात्रों से खचाखच भरा हुआ हाॅल, नजरें सिर्फ मंच पर। सुनने को आतुर, चेहरे की लालिमा, ऊर्जा, कुछ जानने की ललक और चेहरे का ओझ देखते ही बन रहा था। इंतजार था सिर्फ मोटीवेशनल स्पीकर के द्वारा छात्रों को मोटीवेट करने का। जैसे ही जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा की प्रयास टीम द्वारा आगरा के सूरसदन हाॅल में आयोजित ‘सुनो तो अपने दिल की‘ कार्यक्रम में शहर के करीब 7 से अधिक इंटर स्कूल गनेश राम नगर सरस्वती बालिका विद्या मंदिर, सरस्वती विद्या मंदिर, सुमित राहुल गोल मैमोरियल स्कूल, राघवेन्द्र स्वरूप पब्लिक स्कूल, जीएस पब्लिक स्कूल, राधाबल्लभ पब्लिक स्कूल, यूनिवर्सिटी पब्लिक स्कूल के 1200 से अधिक छात्र-छात्राओं सहित स्कूली शिक्षकों ने भी प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं की लालिमा देखने लायक थी।

1200 से अधिक इंटर स्कूली छात्रों को किया मोटीवेट

छात्र-छात्राओं को मोटीवेट करते हुए सीईओ एवं मोटीवेशनल स्पीकर नीरज अग्रवाल ने प्रेरणादायक शेर के के माध्यम से शुरूआत करते हुए कहा कि आगे वही बढ़ता है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौंसलों से उड़ान होती है। आज इस कार्यक्रम में आधे से अधिक लड़कियां हैं। आने वाले 10 सालों में देश के प्रत्येक क्षेत्र में लड़कियां अपना परचम लहरा रही होंगी। आगे उन्होंने धीरू अंबानी के पेषन और लक्ष्य के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जितने बड़े लोग होते हैं वह हमेशा जिद्दी होते हैं, जो कि अपने लक्ष्य को साधकर चलते हैं। अर्जुन की तरह लक्ष्य साधने की जरूरत है, क्योंकि अर्जुन को उस दौरान सिर्फ मछली की आंख दिख रही थी, जो कि उनका एक लक्ष्य था और पूरा किया।सफलता के लिए छात्रों को एक संदेश के माध्यम से कहा कि विद्यार्थियों अगर कोशिशि पूरी नहीं हो रही है तो यकीन मानिए पूरी कोशिश नहीं हो रही है। इसके साथ ही उन्होंने एक सफल दिव्यांग की फोटो दिखाते हुए कहा कि यकीन मानिए कोई भी उम्मीद खो देना, हाथ पांव खो देने से कहीं अधिक बुरा है। अगर हम सभी को ईष्वर ने दो हाथ और दो पैरों से नवाजा है तो उनका प्रयोग करो और उम्मीद से कहीं अधिक आगे बढ़ने की कोशिश करो। श्री अग्रवाल ने अपने वक्तव्य को अंतिम रूप देते हुए कहा कि यह कभी नहीं सोचना चाहिए कि ये करने या वो करने से कोई क्या सोचेगा। अरे कोई कुछ नहीं सोचेगा, जो करोगे वह अपने लिए करोगे। इसलिए आगे बढ़ने के लिए कुछ नया करना ही होगा।

प्रमुख लोग रहे मौजूद


अंत में सीईओ ने टीम प्रयास के वाइस प्रेसीडेंट साइबल चटर्जी और उनकी टीम को सुनो तो अपने दिल की कार्यक्रम के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि प्रयास टीम के माध्यम से ही इंटर स्कूली छात्रों को आगे के स्कोप के बारे में अत्यधिक जानकारी हासिल होती है। कार्यक्रम का संचालन साइबल चटर्जी ने किया। मोटीवेषनल स्पीकर के बारे में जानकारी डाॅ. अमित अग्रवाल ने दी।, मथरा के सीईओ एवं मोटीवेषनल स्पीकर नीरज अग्रवाल मंच पर पहुंचे तो तालियों की गड़गड़ाहट स्वागत के लिए हाॅल में गूंज उठी।
जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा की प्रयास टीम द्वारा आगरा के सूरसदन हाॅल में आयोजित ‘सुनो तो अपने दिल की‘ कार्यक्रम में षहर के करीब 7 से अधिक इंटर स्कूल गनेष राम नगर सरस्वती बालिका विद्या मंदिर, सरस्वती विद्या मंदिर, सुमित राहुल गोल मैमोरियल स्कूल, राघवेन्द्र स्वरूप पब्लिक स्कूल, जीएस पब्लिक स्कूल, राधाबल्लभ पब्लिक स्कूल, यूनिवर्सिटी पब्लिक स्कूल के 1200 से अधिक छात्र-छात्राओं सहित स्कूली शिक्षकों ने भी प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं की लालिमा देखने लायक थी।
छात्र-छात्राओं को मोटीवेट करते हुए सीईओ एवं मोटीवेशनल स्पीकर नीरज अग्रवाल ने प्रेरणादायक शेर के के माध्यम से शुरूआत करते हुए कहा कि आगे वही बढ़ता है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौंसलों से उड़ान होती है। आज इस कार्यक्रम में आधे से अधिक लड़कियां हैं। आने वाले 10 सालों में देष के प्रत्येक क्षेत्र में लड़कियां अपना परचम लहरा रही होंगी। आगे उन्होंने धीरू अंबानी के पेशन और लक्ष्य के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जितने बड़े लोग होते हैं वह हमेशा जिद्दी होते हैं, जो कि अपने लक्ष्य को साधकर चलते हैं। अर्जुन की तरह लक्ष्य साधने की जरूरत है, क्योंकि अर्जुन को उस दौरान सिर्फ मछली की आंख दिख रही थी, जो कि उनका एक लक्ष्य था और पूरा किया।

ये भी पढ़ें: Rojgar Mela 2022: रोजगार मेले के तहत आज 71000 आवेदकों को पीएम मोदी ने दिया नियुक्ति पत्र, कई विभागों में नौकरी


सफलता के लिए छात्रों को एक संदेष के माध्यम से कहा कि विद्यार्थियों अगर कोशिश पूरी नहीं हो रही है तो यकीन मानिए पूरी कोषिष नहीं हो रही है। इसके साथ ही उन्होंने एक सफल दिव्यांग की फोटो दिखाते हुए कहा कि यकीन मानिए कोई भी उम्मीद खो देना, हाथ पांव खो देने से कहीं अधिक बुरा है। अगर हम सभी को ईश्वर ने दो हाथ और दो पैरों से नवाजा है तो उनका प्रयोग करो और उम्मीद से कहीं अधिक आगे बढ़ने की कोशिश करो। श्री अग्रवाल ने अपने वक्तव्य को अंतिम रूप देते हुए कहा कि यह कभी नहीं सोचना चाहिए कि ये करने या वो करने से कोई क्या सोचेगा। अरे कोई कुछ नहीं सोचेगा, जो करोगे वह अपने लिए करोगे। इसलिए आगे बढ़ने के लिए कुछ नया करना ही होगा।


अंत में सीईओ ने टीम प्रयास के वाइस प्रेसीडेंट साइबल चटर्जी और उनकी टीम को सुनो तो अपने दिल की कार्यक्रम के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि प्रयास टीम के माध्यम से ही इंटर स्कूली छात्रों को आगे के स्कोप के बारे में अत्यधिक जानकारी हासिल होती है। कार्यक्रम का संचालन साइबल चटर्जी ने किया। मोटीवेषनल स्पीकर के बारे में जानकारी डाॅ. अमित अग्रवाल ने दी।

Also Read: Tanmay Manjunath: उम्र 16 साल लेकिन जड़ दिए 165 गेंद में 407 रन, लगाए ताबड़तोड़ 48 चौके और 24 छक्के

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल