सोमवार, अप्रैल 22, 2024

शनिदेव को कैसे मिली न्यायधीश की उपाधि?

0
शनिदेव को कैसे मिली न्यायधीश की उपाधि?

शनिदेव को कैसे मिली न्यायधीश की उपाधि?

Author: Sunil Poddar
Date: 10/2/2024

Image Credit- Google

शनिदेव को कैसे मिली न्यायधीश की उपाधि?

Credit-Google Images

किंवदंतियों के अनुसार

जब भगवान सूर्य अपनी पत्नी छाया के पास पहुंचे तो सूर्य के प्रकाश से उनकी पत्नी छाया ने आंखें बन कर ली।

Credit-Google Images

पिता से क्रोधित हो गए

 इसी वजह से शनिदेव का रंग श्याम अर्थात काला पड़ गया। इसी बात से शनिदेव अपने ही पिता से क्रोधित हो गए। 

Credit-Google Images

शंकर की घोर तपस्या

शनि देव ने आगे चलकर भगवान शंकर की घोर तपस्या की और इस तपस्या से उनका शरीर पूर्ण रूप से जला लिया।

Credit-Google Images

भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए

शनि की भक्ति को देखकर भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए और उनसे वरदान मांगने के लिए कहा।

Credit-Google Images

शनिदेव ने वरदान

शनिदेव ने वरदान के रूप में मांगा कि वह चाहते हैं कि उनकी पूजा अपने पिता से अधिक हो, 

Credit-Google Images

शनिदेव को वरदान

जिससे सूर्य देव को अपने प्रकाश का अहंकार टूट जाए। भगवान शिव ने शनिदेव को वरदान दिया कि तुम नव ग्रहों में श्रेष्ठ हो जाएगे

Credit-Google Images

कर्मों के अनुसार फल प्रदान

और पृथ्वी लोक पर न्यायाधीश के रूप में तुम लोगों को कर्मों के अनुसार फल प्रदान करोगे। 

Credit-Google Images

न्यायाधीश के रूप में पूजा जाता है

 इसलिए आज भी भगवान शनि को न्यायाधीश के रूप में पूजा जाता है  

Credit-Google Images

सभी ग्रहों में उनका स्थान बहुत ऊंचा है

 इसलिए आज भी भगवान शनि को न्यायाधीश के रूप में पूजा जाता है  और सभी ग्रहों में उनका स्थान बहुत ऊंचा है।