HomeViral खबरRCB के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक की कहानी हुई सोशल...

RCB के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक की कहानी हुई सोशल मीडिया पर वायरल, जानिए क्या है पूरा सच

RCB के विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक का ‘टाटा आईपीएल’ के 15वें सीजन में अब तक का प्रदर्शन शानदार रहा है। अपने दमदार प्रदर्शन के बल पर कार्तिक ने टीम को कई मैच जिताये हैं और अब तक कार्तिक इस सीजन के सबसे बेहतरीन फिनिशर के रूप में उभरे हैं। लेकिन 36 वर्षीय कार्तिक, आईपीएल के पिछले कुछ सीजन में उतना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए और इस कारण कोलकाता नाईटराइडर्स ने इस साल के मेगा ऑक्शन में उन्हें रिटेन नहीं किया। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने कार्तिक को मेगा ऑक्शन में मात्र साढ़े 5 करोड़ में खरीदा था, जो अब तक उनके लिए काफी किफायती साबित हुआ है।
अपने शानदार प्रदर्शन से दिनेश कार्तिक को खूब वाहवाही मिल रही है और बैंगलोर के फैंस उन्हें खूब प्यार दे रहे हैं। लेकिन इन सबके बीच सोशल मीडिया पर कार्तिक से जुड़ी एक कहानी धड़ल्ले से वायरल हो रही है। इस वायरल कहानी का शीर्षक है ‘समय सबका आता है, बस संयम बनाये रखें’। इस कहानी को बड़े-बड़े इंस्टाग्राम, फेसबुक और ट्विटर हैंडल्स से शेयर किया जा रहा है।


दरसल यह कहानी दिनेश कार्तिक के निजी जीवन और कमबैक की कहानी है। इस कहानी में बताया गया है कि दिनेश कार्तिक का अब तक का करियर कितने उतार-चढ़ाव से भरा रहा, कैसे एमएस धोनी के कारण उन्हें भारतीय टीम में जगह नहीं मिली, उनसे तमिलनाडु की कप्तानी छीनी गई। केवल इतना ही नहीं, इस कहानी में यह भी बताया गया है कि कैसे कार्तिक का उनकी पत्नी से तलाक हुआ। हालांकि इस कहानी में जो भी बताया गया है, उसमें सब कुछ सच नहीं है।

यह भी पढ़ें- IPL 2022: अपनी सिर्फ़ 11 गेंदों से ही इतनी कमाई कर चुके है उमरान मलिक जितनी सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाला खिलाड़ी भी नहीं कर पायेगा

क्रिकेट के जानकार अमित सिन्हा ने किया इस कहानी से जुड़े फैक्ट चेक
जब यह कहानी तेज़ी से सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी, तब क्रिकेट के चाहने वाले लोगों ने इस कहानी के पीछे कि सच्चाई जानने का प्रयास किया। ऐसे में क्रिकेट जानकार अमित सिन्हा नाम के एक व्यक्ति ने जो फेसबुक और ट्विटर पर क्रिकेट से जुड़ी जानकारी साझा करते हुए ट्विटर पर अमित सिन्हा ने जो थ्रेड शेयर की, उसमें बताया गया है कि 2011 में दिनेश कार्तिक की जगह मुरली विजय नहीं बल्कि लक्ष्मीपति बालाजी को कप्तान बनाया गया था। जो कहानी बताई गई है, यह उससे बिल्कुल उलट है। बल्कि दिनेश कार्तिक को मुरली विजय की जगह ही पहले कप्तान बनाया गया था।

इसके अलावा 2012 के दौर के बारे में बात की गई है कि दिनेश कार्तिक को टीम से बाहर किया गया. हालांकि, वह 2010 से ही टीम से बाहर चल रहे थे, उस वक्त वर्ल्डकप का वक्त था ऐसे में मेन-प्लेयर को टीम में जगह मिल रही थी। दिनेश कार्तिक ने 2013 में टीम में वापसी की, जहां उन्हें 15 मैच खेलने को मिले।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें।आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो पर सकते हैं

Enter Your Email To get daily Newsletter in your inbox

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest पोस्ट

Related News

- Advertisement -