मंगलवार, जुलाई 23, 2024
होमदेश & राज्यउत्तराखंडUttarakhand News: देवभूमि के लिए बारिश बड़ी चुनौती! जानें इस मौसम में...

Uttarakhand News: देवभूमि के लिए बारिश बड़ी चुनौती! जानें इस मौसम में कांवड़ यात्रा कैसे संपन्न कराएगी धामी सरकार?

Date:

Related stories

Sawan 2024: क्या सावन के दिनों में शारीरिक संबंध बनाना है अशुभ? जानें शास्त्रीय मान्यता व अन्य नियम

Sawan 2024: 22 जुलाई 2024, यानी आगामी कल से पवित्र सावन महीने की शुरुआत हो रही है। इस दौरान देश के विभिन्न हिस्सों में लोग भगवान भोलेनाथ की अराधना में पूरी तरह से लीन हो जाएंगे।

Uttarakhand News: Kedarnath Dham दर्शन को जा रहे भक्तों पर टूटा आफत का पहाड़! भूस्खलन से 3 लोगों की मौत; आधा दर्जन घायल

Uttarakhand News: देवभूमि उत्तराखंड से एक बड़ी खबर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक उत्तराखंड में सुदूर पर्वतीय इलाकों में बसे केदारनाथ धाम में बाबा भोलेनाथ के दर्शन हेतु जा रहे भक्तों पर आफत का पहाड़ टूट पड़ा है।

Uttarakhand News: ‘विवाद भड़काना उनकी आदत’, शंकराचार्य स्वामी पर बरसे केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष; जानें क्या कहा?

Uttarakhand News: उत्तराखंड में इन दिनों केदारनाथ धाम को लेकर अलग ही सनसनी मची है। बीते दिनों ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने केदारनाथ मंदिर से चोरी हुए सोना का जिक्र किया था।

Noida News: कांवड़ यात्रा को लेकर सतर्क हुआ प्रशासन! विभिन्न विभागों संग बैठक कर बनाया रूट डायवर्जन प्लान; जानें डिटेल

Noida News: 22 जुलाई, दिन सोमवार से सावन का पवित्र महीना शुरू हो रहा है। इस दौरान लाखों की संख्या में शिव भक्त कंधे पर कांवड़ लेकर धार्मिक यात्रा में अपनी सहभागिता दर्ज कराएंगे और भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक करेंगे।

Uttarakhand News: ‘केदारनाथ मंदिर से 228 KG सोना गायब, इसकी जांच क्यों नहीं’, आखिर अब क्यों भड़क गए शंकराचार्य?

Uttarakhand News: 10 जुलाई का दिन राजधानी दिल्ली सहित आस-पास के इलाकों में रहने वाले बाबा केदार के भक्तों के लिए बेहद खास था। दरअसल इसी दिन उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दिल्ली के बुराड़ी में श्री केदारनाथ मंदिर के तर्ज पर केदारनाथ मंदिर का भूमिपूजन किया।

Uttarakhand News: उत्तराखंड में मॉनसून लगभग पूरी तरह से अपनी सक्रियता बना चुका है जिसके परिणामस्वरूप, देवभूमि के विभिन्न हिस्सों में तय समय अंतराल पर भारी बारिश दर्ज की जा रही है। मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार बीते दिन पिथौरागढ़ और उधम सिंह नगर के विभिन्न कस्बों में 12cm तक की भीषण बारिश दर्ज की गई है। इसी बारिश वाले मौसम के बीच ही 22 जुलाई से सावन की शुरूआत होनी है जिसमें उत्तराखंड (Uttarakhand News) के विभिन्न हिस्सों से लोग कांवड़ यात्रा का हिस्सा बनेंगे।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी बारिश के इस मौसम में कांवड़ यात्रा की तैयारियों को लेकर पूरी तरह से सतर्क हैं। सीएम धामी ने बीते दिन ही इस संबंध में समीक्षा बैठक कर आवश्यक धनराशि की स्वीकृत दे दी है ताकि अधिकारियों की देख-रेख में कांवड़ यात्रा (Kanwar Yatra) को सकुशल संपन्न कराया जा सके।

बारिश के मौसम में कैसे संपन्न होगी कांवड़ यात्रा?

उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों में इन दिनों बारिश का दौर लगातार जारी है। इसका प्रमुख कारण है मॉनसून का सक्रिय होना। मौसम विभाग (IMD) की मानें तो सूबे में बारिश का दौर आगामी अगस्त से लेकर सितंबर के शुरुआती सप्ताह तक जारी रह सकता है। ऐसे में इसी बीच 22 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा राज्य सरकार के लिए बड़ी चुनौती है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांवड़ यात्रा को लेकर समीक्षा बैठक की है और अधिकारियों को अहम निर्देश दिए हैं। सीएम धामी की ओर से स्पष्ट किया गया है कि “कांवड़ यात्रा 2024 को व्यवस्थित ढंग से संचालित करने के लिए 3 करोड़ रुपकी की धनराशि स्वीकृत की गई है। यह धनराशि कांवड़ यात्रा-2024 की विभिन्न व्यवस्थाओं हेतु विभागों की मांग के सापेक्ष स्वीकृत कर जिलाधिकारी हरिद्वार को दी गई है।”

मुख्यमंत्री के आधिकारिक हैंडल से दी गई जानकारी के मुताबिक यह निर्देश दिए गए हैं कि कांवड़ यात्रा में सम्मिलित होने वाले श्रद्धालुओं को दी जाने वाली आवश्यक सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाए।

कांवड़ यात्रा को लेकर प्रशासन का पक्ष

उत्तराखंड में 22 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा को लेकर सूबे के डीजीपी अभिनव कुमार ने भी अपना पक्ष रखा है। उन्होंने स्पष्ट किया है कि ”सुरक्षा, कानून-व्यवस्था, यातायात प्रबंधन और लोगों की धार्मिक आस्था की दृष्टि से कांवड़ यात्रा पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती है। इस वर्ष यह 22 जुलाई से 2 अगस्त तक चलेगा। प्रशासन ने 1 जुलाई को 8 राज्यों के पुलिस अधिकारियों की अंतरराज्यीय बैठक की थी, इसमें केंद्रीय एजेंसियों और सीएपीएफ के अधिकारी भी शामिल हुए हैं।”

22 जुलाई को शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा को लेकर प्रशासन की कोशिश रहेगी कि निगरानी उद्देश्यों, भीड़ प्रबंधन और यातायात प्रबंधन के लिए ड्रोन का उपयोग किया जाए। इसके अलावा अतीत में कांवड़ मेले को सफलतापूर्वक आयोजित करने में हमारी सेनाओं का अनुभव, अन्य राज्यों से हमें जो सहयोग और समर्थन मिल रहा है, हमें यकीन है कि हम इसे पूरा करेंगे।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories