Homeख़ास खबरेंPresident Election 2022: द्रौपदी मुर्मू को लेकर NDA को मायावती के समर्थन...

President Election 2022: द्रौपदी मुर्मू को लेकर NDA को मायावती के समर्थन का इंतजार, जानिए क्या है बीजेपी की तैयारी

President Election 2022: जुलाई में राष्ट्रपति चुनाव होने जा रहे हैं, इसके लिए बीजेपी को 12,000 और वोटों की जरूरत है। ऐसे में मायावती की पार्टी से समर्थन का बीजेपी को इंतजार है।

राष्ट्रपति चुनाव के लिए 18 जुलाई को वोट डाले जाने हैं। एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू आज अपना नामांकन दाखिल करेंगी। बीजेपी को अपना राष्ट्रपति बनवाने के लिए 12000 वोटों की और आवश्यकता है। उसकी आवश्यकता उत्तर प्रदेश से ही पूरी हो सकती है। लेकिन यह आवश्यकता तब पूरी हो सकती है अगर उसे बीएसपी और कुछ अन्य दल उसे सपोर्ट करें। राष्ट्रपति चुनाव में देश में सबसे ज्यादा अगर किसी प्रदेश के विधायकों के वोट का वेटेज है तो यूपी के विधायकों का है। जबकि सांसदों के वोट का वेटेज भी सबसे ज्यादा यूपी का ही है।

यूपी से ही पार होगी नैया

द्रौपदी मुर्मू आज अपना नामांकन दाखिल करेंगी। उनके नामांकन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल होंगे। वही यूपी के कुछ सांसद प्रस्तावक भी बनाए गए हैं। उत्तर प्रदेश के विधायकों के वोट का वेटेज देश में सबसे अधिक है जो 208 है तो वही सांसदों के वोट का वेटेज भी सबसे अधिक है जो 700 है। देश के सांसदों विधायकों के वोट का कुल वेटेज 10 लाख 79 हज़ार 206 है। तो इसका 15 फीसदी वेटेज यूपी के ही सांसदों और विधायकों का है जो लगभग 1 लाख 61 हज़ार 524 है। एनडीए को अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए 12000 से कुछ अधिक वोटों की और आवश्यकता है और उसकी यह जरूरत उत्तर प्रदेश से ही पूरी होती दिखती है।

ममता की बैठक से दूर रहीं मायावती

दरअसल, जब पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठक बुलाई थी तब बीएसपी सुप्रीमो मायावती उसमें शामिल नहीं हुई। अब अगर वह बीजेपी को सपोर्ट करें तो उनके 10 सांसद हैं और उनके वोट का वेटेज 7000 हो जाता है। इसके अलावा उनके एक विधायक के वोट का वेटेज 208 है। ये कुल मिलाकर 7208 हो जाता है। वहीं अगर राजा भैया की बात करें तो उनकी पार्टी के भी दो विधायक हैं उनके वोट का वेटेज भी 416 है। शिवपाल यादव तकनीकी रूप से सपा के विधायक हैं लेकिन उनकी नाराजगी जगजाहिर है। ऐसे में उनके वोट का वेटेज 208 और वह भी काफी महत्वपूर्ण हो जाता है।

बैठक में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी को तो ममता बनर्जी ने बुलाया था लेकिन सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को इस बैठक में निमंत्रण नहीं दिया गया। हालांकि वह लगातार उपचुनाव में सपा का प्रचार कर रहे हैं लेकिन उनके 6 विधायक हैं और उनके वोट का कुल वेटेज 1248 है।

यह भी पढ़े: Maharashtra Political Crisis: शिवसेना के बयान के बाद एकनाथ शिंदे गुट ने रखी अपनी शर्त – उद्धव ठाकरे इस्तीफा दें!

बीजेपी की यह है तैयारी

इस चुनाव के लिए बीजेपी ने अपनी खास तैयारी की है। यूपी में उसके विधायकों की संख्या 255 है जबकि उसके सहयोगी अपना दल के विधायकों की संख्या 12 है और निषाद पार्टी के विधायकों की संख्या 6 इस तरह कुल 273 विधायक एनडीए के उत्तर प्रदेश में हैं। बीजेपी के अपने 62 और सहयोगी दलों के दो सांसद हैं इन्हें जोड़कर कुल संख्या 64 हो जाती है राज्यसभा सांसदों की बात करें तो तकरीबन उनकी संख्या भी 20 से ज्यादा है। वहीं सरकार के मंत्री विपक्षी दलों से निवेदन कर रहे हैं कि सभी लोग द्रौपदी मुर्मू के नाम पर ही सहमति जताएं और बिना चुनाव के ही उनका निर्वाचन कराकर एक नया संदेश सभी दल दें। वहीं सपा ने भी अपनी रणनीति तैयार करने के लिए शुक्रवार को पार्टी के विधायकों सांसदों की बैठक बुलाई है। बैठक में विधायकों और सांसदों से प्रस्तावक के तौर पर दस्तखत भी करवाए जाएंगे।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -