Homeहेल्थवर्ल्ड आर्थराइटिस डे पर जानिए की किन चीजों को खाने से जोड़-हड्डियां...

वर्ल्ड आर्थराइटिस डे पर जानिए की किन चीजों को खाने से जोड़-हड्डियां हो सकती हैं आर्थराइटिस का शिकार

12 अक्टूबर जिसे वर्ल्ड आर्थराइटिस-डे के रूप में मनाया जाता हैं। आर्थराइटिस जो जोड़ो और हड्डियों की एक बीमारी हैं। इस बीमारी से जूझ रहे व्यक्ति को जोड़ो में दर्द या फिर इन्फ्लेमेशन जैसी जटिल समस्या का सामना करना पड़ता हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार 40 फीसदी पुरुष और 47 फीसदी महिलाएं अपने जीवन में इस बीमारी का शिकार होती हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार कुछ ऐसे फूड हैं जो अगर हम खाते हैं तो वह हमें आर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारी दे सकते हैं, इसलिए हमें कुछ ऐसे ही खाने की चीजों का सेवन कम से कम करना चाहिए।

रेड मीट – एक रिपोर्ट के अनुसार रेड मीट आपके शरीर में इन्फ्लेमेशन का प्रमुख कारण हो सकता हैं, यह आपके आर्थराइटिस से खराब हो रही स्थित को और खराब कर सकते हैं।

हाई शुगर – डॉक्टर्स के अनुसार आर्थराइटिस के मरीजों को शुगर का बहुत ध्यान रखना चाहिए अपने खान-पान में, ज्यादा कैंडी, सोडा, सॉस और आइसक्रीम जैसी चीजों को खाने और पीने से आपकी हालत गंभीर हो सकती हैं। यह आर्थराइटिस का जोखिम बढ़ा सकती हैं।

ग्लूटन फूड – गेहूं, जौ और जई जैसे अनाज में ग्लूटन नाम का एक प्रोटीन मौजूद होता हैं। इसके अंदर ग्लाइडिन नाम का एक तत्व मौजूद होता हैं जो शरीर को नुकसान पहुंचता हैं, ग्लूटेन भी इन्फ्लेमेशन की समस्या को आकर्षित करता हैं। इस लिए डॉक्टर्स कई बार आर्थराइटिस के मरीज को ग्लूटेन फ्री फूड खाने को कहते हैं।

सब्जियों का तेल – आपको बता दे की ओमेगा -6 फैट में हाई और ओमेगा-3 फैट में लो डाइट भी ऑस्टियोआर्थराइटिस और रहेयूमेटॉइड आर्थराइटिस वाले मरीजों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह दोनों शरीर के लिए बहुत जरूरी हैं लेकिन इनकी अधिकमात्र नहीं होनी चाहिए, आपको कभी भी ओमेगा -3 का सेवन करने के बाद ओमेगा -6 का सेवन नहीं करना चाहिए।

ज्यादा नमक – अत्यधिक नमक ना केवल आर्थराइटिस बीमारी के लिए बल्कि आपकी पूरी शरीर के लिए सही नही होता, यह अनेकों बीमारियों को बुलाता हैं। नमक का संतुलन में इस्तेमाल करने से रहेयूमेटाइड आर्थराइटिस का जोखिम कम होता हैं।

एल्कोहल – इंफ्लेमेट्री आर्थराइटिस के मरीज को एल्कोहल को बिलकुल भी हाथ नही लगाना चाहिए। यह आपके इंफ्लेमेट्री आर्थराइटिस जो आपके स्पाइनल कॉर्ड पर सीधा असर करता हैं, उसको बढ़ावा देता हैं। एल्कोहल का सेवन आपके स्पाइनल कॉर्ड की हालत गंभीर कर सकता हैं।

यह भी पढ़े- क्या देश की राजधानी में होगी बिजली गुल? जानिए क्या दावे कर रही हैं सरकारें

AGEs युक्त फूड – एडवांस्ड ग्लाइकेशन एंड प्रोडक्ट्स शुगर, फैट और प्रोटीन के मिलाप से बनने वाला एक अणु हैं। यह आमतौर पर जानवरों के मास में होता हैं, हाई प्रोटीन या फिर हाई फैट एनिमल फूड जिसे रोस्टेड, फ्राइड और ग्रिल्ड युक्त डाइट AGEs को बढ़ाता हैं। इंफ्लेमेट्री आर्थराइटिस के मरीजों के लिए इससे परहेज करना अतिआवश्यक हैं।

प्रोसेस्ड फूड- इस तरह के फूड आइटम्स में रिफाइंड ग्रेंस, एक्स्ट्रा शुगर होता हैं। इस तरह का खाना भी आर्थराइटिस को बढ़ावा देता हैं, इसके अत्यधिक सेवन से हार्ट डीसीज और हाई ब्लड शुगर की समस्या हो सकती हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKTWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img