रविवार, जून 23, 2024
होमख़ास खबरेंSupreme Court ने फॉर्म 17सी पर आधारित डेटा को सार्वजनिक करने वाले...

Supreme Court ने फॉर्म 17सी पर आधारित डेटा को सार्वजनिक करने वाले याचिकाकर्ताओं की सभी दलीले को किया खारिज, जानें डिटेल

Date:

Related stories

NEET-UG Result 2024: कथित पेपर लीक मामले में SC का कड़ा रूख, NTA व केन्द्र को नोटिस जारी कर मांगा जवाब; देखें पूरी रिपोर्ट

NEET-UG Result 2024: नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) परीक्षा 2024 के परिणाम जारी होने के बाद लगातार विरोध के स्वर गूंज रहे हैं। ताजा जानकारी के अनुसार आज फिर एक बार सुप्रीम कोर्ट (SC) ने कथित पेपर लीक व कदाचार के मामले में दर्ज की गई याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) व केन्द्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।

SC की फटकार के बाद एक्शन मोड में NTA, 1563 उम्मीदवारों को दुबारा NEET परीक्षा देने के लिए नोटिस जारी; जानें डिटेल

NEET Result 2024: नेशनल एंट्रेंस कम एलिजिबिलिटी टेस्ट (NEET) 2024 परीक्षा के परिणाम 4 जून को जारी हुए थे जिसके तहत 67 अभ्यर्थियों नें परीक्षा में पूर्ण अंक प्राप्त किए थे।

NEET 2024 Result पर मचे घमासान के बीच SC का सख्त रुख, NTA को नोटिस जारी कर मांगा जवाब; यहां देखें पूरी रिपोर्ट

NEET 2024 Result: भारत में भारत में मेडिकल व इससे जुड़े स्नातक पाठ्यक्रमों में दाखिला हासिल करने के लिए ली जाने वाली प्रवेश परीक्षा नेशनल एंट्रेंस कम एलिजिबिलिटी टेस्ट 2024 (NEET) के परिणामों को लेकर घमासान जारी है।

Supreme Court: लोकसभा चुनाव 2024 के बीच सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने फॉर्म 17सी पर आधारित डेटा को सार्वजनिक करने की याचिकाकर्ताओं की सभी दलीलों को सिरे से खारिज कर दिया। गौरतलब है कि इसे लेकर सांसद कपिल सिब्बल ने डेटा सार्वजनिक करने को लेकर चुनाव आयोग पर सवाल खड़े किए थे। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने फॉर्म 17सी को सार्वजनिक करने के मामले को खारिज कर दिया है। मालूम हो कि इसे लेकर चुनाव आयोग ने बुधवार यानि 22 मई को एफिडेविट दाखिल किया था।

Supreme Court ने क्या कहा?

मतदाता मतदान डेटा साझा करने के लिए ईसीआई द्वारा कोई वैधानिक आवश्यकता नहीं होने के मद्देनजर, अदालत ने कहा कि “अब मुझे खुली अदालत में कहना होगा कि यह, आ बेल मुझे मार” जैसा है। कोर्ट ने आगे कहा कि अदालत ने आधारहीन आशंकाओं और संदेहों के बारे में चुनाव आयोग की चिंताओं को पूरी तरह से मान्यता दी। हम पहले से चल रही किसी भी चीज को बाधित नही कर सकते है।

कपिल सिब्बल ने चुनाव आयोग पर उठाएं थे सवाल

दरअसल एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा था कि “फॉर्म 17 पर पीठासीन अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किया जाता है और मतदान के अंत में पोलिंग एजेंट को दिया जाता है। अब ईसीआई उस डेटा को वेबसाइट पर क्यों नहीं डालता? समस्या क्या है? इस प्रक्रिया में क्या हो सकता है कि गिने जाने वाले वोटों की संख्या वास्तव में डाले गए वोटों की संख्या से अधिक होगी। हमें नहीं पता कि क्या सही है? ECI इसे वेबसाइट पर डालने से क्यों कतरा रहा है? कोई भी इसे रूपांतरित नहीं कर सकता। पार्टियों को संदेह हो रहा है”।

चुनाव आयोग ने दायर किया था हलफनामा

मालूम हो कि बुधवार को चुनाव आयोग ने फॉर्म17सी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दाखिल किया था जिसमें कहा गया था कि “चुनाव आयोग ने अदालत को बताया कि डेटा जारी करने से भ्रम पैदा हो सकता है क्योंकि इसमें डाक मतपत्र के आंकड़े शामिल हैं, और प्रकाशित संख्याओं की छवियों के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है और इससे “व्यापक असुविधा” हो सकती है”।

Latest stories