Peru Political Crisis: पेरू के प्रधानमंत्री ने अचानक दिया इस्तीफा! क्या श्रीलंका के बाद पेरू में भी आएगा राजनीतिक भूचाल

Date:

Peru Political Crisis: श्रीलंका की तरह पेरू भी आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। ऐसे में देश के प्रधानमंत्री एनिबल टोरेस ने अचानक इस्तीफा दे दिया है। पीएम के इस्तीफे से पेरू में राजनीति भूचाल जैसे हालात बनते नज़र आ रहे हैं। एक बार फिर देश की सरकार अपनी जनता के निशाने पर है। पेरू के प्रधानमंत्री ने तब इस्तीफा दिया है जब राष्ट्रपति पेड्रो कैस्टिलो के खिलाफ व्यापक आपराधित जांच चल रही है। कुछ का मानना है कि जांच की आड़ में राष्ट्रपति पर निशाना साधा जा रहा है। जिसके कारण एनिबल टोरेस ने इस्तीफा दिया है। पेड्रो कैस्टिलो को एक साल के कार्यकाल के बाद तेजी से अलग-थलग कर दिया गया है। प्रधानमंत्री टोरेस एक वकील हैं और राष्ट्रपति कैस्टिलो के वफादार सहयोगियों में से एक माने जाते हैं। टोरेस ने सोशल मीडिया पर बीते बुधवार को एक पत्र में बताया कि वह निजी कारणों से इस्तीफा दे रहे हैं।

छात्रों के साथ विश्वविद्यालय की कक्षाओं में लौटना- टोरेस

टोरेस ने कैस्टिलो को संबोधित करते हुए पत्र में लिखा, ”मैं आपके साथ अपनी मातृभूमि और इसके सबसे उपेक्षित और इसके भुला दिए गए लोगों की सेवा करने के बाद पद से हट रहा हूं।” टोरेस ने आगे लिखा, ”आज मुझे अपने छात्रों के साथ विश्वविद्यालय की कक्षाओं में लौटना है और जो मैंने सबसे ज्यादा याद किया वह है कानूनी शोध।”

Also Read: Nancy Pelosi Taiwan Visit: नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा पर दी धमकी, चुप नहीं बैठेगी चीनी सेना

राष्ट्रपति के खिलाफ पांच आपराधिक जांच चल रही हैं

कैस्टिलो ने एक साल पहले ही पदभार ग्रहण किया था। एक साल में वरिष्ठ सरकारी पदों पर उन्होंने अप्रत्याशित बदलाव देखा है। पिछले जुलाई में पदभार ग्रहण करने के बाद से उन्हें एनिबल टोरेस के अचानक इस्तीफा कि वजह से अपने पांचवें प्रधानमंत्री का नाम देना होगा, यह एक ऐसा कदम जो अक्सर कैबिनेट में अन्य बदलावों के साथ आता है।

राष्ट्रपति के खिलाफ पांच आपराधिक जांच चल रही हैं। इनमें दो में यह पता लगाया जा रहा है कि क्या वह किसी आपराधिक संगठन का हिस्सा हैं? पेरू के कानून के मुताबिक, राष्ट्रपति के पद पर रहते हुए उनके खिलाफ जांच की जा सकती है लेकिन आरोप नहीं लगाए जा सकते हैं। कैस्टिलो पिछले साल निवेशकों को डराते हुए मार्क्सवादी-लेनिनवादी पार्टी के साथ सत्ता में आए थे लेकिन इसके बाद उन्होंने एक तकनीकी दक्ष व्यक्ति के हाथ में आर्थिक मंत्रालय की कमान देकर एक व्यावहारिक उदारवादी मोड़ ले लिया है। अभी तक उन्होंने टोरेस के इस्तीफे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और न ही यह बताया है कि कब नए प्रधानमंत्री को नामित किया जाएगा।

Also Read: CWG 2022: 3-2 से प्रतिद्वंदी को शिकस्त देकर राज अरविंदन ने जीत की पक्की

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related