Homeपॉलिटिक्सMadhya Pradesh: भारी विरोध के कारण सरकार ने सांडों की नसबंदी का...

Madhya Pradesh: भारी विरोध के कारण सरकार ने सांडों की नसबंदी का फैसला लिया वापस, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने जताई खुशी

मध्य प्रदेश सरकार को अपने हीं आदेश को वापस लेना पड़ा है। राज्य सरकार के पशुपालन विभाग ने राज्य भर में अनुपयोगी/आवारा सांडो की नसबंदी का आदेश जारी किह था।

मध्य प्रदेश सरकार को अपने हीं आदेश को वापस लेना पड़ा है। राज्य सरकार के पशुपालन विभाग ने राज्य भर में अनुपयोगी/आवारा सांडो की नसबंदी का आदेश जारी किह था, लेकिन सरकार के अंदर और बाहर भारी विरोध को देखते हुए, इस फैसले को वापस ले लिया गया। भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ने भी इसका विरोध किया था, जिसकी वजह से फैसले को निरस्त कर दिया गया।

पशुपालन विभाग ने जारी किया नया आदेश
मध्य प्रदेश सरकार के पशुपालन विभाग ने आदेश निरस्तीकरण जारी करते हुए बताया कि, ”पशुपालन विभाग द्वारा सांडों का बधियाकरण कार्यक्रम चलाया जाना था, लेकिन आज बुधवार को इस अभियान को स्थगित कर दिया गया है. पशुपालन एवं डेयरी विभाग संचालक डॉ. आर.के. मेहिया ने अभियान को स्थगित करने का आदेश जारी किया है”

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने जताई खुशी
भोपाल बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने एमपी सरकार के फैसला वापस लेने पर कहा कि, “मैंने इस आदेश के बारे में सीएम शिवराज सिंह चौहान और पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल से बात की थी. इसके बाद यह आदेश कैंसल हुआ है.”

4 अक्टूबर को निकला था आदेश
दरअसल, एमपी सरकार के पशुपालन विभाग की तरफ से सभी ज़िला कलेक्टरों को आदेश दिया गया था कि, “निकृष्ट सांडों की संख्या में निरंतर हो रही वृद्धि को देखते हुए बधियाकरण अभियान 4 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक चलाया जाए. इसके लिए सभी गांव के पशुपालकों के पास/गौशालाओं में उपलब्ध या निराश्रित निकृष्ट सांडों का बधियाकरण किया जाए.”

Next Read: गाजियाबाद भाटिया मोड़ फ्लाईओवर से पलटी बस, घटना में एक बाइक सवार की मौत »

हालांकि, इस आदेश का पशुपालकों और हिंदूवादी संगठनों ने जमकर विरोध किया। भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने भी इसका पुरजोर विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि, “प्रकृति के साथ खिलवाड़ नहीं होना चाहिए. यदि देसी सांडों की नसबंदी की गई तो नस्ल ही खत्म हो जाएगी”

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKTWITTER और INSTAGRAM पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -spot_img