रविवार, मई 26, 2024
होमदेश & राज्यमध्य प्रदेशKuno में मादा चीता साशा की मौत, वन्यजीव संरक्षण की उम्मीदों को...

Kuno में मादा चीता साशा की मौत, वन्यजीव संरक्षण की उम्मीदों को लगा बड़ा झटका

Date:

Related stories

Kuno National Park: कूनो नेशनल पार्क में एक और चीते की मौत, अब तक 3 चीतों की जा चुकी है जान

Kuno National Park: मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में एक और चीते की मौत हो गई है। चीतों की आपसी लड़ाई में मादा चीता दक्षा की मौत हो गई है।

Kuno National Park: करीब 5 दशक बाद भारत में चीते का जन्म, Bhupendra Yadav ने ‘चीता टीम प्रोजेक्ट’ को दी बधाई

Kuno National Park: मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में कूनो नेशनल पार्क में एक ऐतिहासिक घटना घटी। दरअसल, बीते साल नामीबिया से लाई गई फीमेल चीता सियाया ने बुधवार को चार शावकों को जन्म दिया।

Female Cheetah Died in Kuno: पीएम मोदी के जन्मदिन पर पिछले साल अफ्रीका से भारत लाई गई मादा चीता साशा की मौत हो गई है। एमपी के श्योपुर में स्थित कूनो नेशनल पार्क में पिछले साल पीएम मोदी के जन्मदिन पर अफ्रीका से भारत लाई गई थी। भारत मे वन्य जीव संरक्षण कार्यक्रम के तहत चीतों की आबादी बढ़ाने के लिए पीएम के महत्वाकांक्षी प्रयास का नतीजा था। जिसके पहले जत्थे में आए 8 चीतों को लाया गया था। जानकारी के मुताबिक 5 वर्षीय साशा किडनी के संक्रमण से पीड़ित थी।

जानें क्या थी घटना

बता दे मादा साशा 8 चीतों के पहले जत्थे में पिछले साल भारत लायी गयी थी। जिसके बीमार होने की पहली सूचना 22 जनवरी में मोनिटरिंग टीम को मिली थी। उस दिन वह आम दिनों से सुस्त दिख रही थी। उसके बाद उसे जांच के लिए क्वारन्टीन बाड़े में लाया गया। उसके खून के नमूने की जांच में पता लगा कि उसकी किडनी संक्रमित हो चुकी है। गहन जांच करने पर यह पाया गया कि उसे यह संक्रमण भारत लाने से पहले ही था।आज उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई।

ये भी पढ़ें:Delhi Free Electricity: बिजली सब्सिडी को लेकर CM केजरीवाल का बड़ा कदम, दिए CAG जांच के आदेश

उम्मीदों को लगा बड़ा झटका

बता दे देश में चीतों की आबादी को पुनर्जीवित करने की योजना के तहत 2 जत्थों में करीब 20 चीतों को अफ्रीका के नामीबिया सेभारत लाया। सितंबर2022 में पहले 8 फिर फरवरी2023 में 12 चीतों का दूसरा जत्था आया था। उनके लिए अनुकूल वातावरण की तलाश में कूनो नेशनल पार्क को चुना गया था। साशा वन्यकर्मियों और भारतीय वन्यजीव संस्थान के साथ अपने नए घर भारत में धीरे – धीरे घुल मिल रही थी। साशा की मौत से वन्यजीव संरक्षण परियोजना की उम्मीदों का बड़ा झटका माना जा रहा है। जांच अधिकारी गम्भीरता से इसकी मौत के कारणों की जांच कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: MP Politics: मध्य प्रदेश में Congress को बड़ा झटका, BJP ने दिग्विजय सिंह के गढ़ में की सेंधमारी

Hemant Vatsalya
Hemant Vatsalyahttp://www.dnpindiahindi.in
Hemant Vatsalya Sharma DNP INDIA HINDI में Senior Content Writer के रूप में December 2022 से सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने Guru Jambeshwar University of Science and Technology HIsar (Haryana) से M.A. Mass Communication की डिग्री प्राप्त की है। इसके साथ ही उन्होंने Delhi University के SGTB Khalasa College से Web Journalism का सर्टिफिकेट भी प्राप्त किया है। पिछले 13 वर्षों से मीडिया के क्षेत्र से जुड़े हैं।

Latest stories