मंगलवार, मई 21, 2024
होमदेश & राज्यउत्तर प्रदेशगाजियाबाद की इतनी बसों में लगेंगे लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस, जानें कैसे होगी...

गाजियाबाद की इतनी बसों में लगेंगे लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस, जानें कैसे होगी महिलाओं की सुरक्षा?

Date:

Related stories

Ghaziabad News: तपती गर्मी के बीच प्रशासन का एक्शन, गाजियाबाद के स्कूलों में छुट्टी का ऐलान; जानें कब खुलेंगे विद्यालय

Ghaziabad News: पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रमुख शहरों में से एक गाजियाबाद में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। शहर में मौसम का आलम कुछ यूं है कि अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया जा रहा है।

Ghaziabad News: क्रॉसिंग रिपब्लिक वालों के लिए खुशखबरी! DME पर एग्जिट पॉइंट खुलने से आसान हुआ सफर

Ghaziabad News: राजधानी दिल्ली और एनसीआर के विभिन्न हिस्सों में कई ऐसे कनेक्टिंग रोड हैं जिसके माध्यम से पश्चिमी यूपी के लोग आसानी से दिल्ली आना-जाना करते हैं।

Ghaziabad News: यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम राज्य में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से सजग नजर आता है। इस कड़ी में समय-समय पर परिवहन निगम द्वारा इंतेजाम भी देखने को मिलते हैं। खबर है कि अब निगम ने गाजियाबाद से चलने वाली 429 बसों में वाहन ट्रैकिंग उपकरण लगाने का निर्णय लिया है। इसकी मदद से दुर्घटना या किसी तरह की आपात स्थिति में बस के लोकेशन का पता लगाया जा सकेगा और तत्काल मदद मुहैया कराई जा सकेगी। वहीं महिलाओं की सुरक्षा में भी इसका खास योगदान देखने को मिलेगा और किसी तरह की दिकक्त आने पर उन्हें बस की लोकेशन ट्रेस कर तत्काल मदद पहुंचाई जा सकेगी।

400 से ज्यादा बसों में लगेगा डिवाइस

यूपी परिवहन निगम की ओर से इस संबंध में जानकारी दी गई है कि गाजियाबाद से संचालित होने वाली 429 बसों में लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस लगाए जाएंगे। दावा किया जा रहा है कि इससे महिलाओं की सुरक्षा के साथ अन्य यात्रियों के सफर को भी बेहतर बनाया जा सकेगा। बता दें कि निगम, गाजियाबाद क्षेत्र से कुल 967 बसों का संचालन करता है उनमें से 429 बसों मे डिवाइस लगाया जाने का निर्णय लिया गया है।

इस प्रकार होगी महिलाओं की सुरक्षा

यूपी परिवहन निगम का दावा है कि बसों में लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस के लगाने के बाद से महिला सुरक्षा को भी बल मिलेगा। सफर के दौरान अगर किसी महिला को कोई दिक्कत आती है तो बस का लोकेशन ट्रैक कर उसे तत्काल रुप से मदद पहुंचाई जाएगी। वहीं अगर महिला मनचलों या किसी अन्य अराजक तत्वों द्वारा परेशान की जाती है तो भी उसकी शिकायत पर तत्काल रुप से बस की लोकेशन ट्रेस कर मदद मुहैया कराई जा सकेगी।

निर्भया फंड से होती है सहायता

वर्ष 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया कांड के बाद से परिवहन निगम महिला सुरक्षा को लेकर बेहद सजग नजर आता है। इसी क्रम में केन्द्र सरकार ने भी 2013 से निर्भया फंड की शुरुआत की जिससे महिलाओं की सुरक्षा के लिए विभिन्न तरह के इंतेजाम किए जाते हैं। निर्भया फंड से ही बसों में लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस भी लगाए जाते हैं जिससे की महिला सुरक्षा को बल मिल सके।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories