HomeविदेशSalman Rushdie Attacked : मशहूर लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा...

Salman Rushdie Attacked : मशहूर लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, हमलावर ने चाकू घोंपकर किया घायल

Salman Rushdie Attacked : मशहूर लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला हुआ है। कार्यक्रम के दौरान मंच पर सलमान रुश्दी पर चाकू से अटैक किया गया। बता दें कि नहीं हुआ के बफेलो के पास चौटाऊक्वा में दिए जाने वाले एक लेक्चर से पहले मंच पर सलमान रुश्दी को चाकू घोंप कर घायल कर दिया गया। आपको यह भी बता दें कि किताब द सैटेनिक वर्सेज लिखने के लिए सलमान रुश्दी को ईरान से जान से मारने की धमकी भी दी जा चुकी है। ऐसे में धमकी मिलने के 33 साल बाद शुक्रवार को रुश्दी को न्यूयॉर्क में एक मंच पर चाकू घोंपा गया।

ये भी पढ़ें: Delhi News: “हर हाथ तिरंगा” अभियान के तहत मनीष सिसोदिया ने बांटा 25 लाख राष्ट्रीय ध्वज, अब पूरी दिल्ली होगी तिरंगामय

अस्पताल में सलमान रुश्दी का इलाज जारी

75 वर्षीय सलमान रशदी इस कार्यक्रम में लेक्चर देने वाले थे लेकिन इससे पहले हमलावर ने उन पर चाकू से हमला कर दिया, जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें तुरंत ही अस्पताल ले जाया गया। वहीं पुलिस ने हमलावर को हिरासत में ले लिया है। एक चश्मदीद कार्स लेवल के द्वारा ट्वीट कर बताया गया है कि सलमान रुश्दी की हत्या का प्रयास किया गया। हमलावर के सुरक्षाबलों के द्वारा पकड़े जाने से पहले रुश्दी को कई बार चाकू मारा गया। दर्शकों के बीच से कुछ सदस्य तभी मंच पर गए।

पुस्तक द सैटेनिक वर्सेज को लेकर क्यों मिली धमकी

भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक सलमान रुश्दी पिछले 20 सालों से अमेरिका में रह रहे हैं। सलमान रुश्दी को अपनी पुस्तक द सैटेनिक वर्सेज को लेकर धमकियों का भी सामना करना पड़ा है। यह बुक 1988 में ईरान में प्रतिबंधित है, क्योंकि इससे इस्लाम के प्रति ईशनिंदा करने का आरोप लगाया गया है। इरानी शीर्ष नेता द्वारा उनके सिर पर इनाम भी रखा गया।

ये भी पढ़ें: Debate on freebies: अरविन्द केजरीवाल का मोदी सरकार पर बड़ा आरोप, कहा- “अगर चंद अमीरों टैक्स माफ़ नहीं करते तो….”

सलमान रुश्दी का पहला नोबेल 1975 में आया था उनके मिडनाइट्स चिल्ड्रेन जो कि 1981 में आई है, उनके लिए उन्हें बुकर प्राइज भी मिला था। यह नोवल आधुनिक भारत के बारे में है। अपनी चौथी किताब द सैटेनिक वर्सेज पर विवाद के बाद वह लोगों के नजरों से दूर रहे हैं। हालांकि धमकियों के बावजूद उन्होंने 1990 के दशक में कई नॉवेल लिखें। 2007 में उन्हें साहित्य की सेवाओं के लिए इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ के द्वारा सर की उपाधि से नवाजा गया।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं।

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -

Latest Post

Latest News

- Advertisement -