Homeख़ास खबरेंसावरकर को लेकर राजनाथ सिंह के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- गांधी...

सावरकर को लेकर राजनाथ सिंह के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- गांधी को हटा जल्द ही सावरकर को बना देंगे राष्ट्रपिता

राजनीतिक गलियारों में सावरकर का मुद्दा तूल पकड़ता जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वीर सावरकर पर लिखी किताब का विमोचन करते हुए उन्हें देश का सबसे बड़ा राष्ट्रवादी घोषित किया था।

राजनीतिक गलियारों में सावरकर का मुद्दा तूल पकड़ता जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वीर सावरकर पर लिखी किताब का विमोचन करते हुए उन्हें देश का सबसे बड़ा राष्ट्रवादी घोषित किया था। अब असदुद्दीन ओवैसी ने राजनाथ सिंह के बयान का पलटवार करते हुए कई ट्वीट किये हैं। राजनाथ सिंह ने अपने एक बयान में कहा था कि हिंदुत्व के प्रतीक वीर सावरकर ने महात्मा गांधी के सुझाव पर अंडमान जेल में कैद के दौरान अंग्रेजों के सामने दया याचिका दायर की थी लेकिन स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान को कुछ विचारधारा का पालन करने वालों ने बदनाम किया और इसे अब और बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

वीर सावरकर ने ठुकराया था तिरंगा-ओवैसी

इस बयान पर निशाना साधते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करते हुए कहा कि महोदय @राजनाथसिंह..आपने कहा था कि सावरकर की दया याचिका गांधी की सलाह पर थी। ये रहा गांधी का सावरकर को पत्र। नरमी, दया और ताज के वफादार सेवक होने का वादा करने के लिए भीख मांगने वाली अंग्रेजों की याचिका का कोई उल्लेख नहीं है। ओवैसी ने ट्वीट के साथ एक लेटर भी शामिल किया है। ओवैसी ने लिखा कि सावरकर ने अंग्रेजों के सामने पहली याचिका 1911 में डाली थी, तब गांधी अफ्रीका में थे… सावरकर ने फिर 1913-14 में याचिका दाखिल की थी। उन्होंने उठाते हुए कहा क्या यह झूठ है कि इस “वीर” ने तिरंगे को ठुकरा दिया और भगवा को अपना झंडा बनाना चाहा।

यह भी पढ़े:सच्चे राष्ट्रवादी थे सावरकर, गांधी के कहने पर जेल में रहते हुए अंग्रेजों के सामने डाली थी दया याचिका- राजनाथ सिंह

ओवैसी ने पूछे राजनाथ से सवाल

ओवैसी ने ट्वीट कर पूछा कि कल अपने भाषण में आपने जिक्र किया था कि सावरकर ने हिंदू को किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया था जिसके लिए भारत जन्मभूमि या मातृभूमि था। हालांकि, सावरकर, सीमित बौद्धिक कौशल वाले व्यक्ति के रूप में वास्तव में हिंदू को एक ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया था जिसके लिए भारत पितृभूमि और पवित्र भूमि थी..उनके विचार में, भारत मुसलमानों और ईसाइयों के लिए पवित्र भूमि नहीं थी और इसलिए वे भारत के प्रति पूरी तरह से वफादार नहीं हो सकते थे। रक्षा मंत्री के रूप में इस पर आपका क्या विचार है? क्या आप इस सिद्धांत की सदस्यता लेते हैं? मीडिया से बात करते हुए ओवैसी ने कहा कि  भाजपा विकृत इतिहास पेश कर रही हैं। अगर यह जारी रहा, तो वे महात्मा गांधी को हटा देंगे और सावरकर को, जो महात्मा गांधी की हत्या के आरोपी थे और जिन्हें न्यायमूर्ति जीवन लाल कपूर की जांच में सहभागी घोषित किया गया था, को राष्ट्रपिता के रूप में बना देंगे।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं. 

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img