उत्तर प्रदेश में माननीय ने अधिकारी को हड़काया, बोले-15 मिनट हैं तुम्हारे पास…

हरदोई से यूपी के मंत्री दिनेश प्रताप सिंह का एक वीडियो वायरल हो गया है। दौरे के दौरान ड्यूटी से नदारद एक अधिकारी का सस्पेंशन लेटर मांग रहे अपने विभागीय अधिकारी से कहते सुना जा सकता है। 15 मिनट में सस्पेंड करो नहीं तो 16 वें मिनट में तुम्हें सस्पेंड कर दूंगा।

UP News: यूपी के उद्यान राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार दिनेश प्रताप सिंह कल हरदोई के दौरे पर पहुंचे। मंत्री के आगमन की खबर सुनकर वहां के आलू किसान भी अपनी समस्याओं को लेकर कोल्ड स्टोरेज पहुंच गए। इस पर उद्यान राज्यमंत्री आलू खरीदी में चल रही अव्यवस्थाओं और किसानों की शिकायतों को लेकर इतने नाराज हो गए कि उन्होंने तत्काल लखीमपुर के डीएचओ को इस संबंध में फोन लगा दिया। उन्होंने अधिकारी से कहा कि 15 मिनट में संबंधित अधिकारी को सस्पेंड करो, अन्यथा तुम्हें सस्पेंड कर देंगे। इसी समय किसी किसान ने बातचीत का वीडियो बना लिया,जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

जानें क्या था पूरा मामला

हरदोई से यूपी के मंत्री दिनेश प्रताप सिंह का एक वीडियो वायरल हो गया है। दौरे के दौरान ड्यूटी से नदारद एक अधिकारी का सस्पेंशन लेटर मांग रहे अपने विभागीय अधिकारी से कहते सुना जा सकता है। 15 मिनट में सस्पेंड करो नहीं तो 16 वें मिनट में तुम्हें सस्पेंड कर दूंगा। दरअसल मंत्री दिनेश प्रताप हरदोई के सांडी में एक कोल्ड का निरीक्षण करने पहुंच गए। तो वहां मौजूद आलू किसानों ने कोल्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों को लेकर मंत्री से सीधी शिकायत कर दी। कोल्ड की अव्यवस्थाओं और ड्यूटी से नदारद अधिकारी DHO सुरेश कुमार को लेकर नाराज मंत्री ने अपने विभागीय उच्च अधिकारी DHO लखीमपुर को फोन लगा दिया और बोला- “मैं हरदोई के सांडी में कोल्ड स्टोर पर हूं। यहां कर्मचारी अश्वनि कुमार की ड्यूटी लगाई गई थी। आपका वह कर्मचारी गायब है। उसका सस्पेंशन लेटर 15 मिनट में मेरे फोन में व्हाट्सएप पर आ जाएगा न, सस्पेंशन लेटर आ जाएगा, कि मैं तुम्हारा सस्पेंशन लेटर भेज दूं। 15 मिनट में यहां से ज्यादा 15 किमी जा पाऊंगा। उससे पहले उसका सस्पेंशन लेटर आ जाए। नहीं तो 16 वें मिनट में मैं तुम्हारा सस्पेंशन लेटर भेज दूंगा।” चूंकि DHO लखीमपुर ने ही इस अधिकारी की तैनाती यहां कराई थी। इसीलिए और मंत्री जी का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।

किसान ने की थी शिकायत

मंत्री दिनेश प्रताप से शिकायत करते एक परेशान आलू किसान ने कहा कि “आलू वही तो लाएगें जो खेत में हुआ है। कहते हैं कि पूरा भाड़ा जमा करो, या वापस ले जाओ। सीधी बात नहीं बताते हैं। किसान इधर से उधर भटक रहा है।”

ये भी पढ़ें: Nashik Farmers March: नासिक के किसानों का पैदल मार्च, इन मांगों को लेकर पहुंच रहे मुंबई…जानें पूरी कहानी

मनोरंजन

टेक

धर्म

स्पोर्ट्स