- विज्ञापन -

Latest Posts

पायलट-गहलोत की तनातनी के बीच KC Venugopal ने अपनाया कड़ा रुख, कहा – ‘बयानबाजी करने वाले 12 घंटे में होंगे कांग्रेस से बाहर’

KC Venugopal: आखिरकार अब कांग्रेस (Congress) में एकजुटता देखने को मिलने लगी है। राजस्थान में भारत जोड़ों यात्रा (Bharat Jodo Yatra) के दाखिल होने से पहले ही यह चमत्कार हो गया है। कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल (KC Venugopal) जयपुर में सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के बीच के झगड़े को मिटाते नजर आए। इससे पहल के सी वेणुगोपाल ने मीटिंग में कहा था कि “अगर आज के बाद कोई भी नेता एक दूसरे के खिलाफ स्टेटमेंट देता है तो मात्र 12 घंटे में मैं उसे पार्टी से हटा दूंगा।”

राहुल गांधी ने किया था मसले के बीच हस्तक्षेप

के सी वेणुगोपाल ने दोनों नेताओं का हाथ पकड़कर ऊपर उठाते हुए बोले कि “हम साथ-साथ हैं। ” लेकिन दोनों नेताओं के बीच मतभेद इतने बढ़ चुके हैं कि हाथ उठाने के बावजूद भी उन्होंने कोई बात नहीं की। यह सुलह एक मात्र इस वजह से हो पाई है क्योंकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा सचिन पायलट को गद्दार कहे जाने के बाद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इस मसले के बीच हस्तक्षेप किया था।

Must Read: BUDGET 2023: पीएम मोदी जारी करेंगे अपना आखिरी पूर्ण बजट, ट्वीट कर मांगे जनता से सुझाव

बैठक से पहले पायलट और गहलोत से नही मिले थे वेणुगोपाल

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महासचिव जयराम रमेश ने साफ तौर पर कह दिया था कि ” के सी वेणुगोपाल को दोनों नेताओं के बीच हुए कलह को सुलझाने के लिए ही जयपुर भेजा जा रहा है।” हालांकि इसके ठीक अगले दिन उन्होंने कहा था कि “भारत जोड़ों यात्रा की बैठक के लिए के सी वेणुगोपाल जयपुर जा रहे हैं।” दरअसल बैठक शुरू होने से पहले ही के सी वेणुगोपाल दोनों नेताओं के बीच नूट्रल दिखने के लिए ना तो सचिन पायलट से ही मिले और ना ही अशोक गहलोत से मिले। ठीक 3:30 पर दोनों ही नेता एक नए अस्पताल रोड के वार रूम में पहुंचे।

Must Read: SATYENDRA JAIN VIDEO: CM KEJRIWAL ने ली BJP की चुटकी, कहा- ‘इसमें रिंकिया के पापा का डांस डलवा दो, कुछ तो एंटरटेनमेंट हो’

राहुल गांधी का संदेश लेकर आए थे वेणुगोपाल

के सी वेणुगोपाल ने मीटिंग में दाखिल होते ही कहा कि ” लिसेन टू मी, आई एम रीपीटिंग लिसेन टू मी। आज के बाद अगर कोई भी नेता एक दूसरे के खिलाफ स्टेटमेंट देता है तो 12 घंटे में उसे कांग्रेस से हटा दूंगा। यह संदेश मुझे राहुल गांधी ने दिया है।” मीटिंग खत्म होने के ठीक बाद के सी वेणुगोपाल ने सचिन पायलट को बुलाया और फिर अशोक गहलोत को बुलाया। इसके बाद वे दोनों को लेकर एक कमरे में चले गए। दोनों को के सी वेणुगोपाल द्वारा यह नसीहत दी गयी की “राहुल गांधी ने यह कहा है कि भारत जोड़ों यात्रा में कोई भी खलल नहीं पड़ना चाहिए और पार्टी के लिए एकजुटता से काम होना चाहिए।”

कांग्रेस ने की सभी मनमुटाव मिटाने की जड़ तक कोशिश

कांग्रेस की यह कोशिश है कि कैसे भी दोनों नेताओं के बीच के मनमुटाव को मिटाया जा सके। ताकि इस झगड़े का असर राहुल गांधी की भारत जोड़ों यात्रा पर ना पड़े। इसके साथ ही पार्टी की यह कोशिश भी है कि सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ऐसी ही तस्वीर भारत जोड़ों यात्रा में भी देखने को मिले। कहा जा रहा है कि शायद राहुल गांधी, सचिन पायलट और अशोक गहलोत का हाथ एक बार फिर से उठवा कर अपनी भारत जोड़ों यात्रा में तस्वीर खिंचवा सकते हैं।

Must Read: BHARAT JODO YATRA ने किया राजस्थान की ओर अपना रुख, सियासी बादलों को देख घबराए कांग्रेस आलाकमान

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल