गुरूवार, जुलाई 25, 2024
होमख़ास खबरेंDalai Lama से मुलाकात के बाद पूर्व US हाउस स्पीकर Nancy Pelosi...

Dalai Lama से मुलाकात के बाद पूर्व US हाउस स्पीकर Nancy Pelosi का बड़ा बयान, कहा ‘मैं चीनी सरकार’.., जानें डिटेल

Date:

Related stories

मंडी वासियों के लिए अभिनेत्री से MP बनीं कंगना रनौत की खास पहल! क्या हिमाचल के लोगों को कर पाएंगी आकर्षित? जानें डिटेल

Kangana Ranaut: बॉलीवुड अभिनेत्री से अब लोकसभा सांसद (MP) बन चुकीं कंगना रनौत लगातार सुर्खियों में हैं। दरअसल उन्होंने अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र मंडी के लोगों के लिए एक खास पहल की है जिसको लेकर खूब खबरें बन रही हैं।

China-Taiwan Conflict: ताइवान की सीमा में चीनी सैन्य विमानों की एंट्री, जानें क्या है रक्षा मंत्रालय का स्टैंड?

China-Taiwan Conflict: पूर्वी एशिया के महत्वपूर्ण द्वीप समूह ताइवान की सीमा में इन दिनों हलचल का माहौल है।

Dalai Lama: पूर्व यूएस हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी, हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के अध्यक्ष माइकल मैककॉल और कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने आज यानि बुधवार को आध्यात्मिक नेता Dalai Lama से भारत के धर्मशाला में मुलाकात की। हालांकि सबसे खास बता यह है कि चीन ने कहा था कि अमेरिका दलाई लामा के साथ किसी भी तरह के संपर्क से दूर रहे। तिब्बत और चीन के बीच विवाद किसी से छीपा नहीं है। इसी बीच प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख माइकल मैककॉल ने कहा कि राष्ट्रपति जो बिडेन जल्द ही एक विधेयक पर हस्ताक्षर करेंगे, जिसका उद्देश्य तिब्बत विवाद को सुलझाने के लिए चीन पर दबाव डालना है।

नैन्सी पेलोसी ने क्या कहा?

अमेरिका में हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव की पूर्व स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने धर्मशाला में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि “परमपावन दलाई लामा, ज्ञान, परंपरा, करुणा, आत्मा की पवित्रता और प्रेम के अपने संदेश के साथ लंबे समय तक जीवित रहेंगे और उनकी विरासत हमेशा जीवित रहेगी। लेकिन, राष्ट्रपति चीन, तुम चले जाओगे और कोई भी तुम्हें किसी भी चीज़ का श्रेय नहीं देगा।

दलाई लामा मेरी इस बात को स्वीकार नहीं करेंगे कि जब मैं चीनी सरकार की आलोचना करती हूँ तो इससे में सहयोगियों कुछ आशा कुछ विश्वास लाती हूं।

नैन्सी पेलोसी ने चीन को सुनाई खरी-खोटी

उन्होंने आगे कहा कि “वाशिंगटन डीसी में चीन के राष्ट्रपति की यात्रा थी और मैंने उनसे कहा, आप तिब्बत की संस्कृति के साथ जो कर रहे हैं, उस पर हमें आपत्ति है। उन्होंने कहा, आप जानती हैं कि आप किस बारे में बात कर रही हैं, आपको वहां जाना चाहिए और खुद देखना चाहिए कि चीन तिब्बत में क्या सुधार कर रहा है। मैंने कहा, धन्यवाद क्योंकि मैं तिब्बत जाने के लिए वीजा पाने के लिए 25 वर्षों से प्रयास कर रही हूं। इसलिए हम अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ वहां गए। हम पोटाला पैलेस गए।

हमने वह कमरा देखा जहां परम पावन पले-बढ़े थे। वे भाषा का उपयोग कम करके संस्कृति को मिटाने की कोशिश कर रहे हैं। वे कुछ ऐसा प्रयास कर रहे हैं जिससे हम उन्हें दूर नहीं जाने दे सकते। मैं चीनी लोगों के प्रति दयालु रहूँगी, मुझे नहीं पता कि वे ऐसा क्यों कर रहे हैं, लेकिन हम जानते हैं कि चीनी सरकार ऐसा कर रही है, और हम जानते हैं कि उन्हें संदेश अवश्य मिलना चाहिए”।

Latest stories