गुरूवार, जुलाई 25, 2024
होमपॉलिटिक्सG7 शिखर सम्मेलन में अपने संबोधन के दौरान PM Modi ने एआई,...

G7 शिखर सम्मेलन में अपने संबोधन के दौरान PM Modi ने एआई, ऊर्जा और भूमध्यसागरीय समेत इन मुद्दों पर की चर्चा; जानें डिटेल

Date:

Related stories

Narendra Modi: क्या अगले दशक तक देश की कमान संभालेंगे PM मोदी? Vikas Divyakirti के ये दावे Congress को कर देंगे हैरान!

Narendra Modi: भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जनाधार का कोई जवाब ही नहीं। देश-दुनिया के विभिन्न हिस्सों में लोगों के अंदर उनके प्रति गजब की दीवानगी देखने को मिलती है। पीएम मोदी (Narendra Modi) चाहें देश के किसी हिस्से में दौरे पर चले जाएं या विदेश के दौरे पर हों उनके समर्थकों का उत्साह देखने लायक होता है।

PM Modi का मुंबई दौरा! हजारों करोड़ के विकास कार्यों का उद्घाटन कर अंबानी परिवार के रिसेप्शन समारोह में शामिल होंगे पीएम

Narendra Modi Mumbai Visit: मुंबई वासियों के लिए आज का दिन बेहद खास है। दरअसल आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोकसभा चुनाव 2024 के बाद पहली बार मुंबई पहुंचने वाले हैं।

PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इटली में चल रहे जी7 शिखर सम्मेलन के एक आउटरीच सत्र को संबोधित किया, जिसमें तकनीकी प्रगति, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वैश्विक दक्षिण में भारत की भूमिका और हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों पर प्रकाश डाला गया।

PM Modi ने A.I पर की चर्चा

G7 शिखर सम्मेलन के आउटरीच सत्र में अपने संबोधन के दौरान, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, “भारत इस मानव-केंद्रित दृष्टिकोण के माध्यम से बेहतर भविष्य के लिए प्रयास कर रहा है। भारत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लिए राष्ट्रीय रणनीति तैयार करने वाले पहले कुछ देशों में से एक है। पर आधारित है इस रणनीति के तहत हमने इस वर्ष A.I मिशन लॉन्च किया है। सभी के लिए।

https://twitter.com/ANI/status/1801650922566935011

पिछले साल भारत द्वारा आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान हमने एआई के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय प्रशासन के महत्व पर जोर दिया था। भविष्य में भी हम एआई को पारदर्शी, निष्पक्ष बनाने के लिए सभी देशों के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे। सुरक्षित, सुलभ और जिम्मेदार।”

एक पेड़ माँ के नाम

G7 शिखर सम्मेलन के आउटरीच सत्र में अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, “ऊर्जा के क्षेत्र में भारत का दृष्टिकोण भी चार सिद्धांतों पर आधारित है – उपलब्धता, पहुंच, सामर्थ्य और स्वीकार्यता। भारत सभी प्रतिबद्धताओं को पूरा करने वाला पहला देश है। समय से पहले COP के तहत लिया गया। हम 2070 तक नेट जीरो के लक्ष्य को हासिल करने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

हमें मिलकर आने वाले समय को हरित युग बनाने की कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए भारत ने मिशन LiFE यानी लाइफस्टाइल फॉर एनवायरनमेंट शुरू किया है इसी मिशन पर आगे बढ़ते हुए, 5 जून, पर्यावरण दिवस पर, मैंने एक अभियान शुरू किया है – “एक पेड़ माँ के नाम”।

भारत में चुनाव को लेकर पीएम मोदी ने कही बड़ी बात

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि मानव जाति के इतिहास में सबसे बड़े लोकतांत्रिक अभ्यास में उनके पुन: निर्वाचित होने के बाद शिखर सम्मेलन में भाग लेना उनके लिए बहुत संतुष्टि की बात है। उन्होंने व्यक्त किया कि प्रौद्योगिकी को सफल बनाने के लिए इसे मानव-केंद्रित दृष्टिकोण पर आधारित होना होगा। इस संदर्भ में, उन्होंने सार्वजनिक सेवा वितरण के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने में भारत की सफलता को साझा किया।

Latest stories