Homeख़ास खबरेंHijab Row: इस तरह शुरू हुआ हिजाब पहनने का सफर, ईरान में...

Hijab Row: इस तरह शुरू हुआ हिजाब पहनने का सफर, ईरान में महिलाएं कर रही आंदोलन

Hijab Row: इन दिनों देश और विदेश में हिजाब को लेकर खूब चर्चा में बनी हुई है। ईरान में 22 साल की महिला महासा अमीनी की मौत के बाद हिजाब विवाद ने तूल पकड़ लिया है। अमीनी को हिजाब ना पहनने पर पुलिस ने कुछ समय पहले हिरासत में लिया था। आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने महिला को हिरासत में काफी टॉर्चर किया। जिस कारण उसकी हालत बिगड़ने से मौत हो गई। अमीनी की मौत के बाद ईरान में महिलाओं ने हिजाब को लेकर आंदोलन शुरू किया है। ईरान की महिलाएं अपने हिजाब उतारकर उन्हें जला रही हैं। इसके अलावा अपने बालों को भी काट रही हैं। आइए जानते हैं कि हिजाब पहनने का सफर किस तरह से शुरू हुआ था।

हिजाब पहनने का सफर इस तरह हुआ शुरू

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक हिजाब की शुरुआत धर्म नहीं बल्कि महिलाओं की जरूरत के हिसाब से हुई थी। हिजाब पहनने का इस्तेमाल मैसापोटामिया सभ्यता के लोगों ने शुरू किया था, तेज धूप, धूल और बारिश से सिर को बचाने के लिए लिनेन के कपड़े का इस्तेमाल किया गया था, जिसे सिर पर बांधा गया। 13वीं शताब्दी में लिखे गए प्राचीन एसीरियन लेख के मुताबिक उसमें हिजाब का जिक्र किया गया है। लेखक फेगहे शिराजी ने अपनी किताब ‘द वेल अनइविल्डे: द हिजाब इन मॉडर्न कल्चर’ में लिखा है कि सऊदी अरब में वहां की जलवायु की वजह से इस्लारम आने से पहले ही महिलाओं में सिर ढकने का चलन था। इसलिए तेज गर्मी में महिलाएं इसका इस्तेमाल करती थी।

Also Read: Rajasthan: मजाकिया अंदाज में अशोक गहलोत ने जगदीप धनखड पर किया व्यंग्य, ममता बनर्जी पर क्या जादू किया

बाद में धर्म से जुड़ा

उस समय महिलाओं ने हिजाब का इस्तेमाल खुद को धूप और धूल से बचाने के लिए शुरू किया था। लेकिन कुछ खास वर्क के लिए ही था। गरीब महिलाओं और वेश्याओं के लिए इसके इस्तेमाल पर पाबंदी लगाई गई थी। अगर गरीब महिला या वेश्या हिजाब पहने हुए नजर आती थी तो उसे सजा दी जाती थी। धीरे-धीरे हिजाब का स्टाइल बदलता गया और इसे नए डिजाइन में बनाया जाने लगा। जब इसका इस्तेमाल बढ़ गया तो इसे धर्म से जोड़ दिया गया और कई देशों में इसे महिलाओं, बच्चियों और विधवाओं के लिए पहनना जरूरी कर दिया गया।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -

Latest Post

Latest News

- Advertisement -