- विज्ञापन -

Latest Posts

Collegium System: कॉलेजियम से आए 21 नामों की सूची में सिर्फ 2 को सरकार ने दी मंजूरी, कोर्ट और केंद्र के टकराव जारी

Collegium System: जजों की नियुक्ति को लेकर सुप्रीम कोर्ट और सरकार के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। अब यह तकरार और भी बढ़ती जा रही है। सरकार जहां एक तरफ सिस्टम में बदलाव की वकालत कर रही है। वहीं नई मुख्य न्यायाधीश ने इसे सही ठहराया है। इसी भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर जजों की नियुक्ति की नई प्रक्रिया तय करने की गुहार लगाई गई। इसके अलावा कॉलेजियम सिस्टम को लेकर विवाद भी बढ़ता जा रहा है। अभी हाल ही में कॉलेजियम की तरफ से भेजे गए नामों पर सरकार की तरफ से कोई भी निर्णय ना लिए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई थी।

21 में से सिर्फ 2 नामों को सरकार ने दी मंजूरी

बता दें कि कॉलेजियम द्वारा जजों की नियुक्ति के लिए 21 नामों की सिफारिश की गई। उनमें से केंद्र सरकार ने 19 नाम वापस कर दिए है। सिर्फ 2 नामों को ही मंजूरी दी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक बता दें कि 28 नवंबर को जजों की नियुक्ति पर सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई से घंटों पहले नामों की सिफारिश की गई थी। इसमें 10 नाम ऐसे शामिल है जो कॉलेजियम द्वारा दोहराए गए। वही 9 नामों की पहली बार सिफारिश की गई। 21 नामों में से केवल 2 नामों को ही मंजूरी दी गई है। केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजीजू ने भी कल मंगलवार को एक ट्वीट भी किया।

सरकार ने दो सिफारिशों को स्वीकार किया

केंद्रीय कानून मंत्री ने ट्वीट में कहा कि “दो सिफारिशों को स्वीकार कर लिया गया है। वकील संतोष गोविंद चपलगांवर और मिलिंद मनोहर सथाये को बॉम्बे हाईकोर्ट का जज बनाया गया है।” केंद्र सरकार द्वारा जिन नामों की वापसी की गई हैं, उनमें इलाहाबाद उच्च न्यायालय के पांच नाम, कोलकाता उच्च न्यायालय के दो नाम, केरल हाईकोर्ट के 2 नाम और कर्नाटक हाईकोर्ट का एक नाम शामिल है।

Also Read- IND VS NZ: टीम इंडिया के गब्बर ने दिखाई दिलेरी, आधे पिच पर निकल कर तेज गेंदबाज को मारा जबरदस्त छक्का, देखें VIDEO

इन नामों को दोहराया गया

इलाहाबाद कोर्ट द्वारा जिन नामों को दोहराया गया है। उनमें रिशद मुर्तजा, शिशिर जैन, ध्रुव माथुर, विमलेंद्र त्रिपाठी और मनु खरे का नाम शामिल है। इसके अलावा बॉम्बे हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपांकर दत्ता को सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर सिफारिश करने वाला कॉलेजियम का 26 सितंबर का फैसला भी सरकार के पास अभी लंबित है।

Also Read- पायलट-गहलोत की तनातनी के बीच KC VENUGOPAL ने अपनाया कड़ा रुख, कहा – ‘बयानबाजी करने वाले 12 घंटे में होंगे कांग्रेस से बाहर’

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल