Homeख़ास खबरेंअरुणाचल में चीन बॉर्डर पर बन रही सेला सुरंग, चीन संग तनावपूर्ण...

अरुणाचल में चीन बॉर्डर पर बन रही सेला सुरंग, चीन संग तनावपूर्ण रिश्तों के बीच हो सकती है अहम परियोजना

आज से यानी 14 अक्टूबर से अरुणाचल प्रदेश में बहुचर्चित और भारत की सुरक्षा के लिहाज से महत्वपूर्ण माने जाने वाली सेला सुरंग के आखिरी चरण का काम शुरू होने जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ऑनलाइन माध्यम से इस परियोजना के अंतिम चरण को हरी झंडी दिखाएंगे। सुरंग में एक विस्फोट के साथ ही अंतिम चरण का काम तेजी से शुरू हो जाएगा।

शुरू हो रहा है सेला टनल का अंतिम चरण

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने अपने 2018-19 वाले बजट में सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा की थी। तब कहा गया था कि 13 हजार 700 फीट की ऊंचाई पर सेला सुरंग बनाई जाएगी। अब वो परियोजना अपने अंतिम चरण में पहुंच गई है। उम्मीद जताई जा रही है कि साल 2022 तक इसे पूरा कर लिया जाएगा।

जानिए क्या है खासियत

सेला सुरंग की अहमियत को इस बात से आसानी से समझा जा सकता है कि इस टनल के पूरा बनने के बाद तवांग के जरिए चीन सीमा तक की दूरी 10 किलोमीटर तक घट जाएगी। असम के तेजपुर और अरुणाचल के तवांग में सेना के जो चार कोर मुख्यालय स्थित हैं, उनके बीच की दूरी भी करीब एक घंटे कम हो जाएगी। इस सुरंग की वजह से बोमडिला और तवांग के बीच 171 किलोमीटर दूरी काफी सुलभ बन जाएगी और हर मौसम में कम समय में वहां जाया जा सकेगा।

यह भी पढ़े- Noida: ऑन डिमांड सेक्स रैकेट चलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, 4 युवतियों को मुक्त कराया गया

सेना के लिए फायदेमंद

सेला सुरंग को काफी अहम माना जा रहा है क्योंकि इसके जरिए अब तवांग में सेना की आवाजाही काफी आसान हो जाएगी। जिस समय चीन संग रिश्ते तनावपूर्ण चल रहे हैं, लगातार चीन की तरफ से धमकियां दी जा रही हैं, ऐसे में इस टनल का जल्द पूरा होना जरूरी हो जाता है। इस परियोजना में राष्ट्रीय राजमार्ग तक एकल मार्ग को दोहरे मार्ग में परिवर्तित करना शामिल है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKTWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img