स्पाइसजेट के CMD ने AIR India की बिक्री पर दिया बयान, कहा- वापस लौट आएगा निजीकरण के बाद गौरवशाली ब्रांड

स्पाइसजेट के सीईओ और प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने कहा कि एक स्वस्थ एआईआर इंडिया पूरी देश के लिए अच्छी है। सरकार द्वारा इसके निजीकरण के बाद इसका ब्रांड धीरे-धीरे अपना पुराना गौरव वापस पा लेगा। जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्होंने अपनी व्यक्तिगत क्षमता में Air India के लिए बोली लगायी है तो सिंह ने कहा कि आप जानते हैं कि हमारा सरकार के साथ गोपनीयता संबंधी समझौता है। इसलिए, मैं एअर इंडिया की बोली के बारे में बात नहीं कर सकता हूं। मिली जानकारी के अनुसार, कर्ज में डूबी एआईआर इंडिया के लिए सिंह और टाटा समूह द्वारा वित्तीय बोलियां पिछले महीने खोली गयी थीं और ‘विनिवेश संबंधी सचिवों के मुख्य समूह’ ने 29 सितंबर को उनका मूल्याकंन किया था। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा इस समूह के प्रमुख हैं।

1 अक्टूबर को निजीकरण के लिए जिम्मेदार सरकारी विभाग निवेश और सार्वजनिक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग के सचिव तुहिन कांत पांडे ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा था कि केंद्र ने अभी तक एआईआर के लिए वित्तीय बोलियों को मंजूरी नहीं दी है, जब भी ऐसा होगा, मीडिया को इसकी जानकारी दे दी जाएगी।एआईआर इंडिया का गौरवशाली ब्रांड वापस लौट आएगा।

AIR इंडिया के अधिग्रहण के बाद क्या होगी भारतीय विमान बाजार की स्थिति

जब सिंह से पूछा गया कि उनके हिसाब से एक निजी कंपनी द्वारा एआईआर इंडिया के अधिग्रहण के बाद भारतीय विमान बाजार की स्थिति क्या होगी? तो उन्होंने कहा कि, यह कल्पना पर आधारित है लेकिन निश्चित रूप से एक स्वस्थ एअर इंडिया पूरे देश के लिए अच्छी है और हम मानते हैं कि एयर इंडिया अधिग्रहण या निजीकरण के साथ एक स्वस्थ एयरलाइन होगी और धीरे-धीरे एअर इंडिया का गौरवशाली ब्रांड वापस लौट आएगा।

यह भी पढ़े – दुनिया के सबसे पावरफुल पासपोर्ट में इन देशों ने मारी बाजी, जानिए भारत और पाक किस नंबर पर हैं?

भारत के पास होने चाहिए एक अग्रणी विमान सेवा

अजय सिंह ने बीते सोमवार को कहा कि भारत के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हमारे पास एक अग्रणी विमानन सेवा है जिसे दुनिया भर में जाना जाता है। वह वैश्विक एयरलाइंस निकाय, इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन की 77वीं वार्षिक आम बैठक से इतर बोल रहे थे।

एआईआर इंडिया के लिए सरकार ने टाटा को चुना

एआईआर इंडिया के नए मालिक का ऐलान शुक्रवार को हो सकता है। मिली जानकारी के अनुसार,, सरकार ने टाटा को चुन लिया है। अगर टाटा के साथ सरकार का सौदा पक्का होता है तो एयर इंडिया की 68 साल बाद ‘घर वापसी’ होगी।