शनिवार, जुलाई 20, 2024
होमहेल्थHealth Insurance: इन कारणों से हेल्थ इंश्योरेंस हो जाता है रिजेक्ट, क्लेम...

Health Insurance: इन कारणों से हेल्थ इंश्योरेंस हो जाता है रिजेक्ट, क्लेम करने से पहले बातों का रखें खास ध्यान

Date:

Related stories

UP News: NCR के तर्ज पर SCR का गठन, जानें कैसे योगी सरकार बदलेगी Lucknow, Raebareli समेत अन्य जिलों की तस्वीर?

UP News: देश की राजधानी दिल्ली के निकटवर्ती क्षेत्रों को नेशनल कैपिटल रीजन (NCR) कहा जाता है। इसमें नोएडा, गुड़गांव व गाजियाबाद के विभिन्न हिस्सें आते हैं। NCR क्षेत्रों की चमक-धमक अन्य इलाकों से हट कर होती है और यहां की चका-चौंध लोगों को तेजी से अपनी ओर आकर्षित करती है।

Health Insurance: बिजी लाइफस्टाइल और खराब खान पीन की वजह से मौजूदा समय में ज्यादातर लोग किसी न किसी बीमारी से ग्रस्त है। ऐसे में अपनी इन बीमारियों का इलाज कराने के लिए कई लोग हेल्थ इंश्योरेंस का सहारा लेते हैं। दरअसल आज के समय में मेडिकल सेवाएं इतनी ज्यादा महंगी हो गई है कि, अगर किसी के पास हेल्थ इंश्योरेंस ना हो तो वह इस महंगाई में अपना इलाज नहीं करवा सकता। ऐसे में लोग अपना इलाज करवाने के लिए हेल्थ इंश्योरेंस का सहारा लेते हैं लेकिन कई बार अस्पताल में इलाज करने के बाद उनका हेल्थ इंश्योरेंस रिजेक्ट हो जाता है। ऐसे में आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी वजह से हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां आपके क्लेम को रिजेक्ट कर देती है।

पहले से मौजूद बीमारी नहीं होगी कवर

दरअसल कई हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां आपके शरीर में पहले से मौजूद बीमारियों को कवर नहीं करती है। ऐसे में अगर आप हॉस्पिटल में पहले से मौजूद किसी बीमारी को लेकर भर्ती हो गए हैं तो हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां आपके क्लेम को रिजेक्ट कर सकती है।

वेटिंग पीरियड

इस लिस्ट में दूसरा नाम वेटिंग पीरियड का आता है। कई हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम में बीमा का फायदा उठाने के लिए आपको एक निश्चित पीरियड का इंतजार करना होगा। दरअसल कई लोग बीमा लेते समय एक निश्चित टाइम पीरियड के बाद पहले से मौजूद बीमारियों या मेटरनिटी बेनिफिट को कवर करते हैं। ऐसे में अगर आप उससे पहले किसी अस्पताल में भर्ती हो जाएंगे तो ऐसे में ज्यादा चांसेस है कि हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आपके दावे को रिजेक्ट कर दें।

पॉलिसी पीरियड

दरअसल ज्यादातर इंश्योरेंस पॉलिसी 1 साल के पीरियड के बाद समाप्त हो जाती है। ऐसे में अगर आपको किसी इलाज के लिए भर्ती होना है तो आप इस एक साल के भीतर भर्ती हो जाएं नहीं तो आपके हेल्थ इंश्योरेंस का कोई फायदा नहीं होगा। ऐसे में आपको सलाह दी जाती है कि, आप हर साल में अपने पॉलिसी पीरियड के समाप्त होने के बाद उसे जरूर रिन्यू करवाएं।

क्लेम प्रोसेस पर दें ध्यान

इसी के साथ अगर आप हेल्थ इंश्योरेंस के क्लेम प्रोसेस के दौरान कोई छोटी सी भी गलती करते हैं तो आपका हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम खारिज हो सकता है। दरअसल अगर आप गलत तरीके से फार्म भरेंगे या फिर आपके पास डॉक्यूमेंट की कमी होगी तो आपका इंश्योरेंस क्लेम रिजेक्ट हो सकता है। ऐसे में आप इंश्योरेंस प्रक्रिया को समझने के लिए पहले बीमा कंपनी से संपर्क करें।

डिस्क्लेमर: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल जानकारी के रूप में लें। DNP News Network/Website/Writer इनकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Anjali Sharma
Anjali Sharmahttps://dnpindiahindi.in
अंजलि शर्मा पिछले 2 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रही हैं। अंजलि ने महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई की है। फिलहाल अंजलि DNP India Hindi वेबसाइट में कंटेंट राइटर के तौर पर काम कर रही हैं।

Latest stories