HomeविदेशQuad Summit: वैश्विक मुद्दों पर QUAD के नेताओं ने जारी किया साझा...

Quad Summit: वैश्विक मुद्दों पर QUAD के नेताओं ने जारी किया साझा बयान

Quad Summit: जापान की राजधानी टोक्यो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति बाइडेन, जापान के पीएम फूमिओ किशिदा और ऑस्ट्रेलिया के नए पीएम एंथनी अल्बानीज ने मंगलवार को बहुपक्षीय सुरक्षा संवाद QUAD की दूसरी सामने-सामने की बैठक में हिस्सा लिया।

क्वाड नेताओं की दूसरी व्यक्तिगत बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापानी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा और ऑस्ट्रेलिया के नव-निर्वाचित प्रधान मंत्री एंथनी अल्बनीस ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र के विकास और वैश्विक मुद्दों के बारे में आपसी हितों को लेकर विचारों का आदान-प्रदान किया। इस बैठक को लेकर चारों देशों के नेताओं ने साझा बयान जारी किया है।

हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती हठधर्मिता पर हुई चर्चा
बयान के मुताबिक भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका के नेताओं ने मंगलवार को हिंद-प्रशांत क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने और तनाव बढ़ाने की कोशिश करने वाली किसी भी जबरदस्ती, भड़काऊ या एकतरफा कार्रवाई का कड़ा विरोध किया। साथ ही इन देशों के नेताओं ने हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती हठधर्मिता के बीच अंतर्राष्ट्रीय नियम-आधारित व्यवस्था को कायम रखने के अपने संकल्प की पुष्टि की।

गौरतलब है कि ये क्वाड शिखर सम्मेलन ऐसे समय में हुआ जब चीन और क्वाड सदस्य देशों के बीच संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं। बीजिंग तेजी से लोकतांत्रिक मूल्यों को चुनौती दे रहा है। बीजिंग द्वारा वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के साथ कई विवादित क्षेत्रों में हजारों सैनिकों को तैनात करने और पूर्वी लद्दाख में 2020 में हुए गतिरोध के बाद भारत और चीन के बीच संबंधों में गिरावट आई है।

यह भी पढ़े: एनएसई घोटाला: ईडी ने तिहाड़ जेल में बंद चित्रा रामकृष्ण से घंटों तक की पूछताछ

कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने पर भी हुई चर्चा
क्वाड, इस क्षेत्र और उसके बाहर इन सिद्धांतों को आगे बढ़ाने के लिए निर्णायक रूप से एक साथ कार्य करना जारी रखेगा। इस बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन जहां रूस-यूक्रेन युद्ध को लेकर पुतिन पर बरसे तो ऑस्ट्रेलियाई के नए पीएम एंथनी अल्बानीज ने कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने पर बात की। उन्होंने कहा कि हम इस बात को स्वीकार करते हुए कार्य करेंगे कि प्रशांत महासागर के द्वीप राष्ट्रों के लिए जलवायु परिवर्तन मुख्य आर्थिक और सुरक्षा चुनौती है। मेरी सरकार 2030 तक उत्सर्जन में 43% की कमी करने का एक नया लक्ष्य निर्धारित करेगी और 2050 तक शुद्ध-शून्य उत्सर्जन के लिए ट्रैक पर लाएगी। उन्होंने कहा कि जैसा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र ने नया आकार दिया है, क्वाड साझेदारी की अब पहले से कहीं ज्यादा जरूरत है। इस क्षेत्र में खासा ध्यान देने की जरूरत है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -