बुधवार, जून 12, 2024
होमदेश & राज्यक्या Rahul Gandhi ने अपनी 'पप्पू' छवि को तोड़ा? लोकसभा चुनाव 2024...

क्या Rahul Gandhi ने अपनी ‘पप्पू’ छवि को तोड़ा? लोकसभा चुनाव 2024 शहजादे के लिए बना वरदान! जानें डिटेल

Date:

Related stories

RSS कार्यकर्ता के आरोप पर Amit Malviya का लीगल स्टैंड, Congress ने भी BJP नेता पर साधा निशाना; जानें डिटेल

Amit Malviya: लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों की घोषणा के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में तमाम राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिल रहे हैं। इसमें सबसे प्रमुख है भाजपा आईटी सेल के चीफ अमित मालवीय पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) कार्यकर्ता शांतनु सिन्हा द्वारा लगाए गए यौन शोषण से जुड़े आरोप।

Rahul Gandhi: लोकसभा चुनाव 2024 देश के कई नेताओं के लिए बड़ा संदेश लेकर आया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा की सभी 543 सीटों पर नतीजों की घोषणा कर दी गई है। बता दें कि इस बार कांग्रेस 2019 के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन करती हुई नजर आ रही है। हालांकि इस बार भी कांग्रेस 100 सीटों का आंकड़ा पार नहीं कर पाई। उसने इस बार 99 सीटों पर ही जीत दर्ज की है। इसी बीच कांग्रेस के सांसद राहुल गाधी चर्चा का केंद्र बने हुए है। हम ऐसा इसलिए कह रहे है कि क्योंकि कई राजनीतिक पंडितों का मानना है कि इस बार के नतीजें राहुल गांधी के वरदान साबित होते हुए दिख रहे है। आज हम इस लेख में बात करेंगे कि क्या लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों के बाद राहुल गांधी का कद बढ़ गया है।

क्या Rahul Gandhi ने तोड़ी पप्पू की छवि

राहुल गांधी ने 2024 के लोकसभा चुनावों में ‘पप्पू’ के रूप में उपहास किए जाने से एक अनुभवी राजनेता के रूप में एक उल्लेखनीय परिवर्तन किया है। कांग्रेस नेता, जिनका उनके कथित भोलेपन और राजनीतिक समझ की कमी के लिए अक्सर मज़ाक उड़ाया जाता है, कड़ी मेहनत, सुविचारित अभियानों और व्यापक सार्वजनिक भागीदारी, विशेष रूप से अपनी भारत जोड़ो यात्रा, द्वारा इस धारणा को सफलतापूर्वक दूर करने में सक्षम रहे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में 52 सीटों से लेकर 2024 में 99 सीटें को देखे तो कांग्रेस बहुत आगे बढ़ गई है। एक वरिष्ठ कांग्रेसी ने कहा, “कुछ हारें जीत से अधिक महत्वपूर्ण होती हैं।

राहुल गांधी ने बड़े मार्जिन से जीता चुनाव

मालूम हो कि इस बार राहुल गांधी 2 जगहों से चुनाव लड़ रहे थे एक केरल के वायनाड से और दूसरा उत्तर प्रदेश के रायबरेली से, दोनों ही सीटों पर राहुल गांधी ने बड़े अंतर से जीत दर्ज की है। कांग्रेस पार्टी के लिए, 2024 के लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी का नेतृत्व एक बड़े बदलाव का प्रतीक है। गांधी न केवल शक्तिशाली भाजपा और विशाल नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपनी स्थिति बनाए रखने में सक्षम रहे हैं, बल्कि उन्होंने कांग्रेस को उल्लेखनीय वापसी के लिए भी निर्देशित किया है। हालांकि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा। मालूम हो कि आने वाले कुछ महीनों में कई राज्यों में चुनाव होना है। अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या राहुल गांधी इसी तरह अपना जलवा बरकार रखते है या फिर कुछ बड़ा उलटफेर हो सकता है।

Latest stories