मंगलवार, अप्रैल 16, 2024
होमधर्मRavivaar Vrat : रविवार को करें सूर्य देव की कथा , सभी...

Ravivaar Vrat : रविवार को करें सूर्य देव की कथा , सभी मनोकामनाएं होंगी पूर्ण

Date:

Related stories

Ravivaar Vrat : रविवार का दिन सूर्य भगवान को समर्पित होता है। इस दिन सूर्य भगवान का व्रत और कथा(Ravivaar Vrat) करने से घर में सुख शान्ति के साथ धन-धान्य की प्राप्ति होती है। साथ ही सूर्य भगवान की कृपा से आपकी सभी मनोकामनाएं भी पूरी होती है। आइये जानें Ravivaar Vrat की पूरी कथा।

Ravivaar Vrat : रविवार व्रत कथा

पौराणिक कथा के अनुसार, प्राचीन काल में एक बुढ़िया रहती थी। वह नियमित रूप से रविवार का व्रत करती थी। रविवार के दिन सूर्योदय से पहले उठकर बुढ़िया स्नानादि से निवृत्त होकर आंगन को गोबर से लीपकर स्वच्छ करती, उसके बाद सूर्य भगवान की पूजा करते हुए रविवार व्रत कथा सुनकर सूर्य भगवान का भोग लगाकर दिन में एक समय खाना करती थी। सूर्य भगवान की कृपा से उस बुढ़िया को किसी प्रकार की चिंता और कष्ट नहीं था। धीरे-धीरे उसका घर धन-धान्य से भर गया।

उस बुढ़िया को सुखी होते देख उसकी पड़ोसी उससे जलने लगे। बुढ़िया ने पास कोई गाय नहीं थी। जिसके चलते वह अपनी पड़ोसन के आंगन में बंधी गाय का गोबर लाती थी। एक दिन पड़ोसन ने अपनी गाय को घर के अंदर बाँध दिया जिसकी वजह से रविवार को गोबर न मिलने से बुढ़िया अपना आंगन नहीं लीप सकी। आंगन न लीप पाने के कारण उस बुढ़िया ने सूर्य भगवान को भोग नहीं लगाया और उस दिन खुद भी भोजन नहीं किया। सूर्यास्त होने पर बुढ़िया भूखी-प्यासी ही सो गई।

सूर्योदय होने से पहले उस बुढ़िया की आंख खुली तो वह अपने घर के आंगन में सुंदर गाय और बछड़े को देखकर हैरान हो गई। गाय को आंगन में बांधकर उसने जल्दी उसे चारा लाकर खिलाया। पड़ोसन ने उस बुढ़िया के आंगन में बंधी सुंदर गाय और बछड़े को देखा तो वह उससे और ज्यादा जलने लगी। तभी गाय ने सोने का गोबर किया, गोबर को देखते ही पड़ोसन चौंक गई ।

पड़ोसन ने उस बुढ़िया को आसपास न पाकर तुरंत उस गोबर को उठाया और अपने घर ले गई और अपनी गाय का गोबर वहां रख आई। सोने के गोबर से पड़ोसन कुछ ही दिनों में धनवान हो गई। गाय प्रति दिन सूर्योदय से पहले सोने का गोबर किया करती थी और बुढ़िया के उठने के पहले पड़ोसन उस गोबर को उठाकर ले जाती थी।

बहुत दिनों तक बुढ़िया को सोने के गोबर के बारे में कुछ पता ही नहीं था। बुढ़िया पहले की तरह हर रविवार को भगवान सूर्यदेव का व्रत करती रही और कथा सुनती रही। लेकिन सूर्य भगवान को जब पड़ोसन की चालाकी का पता चला तो उन्होंने तेज आंधी चलाई। आंधी का प्रकोप देखकर बुढ़िया ने गाय को घर के अंदर बांध दिया। सुबह उठकर बुढ़िया ने सोने का गोबर देखा उसे बहुत आश्चर्य हुआ।

उस दिन के बाद बुढ़िया गाय को घर के भीतर बांधने लगी। सोने के गोबर से बुढ़िया कुछ ही दिन में बहुत धनी हो गई। उस बुढ़िया के धनी होने से पड़ोसन को इर्षा होने लगे और उसने अपने पति को समझा-बुझाकर उसे नगर के राजा के पास भेज दिया। सुंदर गाय को देखकर राजा बहुत खुश हुआ। सुबह जब राजा ने सोने का गोबर देखा तो उसके आश्चर्य रह गया। राजा ने बुढ़िया से गाय और बछड़ा छीन लिया जिससे बुढ़िया की स्थिति फिर दयनीय हो गई.

बुढ़िया ने दुखी होकर सूर्य देव से प्रार्थना की। सूर्य भगवान को भूखी-प्यासी बुढ़िया पर बहुत दया आई। उसी रात सूर्य भगवान ने राजा को स्वप्न में कहा, राजन, बुढ़िया की गाय व बछड़ा तुरंत लौटा दो, नहीं तो तुम पर विपत्तियों का पहाड़ टूट पड़ेगा। सूर्य भगवान के स्वप्न से भयभीत राजा ने प्रातः उठते ही गाय और बछड़ा बुढ़िया को लौटा दिया।

Ravivaar Vrat

राजा ने बहुत-सा धन देकर बुढ़िया से अपनी गलती के लिए क्षमा मांगी और उसे विदा किया। राजा ने पड़ोसन और उसके पति को उनकी इस दुष्टता के लिए दंड दिया। फिर राजा ने पूरे राज्य में घोषणा कराई कि सभी स्त्री-पुरुष रविवार का व्रत किया करें। रविवार का व्रत(Ravivaar Vrat) करने से सभी लोगों के घर धन-धान्य से भर गए, राज्य में चारों ओर खुशहाली छा गई।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।   

Latest stories