मंगलवार, अप्रैल 23, 2024
होमदेश & राज्यRajasthan Election 2023: गहलोत-पायलट के बीच 2018 की जीत पर छिड़ी जंग,...

Rajasthan Election 2023: गहलोत-पायलट के बीच 2018 की जीत पर छिड़ी जंग, जताया अपना-अपना दावा

Date:

Related stories

Rajasthan Weather Update: Jaipur के साथ कई इलाकों में कोहरे का अलर्ट, प्रभावित हुआ ट्रेन संचालन

Rajasthan Weather Update: राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में आज घने कोहरे का कहर देखने को मिला है। इसके साथ ही राज्य के विभिन्न हिस्सों में पारा गिरने के कारण गलन बढ़ने की खबरें भी सामने आ रही हैं।

Rajasthan Election 2023: चुनावी वर्ष में राजस्थान कांग्रेस की अंदरूनी कलह थमने का नाम नहीं ले रही। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot)और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट(Sachin Pilot) के बीच वर्चस्व की जंग किसी निर्णायक मोड़ पर नहीं पहुंच रही बल्कि राज्य सरकार के अंतिम बजट सत्र के बीच ही 2018 के विधानसभा चुनाव में मिली जीत की क्रेडिट पर दोनों ने अपनी-अपनी तलवारें खींच ली हैं। सीएम की कुर्सी को लेकर हो रही खींचतान में जहां गहलोत ने पिछले चुनावों में जीत को अपना क्रेडिट बताया, वहीं पायलट अपना दावा जता रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः Gehlot-Pilot Tussle: पायलट ने ट्विटर पर जारी किया वीडियो, राजस्थान में मचा राजनीतिक हड़कंप

जानें गहलोत ने क्या दावा किया?

2018 विधानसभा चुनाव की जीत का श्रेय लेते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि ये जीत उनके पूर्व के कार्यकाल में किए गए कामों की बजह से हुई थी। उन्होंने 2013 विधानसभा चुनाव में अपनी हार के पीछे मोदी लहर को कारण बताते हुए कहा कि राजस्थान की जनता को अगले 6 महीने में ही भाजपा के शासन चुनने की गलतियों का अहसास हो गया । जिसके कारण राज्य की जनता ने उन्हें उनके पहले के कामों को याद करते हुए जिताया था।

सीएम गहलोत ने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा तथा भाजपा के अन्य नेताओं के राज्य में दौरों पर सवाल उठाते हुए कहा कि कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है। हम इस बार विधानसभा चुनाव में 156 सीटों को जीतेंगे।

जानें पायलट ने क्या दावा किया?

आपको बता दें पायलट का दावा है कि 2018 विधानसभा की जीत पार्टी के नेताओं तथा कार्यकर्ताओ के संघर्ष के कारण हुई थी। जब 2013 में कांग्रेस की हार हुई थी तो पार्टी ने उन्हें (सचिन पायलट) को पार्टी अध्यक्ष बनाकर राजस्थान भेजा था। उन्होंने ने ही पार्टी में युवाओं को जोड़कर आगे बढ़ाया था और राजस्थान की राजनीति में वरिष्ठ नेताओं से युवाओं को आगे बढ़ाने की मांग की थी। क्योंकि 2013 की हार के बाद कांग्रेस के 21 ही विधायक रह गए थे।

ये भी पढ़ेंः Republic Day 2023 में ऐतिहासिक फैसला, शाही पोशाक में BSF ऊंट सवार दस्ते में शामिल होने जा रही महिला प्रहरी

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Hemant Vatsalya
Hemant Vatsalyahttp://www.dnpindiahindi.in
Hemant Vatsalya Sharma DNP INDIA HINDI में Senior Content Writer के रूप में December 2022 से सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने Guru Jambeshwar University of Science and Technology HIsar (Haryana) से M.A. Mass Communication की डिग्री प्राप्त की है। इसके साथ ही उन्होंने Delhi University के SGTB Khalasa College से Web Journalism का सर्टिफिकेट भी प्राप्त किया है। पिछले 13 वर्षों से मीडिया के क्षेत्र से जुड़े हैं।

Latest stories