मंगलवार, जून 25, 2024
होमख़ास खबरेंRBI Monetary Policy: बड़ी खबर! RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने MPC के...

RBI Monetary Policy: बड़ी खबर! RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने MPC के नतीजें किए घोषित, रेपो रेट 6.50 प्रतिशत बरकरार; जानें डिटेल

Date:

Related stories

Indian Economy को लेकर World Bank का बड़ा दावा, GDP प्रोजेक्शन व ग्रोथ रेट के आंकड़े आए सामने; जानें डिटेल

Indian Economy: भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर एक और बड़ी खबर सामने आई है। विश्व बैंक ने अपने आउटलुक में अनुमान जताया है कि वित्तिय वर्ष 2025 में दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में भारत की इकोनॉमी सबसे तेज गति से विकास करेगी।

डिजीटल फ्रॉड से निपटने के लिए RBI की खास पहल, जल्द लॉन्च होगा पेमेंट इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म; जानें कैसे करेगा बचाव

RBI Digital Payments Intelligence Platform: भारत के केंद्रीय बैंक व नियामक निकाय, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारतीय बैंकिंग प्रणाली के विनियमन और भारतीय रुपये के नियंत्रण, जारी करने और आपूर्ति बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है।

फाइनेंशियल ईयर 2023-24 में GDP की तगड़ी छलांग, जानें विकास दर को लेकर क्या है वित्त विभाग की रिपोर्ट?

GDP: भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बड़ी राहत भरी खबर सामने आई है। वित्त विभाग की ओर से दी गई ताजा जानकारी के अनुसार वित्त वर्ष 2023-24 की चौथी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.8 फीसदी रही है जो कि पिछले वर्ष से कहीं बेहतर है।

RBI Monetary Policy: 5 जून यानि बुधवार को शुरू हुई आरबीआई की एमपीसी बैठक के नतीजें सामने आ गए है। हालांकि इस बार भी रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं हुआ है। बता दें के एमपीसी के नतीजें आज सुबह ही जारी किए गए है। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने जानकारी देते हुए कहा कि इस बार भी रेपो रेट में कोई बदलाव नही हुआ है। हालांकि डीजीपी ग्रोथ के अनुमान को बढ़ा दिया है।

रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं

आपको बता दें कि आज सुबह आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने एमसीपी के नतीजों की घोषणा कर दी गई है। हालांकि इस बार भी रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है। रेपो रेट 6.50 फीसदी पर बरकार है। गौरतलब है कि फरवरी 2023 से ही रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इसके अलावा रिवर्स रेपो रेट 3.35 प्रतिशत, स्टैंडिंग डिपॉजिट फैसिलिटी रेट 6.25 प्रतिशत  मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी रेट 6.75% और बैंक रेट 6.75% पर रखा गया है। मालूम हो कि लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजें के बाद यह आरबीआई की पहली बैठक थी।

सीपीआई मुद्रास्फीति 4.5 प्रतिशत रहने का अनुमान

भूराजनीतिक तनाव के कारण कच्चे तेल की कीमतों पर परिदृश्य अनिश्चित बना हुआ है। सामान्य मानसून मानते हुए, 2024-25 के लिए सीपीआई मुद्रास्फीति 4.5% अनुमानित है। जिसमें Q1 4.9%, Q2 3.8%, Q3 4.6% और Q4 4.5% है, जोखिम समान रूप से संतुलित हैं।

जीडीपी वृद्धि का अनुमान, हमने इसे 7% से बढ़ाकर 7.2% कर दिया है और मुद्रास्फीति का अनुमान, वर्ष के लिए औसत, हमने इसे 4.5% पर बरकरार रखा है जैसा कि पिछली एमपीसी बैठक में था। मैंने बताया है कि अच्छे कारण हैं कि हमने चालू वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान क्यों बढ़ाया है।

जीडीपी 2024-25 के लिए 7.2 रहने का अनुमान

जारी नतीजों के अनुसार चालू वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद यानि जीडीपी की वृद्धि 7.2% अनुमानित है

जिसमें Q1 7.3%, Q2 7.2%, Q3 7.3% और Q4 7.2% रहने का अनुमान जताया है।

Latest stories