बुधवार, जून 19, 2024
होमदेश & राज्यAjmer News: इस गांव में पानी की भयंकर किल्लत से नहीं आते...

Ajmer News: इस गांव में पानी की भयंकर किल्लत से नहीं आते शादी के रिश्ते, परेशान होकर 2024 इलेक्शन का किया था बायकॉट

Date:

Related stories

Ajmer News: अजमेर के एक गांव में पानी की किल्लत कुछ इस कदर देखी जा रही है कि यहां महिलाओं से लेकर बच्चों तक को सिर पर घड़ा रखकर पानी भरने के लिए जाना पड़ रहा है। अपनी इस परेशानी से सरकार को अवगत कराने के लिए इन गांव वालों ने एक हम कदम उठाया और उन्होंने चुनाव को बायकॉट किया था। जी हां, हम बात कर रहे हैं अजमेर के बलवंता गांव कि जहां पानी की किल्लत अब लाइफस्टाइल को कुछ इस कदर प्रभावित कर रही है कि यहां शादी के रिश्ते आने भी बंद हो गए हैं। आइए जानते हैं आखिर क्या है पूरी खबर।

यहां वहां से पानी भर रहे लोग

बलवंता गांव में पानी की कमी से हर कोई जूझ रहा है। लोग पानी भरने के लिए मीलों दूर पैदल यात्रा कर रहे हैं और इसमें बच्चों से लेकर महिलाओं तक को देखा जा रहा है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा है जिसे आप देख सकते हैं की पाइप से पानी लेने के लिए महिलाओं के बीच किस कदर जंग जारी है। जल रही धूप में गर्मी की परवाह किए बिना लाइन में लगकर ये महिलाएं पानी भर रहे हैं। ऐसे में अपनी इस परेशानी से जूझते हुए इन गांव वालों ने 2024 के आम चुनाव का बहिष्कार करने की ठानी थी।

जलजीवन है अस्त-व्यस्त

चुनाव का बहिष्कार करने के बाद भी ग्रामीणों को अपनी बात कहने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है और यहां पानी की कीमत में न सिर्फ जल जीवन को अस्त-व्यस्त किया है बल्कि शादी के लिए रिश्ते आने भी बंद हो गए हैं। पानी की वजह से इस गांव में लोग शादी न करने में भलाई समझ रहे हैं। चिलचिलाती गर्मी के बीच इन गांव वालों को राजस्थान में इस तरह जिंदगी के लिए जंग लड़ नहीं पड़ रही है। यहां वीडियो में आप देख सकते हैं कि लोग मोटरसाइकिल से पानी भरने के लिए जा रहे हैं और यह वाकई काफी अलग माहौल है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Anjali Wala
Anjali Walahttp://www.dnpindiahindi.in
अंजलि वाला पिछले कुछ सालों से पत्रकारिता में हैं। साल 2019 में उन्होंने मीडिया जगत में कदम रखा। फिलहाल, अंजलि DNP India वेब साइट में बतौर Sub Editor काम कर रही हैं। उन्होंने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से हिंदी पत्रकारिता में मास्टर्स किया है।

Latest stories