- विज्ञापन -

Latest Posts

Hair Rebonding: हेयर रिबॉन्डिंग करवाने से पहले जान लें इसके फायदे और नुकसान

Hair Rebonding: शादी पार्टी या फिर आउटिंग कहीं भी जाना होता है लड़कियों को खूबसूरत देखना बेहद जरूरी होता है। उनके लिए अच्छे कपड़े पहनना, अच्छे मेकअप यहां तक कि बालों को भी अच्छा लुक देना एक चुनौती होती है। लड़कियां हमेशा चाहती हैं कि जितने खूबसूरत उनके कपड़े हो उतनी ही खूबसूरत उनके बाल भी हो, क्योंकि बालों से ही पर्सनैलिटी निखर कर आती है। अपने बालों को खूबसूरत बनाने के लिए महिलाएं बहुत कुछ करती हैं। कई तरीकों से उनकी स्टाइलिंग करती हैं। बालों को स्टाइल करने के कुछ तरीके काफी समय से चलती आ रहे हैं और आज भी चलन है।इसी में से एक है हेयर रिबॉन्डिंग। इससे बाल जितने सुंदर दिखते हैं उतना ही नुकसान भी यह पहुंचाता है। हेयर रिबॉन्डिंग (Hair Rebonding) के फायदे और नुकसान के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं, तो चली आपको हेयर बॉन्डिंग के बारे में विस्तार से बताते हैं।

आपको बता दें कि हेयर रिबॉन्डिंग एक के केमिकल स्ट्रेटनिंग ट्रीटमेंट है जो आपके बालों को सॉफ्ट और स्ट्रेट बना देता है। हिट और रसायनों का उपयोग करते हुए आपके बालों के सॉफ्ट बनाते हैं। इसे हेयर स्ट्रेटनिंग ट्रीटमेंट के नाम से जाना जाता है।

ये भी पढ़ें: Beta Aashiq Baap Ayyash की कहानी ने बरपाया कहर, Web Series ने हॉटनेस के तोड़ डाले रिकॉर्ड

हेयर रिबॉन्डिंग के कई स्टेप्स होती है। हर स्टेप के लिए अलग-अलग टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है। आपके बालों को स्ट्रेट करने के लिए फ्लाइट आयरन की जाती है। बालों को रिलैक्सिंग इफेक्ट दिया जाता है, जिससे बॉन्ड टूटते हैं और आपके बालों को टेक्सचर देते हैं। इस प्रक्रिया के अंतिम चरण में न्यूट्रलाइजर शामिल होता है, जो आपके बालों को कंडीशनिंग स्टाइल करने में मदद करता है।

ये हैं हेयर रिबॉन्डिंग के फायदे

हेयर रिबॉन्डिंग आपके बालों को सुंदर और मेनेजेबल बनाता है। फ्रिजी बालों की समस्या दूर करके आपको सिल्की स्मूथ बाल मिलते हैं। इसके कई अन्य फायदे भी हैं।

हेयर रिबॉन्डिंग एक सेमी परमानेंट उपाय है जो 8 से 12 महीनों तक चल सकता है, लेकिन यह निर्भर करता है कि आप उसका किस तरह से ख्याल रख रही हैं, हालांकि जैसे जैसे नए बालों की ग्रोथ होती है, तो आपको टेक्सचर बनाए रखने के लिए बीच-बीच में टचअप की जरूरत पड़ सकती है। बालों की ग्रोथ के हिसाब से 3 से 6 महीने में टचअप करवा सकती हैं।

आप अच्छी तरह बाल बना कर बाहर निकले और बाहर की तेज हवा आपके बालों को बिल्कुल उलझा कर रख देती है। आपकी इस समस्या को रिबॉन्डिंग ठीक कर देती है। इससे आपके बाल उलझते नहीं है, बाल सुलझाने में आपको ज्यादा जद्दोजहद नहीं करनी पड़ती है। कंघी का एक स्ट्रोक आपके बालों को परफेक्ट बना देता है। आपको रोजाना की झिक झिक से भी आजादी मिल जाती है।

कहते हैं कि एक सिक्के के दो पहलू होते है अगर किसी चीज में अच्छाई है, तो उसमें बुराई भी होती है। इसी तरह हेयर रिबॉन्डिंग की प्रक्रिया आपके बालों को खूबसूरत और मेनेजेबल तो बना देती है, लेकिन इसके साथ नुकसान पहुंचाता है। आइए आपको बताते हैं कि हेयर रिबॉन्डिंग के क्या नुकसान हैं।

हेयर रिबॉन्डिंग के नुकसान

बाल हो सकते हैं डैमेज: रिबॉन्डिंग के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल से बालों को नुकसान पहुंच सकता है। इस प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाले केमिकल आपके स्कैल्प में जलन पैदा कर सकते हैं, अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है।

बालों को जलने का खतरा: इस प्रोसेस में बालों को स्ट्रेट करने के लिए फ्लैट आईरन का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे बालों में ट्रीटमेंट सील हो पाता है। मगर ज्यादा आयरन से आपके बालों के जलने का खतरा रहता है। इससे आपको बालों के झड़ने जैसी समस्या भी हो सकती है। स्टाइलिंग टूल बालों को जितना खूबसूरत दिखाते हैं, उतना ही अंदर से उन्हें कमजोर कर देते हैं।

Also Read: Bigg Boss 16: अर्चना ने Bigg Boss की कप्तान को दिखाए दिन में ही तारे, माथे पर लगाया ‘बेकार’ का लेबल

हाई मेंटेनेंस: सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि यह हाय मेंटेनेंस है,क्योंकि इसमें कई स्टेप्स फॉलो करने होते हैं, तो ब्यूटी सैलून उस हिसाब से ज्यादा चार्ज करते हैं। आपको हर तीसरे महीने या बालों के मुताबिक ट्रीटमेंट लेना होता है। हेयर रिबॉन्डिंग के बाद खास तरह के ही शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। ताकि आपके बालों में ड्राइनेस ना हो।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल