Homeहेल्थRaju Srivastav Heart Attack : हार्ट अटैक आने के बाद क्यों राजू...

Raju Srivastav Heart Attack : हार्ट अटैक आने के बाद क्यों राजू श्रिवास्तव को बचाना हो गया मुश्किल? इस तरह रखें आप अपना ख्याल

Raju Srivastav Heart Attack : दुनिया को दशकों तक हंसाने वाले कॉमेडी किंग राजू श्रिवास्तव आज हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह चुके हैं। एम्स अस्पताल में 42 दिनों की लंबी जंग लड़ने के बाद राजू श्रिवास्त जिंदगी से जंग हार गए। महज 58 साल की उम्र में उनका निधन गया। कहा ये भी जा रहा है कि पहले ही उन्हें डॉक्टर्स ने ब्रेन डेड बता दिया था। इस खबर ने सभी को तोड़ कर रख दिया है और एक सवाल बार बार जो हर किसी के दिमाग में घूम रहा है वो है कि राजू इतना फिट रहते थे। जिम जाते थे , वर्कआउट करते थे। यहां तक कि जिम मे वर्कआउट के दौरान ही उन्हें हार्टअटैक आया, तो आखिर कौन सी वजह से राजू की हालत इस कदर बिगड़ी की दोबारा संभल नहीं पाई

ब्रेन ने रिस्पॉन्स करना बंद कर दिया था


राजू श्रीवास्तव को 42 दिनों तक आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया, एम्स के चार बड़े डॉक्टर उनके ट्रीटमेंट में लगे रहे, लेकिन कोई भी उन्हें दोबारा होश में नहीं ला सका। डॉक्टरों के मुताबिक उनके दिमाग ने रिस्पॉन्स देना बंद कर दिया था

Also Read: Health Tips: क्या आप भी हो चुके हैं कमजोर याददाश्त से परेशान? करें ये काम

ब्रेन इंजरी की वजह से राजू श्रिवास्तव की हालत हुई गंभीर

एम्स के डॉक्टर के मुताबिक राजू श्रिवास्तव को जब हार्ट अटैक आया तो 3 से 4 मिनट उनके ब्रेन मे खून की स्पलाई हुई ही नहीं। इसके चलते राजू के ब्रेन ऑक्सीजन की कमी हो गई और वो ब्रेन इंजरी की गिरफ्त में आ गए। एमआरआई में भी इस बात की पुष्टि हुई थी कि हार्ट अटैक की वजह से उन्हें ब्रेन इंजरी हुई। डॉक्टर विमल का कहना है कि ब्रेन इंजरी से उबरने के लिए काफी वक्त की जरूरत होत है। इसी वजह से राजू भी कोमा में चले गए और जिंदगी की जंग हार गए।

हार्ट अटैक लाइफ थ्रेटनिंग हैं ही लेकिन इससे बचाव भी हो सकता है। इस बारे में विशेषज्ञ डॉक्टर विमल कुमार का कहना है कि हार्ट अटैक आने प र गोल्डन आवर सबसे महत्वपूर्ण होता है। ये किसी भी हादसे या हार्ट अटैक के समय का पहला सबसे जरूरी घंटा है, जिस समय हार्ट अटैक आए उसी वक्त मरीज को तुरंत उपचार मिलना चाहिए

हार्ट अटैक आने पर क्या करें?

डॉक्टर विमल कुमार के मुताबिक अगर आपके पास डिस्प्रिन , इकोस्प्रिन या एसपाइरिन है तो आप इसे मरीज को दे सकते हैं। दवा लेने से पहले अगर तुरंत संभव हो सके तो डॉक्टर से जरूर पूछ लें.इससे खून पतला होता है और कुछ हद तक मददगार साबित होत है। इसके अलावा आप सीपीआर दें। और तुरंत ही अस्पताल ले जाएं।

ये भी पढ़ें: EPFO Update: PF के पैसे को नए अकाउंट में ट्रांसफर करना हुआ आसान, इन टिप्स से चुटकियों में होगा काम

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -

Latest Post

Latest News

- Advertisement -