Homeहेल्थIVF Failure : क्या होती है आईएफवी फेल्योर होने की वजह, जानिए...

IVF Failure : क्या होती है आईएफवी फेल्योर होने की वजह, जानिए कैसे इससे निपटें?

IVF Failure : जिन शादीशुदा जोड़ों को बेबी कंसीव करने में परेशानी आती है या फिर वह बेबी कंसीव ही नहीं कर सकते हैं तो ऐसे में आईवीएफ एक बड़ा सहारा माना जाता है। आजकल हर कोई इन विट्रो फर्टिलाइजेशन या आईवीएफ का सहारा ले रहा है।यह एक प्रभावी प्रक्रिया है, जिसने भारत में कई शादीशुदा जोड़ों की सहायता की है जिन्हें गर्भधारण करने में कठिनाई होती है। लेकिन कई बार यह प्रक्रिया विफल हो जाता है। इसके पीछे की वजह क्या है? दरअसल हर मेडिकल प्रोसीजर में कभी भी पॉजिटिव रिजल्ट का वादा नहीं किया जा सकता है आईवीएफ का परिणाम कई कारकों पर निर्भर करता है इसलिए आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए जाने से पहले अपने आईवीएफ एक्सपर्ट से सलाह लें और समझे कि यह कैसे काम करेगा। आज हम आईवीएफ सेंटर के कुछ कारणों पर भी चर्चा करेंगे और बताएंगे कि इससे कैसे उबरा जा सकता है।

IVF फेल्योर के ये हैं कारण

आईवीएफ उपचार विफल हो गया यह जाने के बाद भी आपको इस बारे में बहुत कम जानकारी होती है कि इस प्रक्रिया में क्या गलत हुआ है यह कई कारकों के आधार पर अलग अलग हो सकते हैं।

भ्रूण प्रत्यारोपण: एक भ्रूण जिसे सफलतापूर्वक निश्चित किया गया है मगर गर्भाशय और प्रत्यारोपण पर कुंडी लगाने में वह विफल हो सकता है।

अनुकूल भ्रूण की कमी: आईवीएफ टेस्ट के दौरान आपका डॉक्टर किसी भी व्यवहार्य भ्रूण का पता नहीं लगा पाया, जिससे गर्भावस्था हो सकती है तो यह प्रक्रिया फेल हो सकती है।

अंडो का निषेचित करने में विफल होना: भ्रूण बनने से पहले ही अंडे शुक्राणुओं द्वारा निश्चित होने में विफल हो सकते हैं यह अंडे या शुक्राणुओं की समस्या के कारण हो सकता है।

Also Read: Name Astrology: अपनी मर्जी के मालिक होते हैं V नाम के लोग, करते हैं जी तोड़ मेहनत

हाई क्वालिटी अंडों की कमी : भ्रूण के विकास के लिए अंडे उच्च गुणवत्ता के होने चाहिए। अगर हेल्थी अंडे पर्याप्त रूप में प्राप्त नहीं होते हैं तो भ्रूण के बनने की संभावना बहुत कम होती।

फॉलिकल्स कि अपर्याप्त संख्या: यह आईवीएफ विफलता का एक रूप है जो महिला साथी के अंडे एकत्र करने से पहले होता है। आईवीएफ जारी नहीं रह सकता है, अगर अंडे कि आप पर्याप्त संख्या है तो बेहतर सफलता के लिए अंडे एकत्र करने के लिए और चक्रों की जरूरत हो सकती है।

आइए जानते हैं आईवीएफ विफलता से कैसे निपटें

आईवीएफ फेल्योर मामले के कारण को पहले समझना जरूरी है जैसे आप जल्द से जल्द सामान्य हो सके कुछ चीजों को आप करके फेल्योर से निपटने में मदद पा सकते हैं।

उन सभी चीज की एक सूची बनाएं जिन्हें आप करना पसंद करते हैं और वह सब करने की कोशिश करें अपने माता पिता के साथ रोड ट्रिप पर जाएं। स्वादिष्ट खाना खाए। आप अपने आप को दुख से बाहर रखें।

ज्यादातर महिलाएं आईवीएफ विफलताओं का अनुभव करती हैं उनके साथ जुड़ना चाहे ऑनलाइन फोरम के माध्यम हो या आमने-सामने की बैठक के माध्यम से, आपको अपनी भावनाओं और विचारों को व्यक्त करने में मदद करेगा। आपको कोई ऐसा दोस्त भी मिल सकता है जो आपकी इस तिथि को जानता हो और आप को प्रोत्साहित कर सके।

आईवीएफ के दौरान शरीर कई बदलावों से गुजरता है और अब इसे वापस समान हो जाना चाहिए। आपकी पहली महावरी को आने हैं इसमें कुछ दिन लग सकते हैं, क्योंकि आपके मासिक धर्म चक्र को खुद को रिसेट करने की जरूरत होती है। जब आपका मासिक धर्म आए तो खुश रहें। यह इस बात का संकेत है कि आपका शरीर अच्छी स्थिति में है। एक्यूप्रेशर या अन्य विश्राम तकनीकों का उपयोग करके अपने मन को और शरीर को आराम दें।

आईवीएफ प्रक्रिया की फिर से कोशिश कब कर सकते हैं?

आपको कभी भी विफलताओं के बाद दोबारा कोशिश करने से नहीं रुकना चाहिए। पहली आईवीएफ विफलता के बाद खुद को आराम करने का समय दें और अपने डॉक्टर से जांच कराएं ।आपके शरीर के सामान्य होने के बाद और आप स्वास्थ्य सामाजिक और भावनात्मक स्थिति में होने के बाद फिर से कोशिश करें तो सब अच्छा हो सकता है।

ये भी पढ़ें :Alum For Skin : महंगे कॉस्मेटिक से नहीं फिटकीरी से बनाइए चेहरे को चमकदार, ऐसे करें इस्तेमाल

जरूरी सूचना: इस आर्टिकल में बताई गई विधि तरीके और दावों को केवल सुझाव के रूप में लें। डीएनपी न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी दवा /डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -

Latest Post

Latest News

- Advertisement -