Homeएजुकेशन & करिअरजीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा में पद्मश्री प्रो. एचसी वर्मा का टेक्निकल व्याख्यान

जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा में पद्मश्री प्रो. एचसी वर्मा का टेक्निकल व्याख्यान

जीएलए के विद्यार्थियों को विज्ञान और अनुसंधान के क्षेत्र में आगे बढ़ने और अवसर तलाशने का दिया मंत्र

जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा में विभिन्न कोर्सों के विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए पदमश्री से सम्मानित प्रोफेसर एचसी वर्मा ने कहा कि किसी भी देश का विकास छात्रों के विकास के साथ जुड़ा हुआ होता है। इसके मद्देनजर यह जरूरी हो जाता है। कि जीवन के हर पहलू में विज्ञान-तकनीक और शोध कार्य अहम भूमिका निभाएं विकास के पथ पर कोई देश तभी आगे बढ़ सकता है जब उसकी आने वाली पीढ़ी के लिये सूचना और ज्ञान आधारित वातावरण बने और उच्च शिक्षा के स्तर पर शोध तथा अनुसंधान के पर्याप्त संसाधन उपलब्ध हो।जीएलए विश्वविद्यालय, मथुरा में एक दिवसीय टेक्निकल टॉक प्लेइंग विद फिजिक्स का आयोजन किया। इस विषय पर आधारित टेक्निकल टॉक के दौरान प्रोफेसर एचसी वर्मा ने एक्सपेरिमेंटल फिजिका विषय से संबंधित अपना ज्ञान और अनुभव विद्यार्थियों शोधार्थियों एवं शिक्षकगणों के साथ साझा किया। अपने व्याख्यान के दौरान उन्होंने बताया कि एक्सपेरिमेंटल फिजिक्स, भौतिकी के क्षेत्र में विषयों और उप-विषयों की श्रेणी है जो भौतिक घटनाओं और प्रयोगों के अवलोकन से संबंधित है। इस दिया का लक्ष्य उस स्पष्टीकरण को लागू करना है जिसे नई घटनाओं की व्याख्या करने या तकनीकी उपकरणों को डिजाइन करने के लिए परीक्षण किया गया है।

उन्होंने विज्ञान जगत की एक अन्य संकल्पना तथा शोध की अपार संभावनाएं लिए विषय क्वांटम फिजिक्स पर भी विस्तृत चर्चा की। उन्होंने बताया कि क्वांटम फिजिक्स सबसे मौलिक स्तर पर पदार्थ और ऊर्जा का अध्ययन है। इसका उद्देश्य प्रकृति के निर्माण खंडों के गुणों और व्यवहारों को उजागर करना है। जबकि कई वादन प्रयोग बहुत छोटी वस्तुओं की जान करते हैं, जैसे कि इलेक्ट्रॉन और फोटॉन क्वांटम घटनाए हमारे चारो ओर होती है।टेक्निकल टॉक का शुभारंभ मुख्य अतिथि पदमश्री से सम्मानित आईआईटी कानपुर के एमेरिट्स प्रोफेसर एचसी वर्मा और विश्वविद्यालय के डीन एकेडमिक प्रो. आशीष शर्मा ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत से पूर्व प्रो. आशीष शर्मा ने मुख्य अतिधि का परिचय देते हुए बताया कि पदमश्री प्रो. एच सी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर में भौतिकी विभाग में प्रोफेसर रहे हैं, जिन्हें हाल ही में भारत के राष्ट्रपति द्वारा सन 2020 के लिए पदम श्री पुरस्कार से नवाजा गया है। यह पुरस्कार प्रो वर्मा को भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपने अभूतपूर्व योगदान के लिए प्राप्त हुआ है।

दिल्ली में स्कूल खोलने जाने को लेकर बड़ा अपडेट, शिक्षा निदेशालय ने जारी किया नोटिस

इस बहुउद्देशीय टेक्निकल टॉक में बीटेक, बीसीए, एमसीए एवं अन्य कोर्सों के विद्यार्थियों ने भाग लिया। कार्यक्रम के में कम्प्यूटर साइंस के विभागाध्यक्ष डॉ. रोहित अग्रवाल ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया। कार्यक्रम कोर्स कॉर्डिनेटर नीरज पाय के दिशा-निर्देशन में संपन्न हुआ। कार्यक्रम का संचालन अंग्रेजी विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर अरीबा शब्बीर ने किया। इस अवसर पर प्रतिकुलपति प्रो. अनूप कुमार गुप्ता, कुलसचिव अशोक कुमार सिंह शिक्षक-शिक्षिकायें दो. शशि शेखर डॉ. राकेश गालव, डॉ. हितेंद्र गर्ग, डॉ. नीतू फौजदार डॉ. रिंकू दत्त अनुपम यादव आदि शिक्षक उपस्थित रहे।

यहीं जीएलए विश्वविद्यालय मथुरा के फार्मसी विभाग में फार्मेसी बीक के दौरान विभिन्न विद्यालयों रतनलाल फूल कटोरी, रमन लाल शोरावाला माउंट हिल अकेडमी के छात्र-छात्राएं उपस्थित हुए। इस दौरान विभागीय प्रोफेसर डॉ. जितेन्द्र कुमार गुप्ता द्वारा सभी विद्यार्थियों को फार्मासिस्ट की भूमिका, दवाइयों का प्रभाव व दुष्प्रभाव के बारे में अवगत कराया। साथ ही छात्रों ने दवाईयों को बनाने की विधि जानी गुणवत्ता को कैसे मापा जाए नई-नई दवाइयों का प्रभाव जानने के लिए फार्माकोलॉजी लैब में चूहों और खरगोश पर हो रहे परीक्षण की जानकारी भी ली विभागाध्यक्ष प्रो. मीनाक्षी वाजपेयी ने सभी को धन्यवाद दिया। स्कूली छात्रों के साथ आये अध्यापक रीता, त्रिलोक, योगेश शर्मा, विनती शर्मा, हिमानी रोहित श्रद्धा सारस्वत रिकी का आभार व्यक्त किया। राधिका एवं प्रशांत ने कार्यक्रम का संचालन किया डॉ. योगेश मूर्ति नितिन गो प्रयास टीम के तत्वावधान में कार्यक्रम आयोजित हुआ।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -