Homeमनी DNPNPS Scheme: NPS पेंशनर्स हैं तो इस खबर को न करें नजरअंदाज,...

NPS Scheme: NPS पेंशनर्स हैं तो इस खबर को न करें नजरअंदाज, नियमों में हुआ बदलाव

NPS Scheme: हर इंसान चाहता है कि वह अपने आने वाले भविष्य को सुरक्षित करें और इसके लिए वह कई तरह के निवेश भी करता है। अगर आपने भी कही निवेश किया है या फिर कही निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपके लिए ये खबर काफी काम की हो सकती है। देश में लगातार बढ़ती महंगाई के बाद तो एक सुरक्षित निवेश बहुत जरूरी हो गया है।

ऐसे में अगर आपने भी नेशनल पेंशन सिस्टम (National Pension System) यानी कि एनपीएस (NPS) में निवेश किया है तो आपके लिए ये खबर बहुत जरुरी है। पेंशन नियामक एवं विकास प्राधिकरण यानी कि पीएफआरडीए और इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया आईआरडीए ने एनपीएस की स्कीम में बड़ा बदलाव किया है। आपको बता दें कि ये सभी नियम 3 अगस्त 2022 से लागू हो गए हैं।

ये भी पढ़ें: EPFO Update: PF के पैसे को नए अकाउंट में ट्रांसफर करना हुआ आसान, इन टिप्स से चुटकियों में होगा काम

ये है पहला बदलाव, जानिए

पीएफआरडीए और आईआरडीएआई के बदलाव के मुताबिक, एनपीएस में सरकारी और कॉरपोरेशन क्षेत्र के लोगों का ई-नॉमिनेशन करने के लिए नोडल अधिकारी को अधिकार दिया है कि वह ई-नॉमिनेशन को स्वीकार करें या फिर उसे स्वीकार करने से मना कर दें।

अब नहीं भरना होगा प्रपोजल फॉर्म

एनपीएस पेंशनर्स की मैच्योरिटी होने पर अब उन्हें अलग से एन्युटी का फॉर्म नही भरना होगा। नए नियम के मुताबिक, पीएफआरडीए से अब एग्जिट फॉर्म लेने की जरूरत नहीं है। मालूम हो कि पहले बीमा कंपनियाों में एन्युटी प्लान लेने के लिए डिटेल प्रपोजल फॉर्म लेना होता था, फिर उसी आधार पर पेंशनर्स को मैच्योरिटी पर रकम मिलती थी। अब डिटेल प्रपोजल फॉर्म लेने की जरूरत नहीं है।

एनपीएस पेंशनर्स के लिए हुआ बदलाव

नए नियम के अनुसार, एनपीएस के तहत पेंशनर अब डिजीटल लाइफ सर्टिफिकेट कही से भी बनवा सकते हैं और उसे कही से भी जमा कर सकते हैं। ये सर्टिफिकेट आधार वेरिफिकेशन पर आधारित होगा। साथ ही पेंशनर्स इसका फायदा फेसआई ऐप के जरिए उठा सकते हैं। ऐसा करने के लिए उन्हें एक ऐप की मदद भी मिल जाएगी। बता दें कि ये सर्टिफिकेट एन्युटी देने वाली लाइफ बीमा कंपनी में जमा करना होता है।

क्या है NPS की स्कीम

नेशनल पेंशन स्कीम को जनवरी 2004 में सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया था। इसे 2009 में सभी कैटगरी के लोगों के लिए खोल दिया गया। कोई भी व्यक्ति अपने वर्किंग लाइफ के दौरान पेंशन अकाउंट में नियमित रूप से योगदान दे सकता है। जमा हुए फंड के एक हिस्से को वह एक बार में निकाल भी सकता है और बची हुई राशि का इस्तेमाल रिटायरमेंट के बाद नियमित पेंशन हासिल करने के लिए कर सकता है। व्यक्ति के निवेश और उस पर मिलने वाले रिटर्न से NPS अकाउंट बढ़ता है।

ये भी पढ़ें: Iphone: दुनिया का पहला आईफोन इतनी कीमत में हुआ नीलाम, जानकर हो जाएंगे हैरान

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -

Latest Post

Latest News

- Advertisement -