बुधवार, जुलाई 17, 2024
होमदेश & राज्यउत्तर प्रदेशHathras Stampede में हुआ बड़ा खुलासा! इन कारणों से हुई 121 लोगों...

Hathras Stampede में हुआ बड़ा खुलासा! इन कारणों से हुई 121 लोगों की मौत, जानें डिटेल

Date:

Related stories

लखनऊ में अवैध कब्जे के खिलाफ ‘योगी सरकार’ के अभियान पर पूर्व CM Akhilesh Yadav का निशाना, जानें क्या बोले सपा मुखिया?

Akhilesh Yadav: यूपी की राजधानी लखनऊ इन दिनों खूब चर्चाओं में है और इसका प्रमुख कारण है 'योगी सरकार' द्वारा अवैध कब्जे के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान। यूपी सरकार इन दिनों कुकरैल रिवरफ्रंट विकसित करने के लिए लखनऊ के विभिन्न रिहायशी इलाकों का सर्वे करा रही है और अवैध हिस्सों को तोड़ रही है।

Lucknow News: लखनऊ में सुपर स्पेशलिटी हाॅस्पिटल के साथ योग रिट्रीट सेंटर का होगा निर्माण, जानें क्या है LDA की खास योजना?

Lucknow News: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की भव्यता और चका-चौंध आने वाले दिनों में और बढ़ने वाली है। राजधानी में विकास कार्यों का जिम्मा संभाल रही लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) की ओर से एक खास योजना बनाई जा रही है जिसके तहत विकास से जुड़े कई कार्य कराए जाएंगे।

UP News: महाकुंभ 2025 के लिए ‘योगी सरकार’ ने झोंकी ताकत, प्रयागराज की भव्यता बढ़ाने के लिए अहम निर्देश जारी; जानें डिटेल

UP News: पवित्र नदी गंगा और यमुना के संगम पर स्थित, हिन्दुओं के एक मुख्य तीर्थस्थल के रूप में अपनी छाप छोड़ चुकी प्रयाग नगरी (इलाहाबाद) इन दिनों खूब चर्चाओं में है।

Hathras Stampede: यूपी के हाथरस में सत्संग के बाद हुई भगदड़ में 121 लोगों की जान चली गई है। राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए टीम का गठन भी कर दिया है। घटना के बाद से ही नए-नए खुलासे सामने आ रहे है। इसी बीच सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज हाथरस में घायलों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे। घायलों से मिलने के बाद योगी आदित्यनाथ ने प्रेस वार्ता भी की जहां उन्होंने घटना का कारण भी बताया। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि आखिर क्या आयोजकों की तरफ से पर्याप्त व्यवस्था की गई थी। आखिर किन कारणों से इतनी बड़ी घटना हुई

इन कारणों से हुई इतनी बड़ी घटना?

गौरतलब है कि इतने बड़े आयोजन को करने के लिए कई चीजों का ध्यान में रखा जाता है ताकि भीड़ को काबू किया जा सके, लेकिन हाथरस में हो रहे सत्संग में ऐसी किसी भी प्रकार की व्यवस्था नहीं की गई थी।

•एंट्री और एग्जिट प्वाइंट में गड़बड़ी- नियम के अनुसार इतने बड़े आयोजन में अलग-अलग एंट्री और एग्जिट प्वाइंट बनाया जाता है ताकि भीड़ को निकाला जा सके लेकिन ऐसे किसी भी एग्जिट की व्यवस्था नहीं की गई थी।

•भारी संख्या में जुटी भीड़- गौरतलब है कि प्रशासन की तरफ से आयोजन में 80 हजार लोगों के ही आने की अनुमति थी, जानकारी के मुताबिक सत्संग में करीब 2.5 लाख लोग पहुंचे थे। हादसे का सबसे बड़ा कारण यह भी माना जा रहा है।

•इमरजेंसी रास्ता नहीं बनाया गया – किसी भी दुर्घटना से निपटने के लिए इतने बड़े कार्यक्रम में इमरजेंसी रास्ता बनाया जाता है ताकि अगर किसी भी प्रकार की घटना घटती है तो इमरजेंसी रास्ते के जरिए भीड़ को बाहर निकाला जा सके और किसी भी प्रकार की घटना से बचा जा सके।

•सुरक्षा व्यवस्था में कमी- जानकारी के मुताबिक जहां सत्संग हो रहा था वहां बहुत ही कम संख्या में पुलिस कर्मी तैनात थे। वहीं अब इसे लेकर प्रशासन पर भी कई सवाल खड़े किए जा रहे है कि आखिर इतनी भीड़ इक्टठ्ठा क्यों होने दी गई।

दोषियों पर शख्त कार्रवाई की जाएगी

बता दें कि आज योगी आदित्यानाथ घटना स्थल पह पहुंचे उसके बाद उन्होंने घायल पीड़ितों से मुलाकात की। मुलाकात करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि “जांच के लिए एडीजी आगरा की अगुवाई में एक जांच कमेटी गठित की गई है। इस घटना की तह तक जाने के लिए उनसे कहा गया है यह एक घटना है या साजिश अगर साजिश है तो उसकी भी जांच की जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि सेवादारों ने प्रशासन का सहयोग नही लिया,सेवादारों ने लोगो को मरने दिया औऱ भाग खड़े हुए। साजिशकर्ताओं को और जिम्मेदार लोगों को उचित सजा दी जाएगी”।

Latest stories