रविवार, जून 23, 2024
होमदेश & राज्यउत्तर प्रदेशMeerut News: RRTS कॉरिडोर के तहत मेरठ स्टेशन के आस-पास किया जाएगा...

Meerut News: RRTS कॉरिडोर के तहत मेरठ स्टेशन के आस-पास किया जाएगा विकास, कंसल्टेंसी फर्म ने सर्वेक्षण किया पूरा

Date:

Related stories

Meerut News: खुशखबरी! जल्द ही मेरठ साउथ तक दौड़ेगी Namo Bharat Train, जानें कैसे लाखों लोगों का सफर होगा आसान?

Meerut News: भारत की इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (EMU) नमो भारत ट्रेन अब मेरठ साउथ स्टेशन तक जा सकेगी। नमो भारत ट्रेन के मेरठ दक्षिण तक परिचालन के लिए कमिश्नर ऑफ मेट्रो रेलवे सेफ्टी (CMRS) की ओर से हरी झंडी दे दी गई है।

नए साल में मेरठ को बड़ा तोहफा! इंडस्ट्रियल प्लेज पार्क को मिली शासन की मंजूरी; जानें कैसे रफ्तार पकड़ेगा शहर का विकास

Meerut News: उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्से में बसा शहर मेरठ अपने औद्योगिक प्रतिष्ठानों के लिए जाना जाता है। यूपी के विभिन्न जिलों से लोग मेरठ में रोजगार की तलाश में आते हैं। ऐसे में यूपी शासन भी मेरठ के लिए विकास परियोजनाओं को लेकर पूरी तरह से सजग नजर आता है।

Meerut News: दिल्ली– गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के तीसरे फेज का परिचालन जल्द ही शुरू हो सकता है। वहीं अब इसे लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। दरअसल एलईए एसोसिएट्स साउथ एशिया प्राइवेट लिमिटेड ने दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के लिए मेरठ विकास प्राधिकरण (एमडीए) के अंतर्गत आने वाले विकासशील क्षेत्रों के लिए अपना सर्वेक्षण पूरा कर लिया है। जानकारी के मुताबिक सर्वेक्षण रिपोर्ट कंसल्टेंसी फर्म जल्द ही मेरठ डेवलपमेंट अथॉरिटी को सौप सकती है।

मेरठ आरआरटीएस रेलवे स्टेशन के आस-पास बनेंगे भवन

आपको बता दें कि 82 किलोमीटर लंबे दिल्ली- गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर अभी 34 किलोमीटर के रूट पर सुचारू रूप से चल रही है। वहीं उम्मीद की जा रही है की तीसरे फेज का परिचालन जल्द ही शुरू हो सकता है। गौरतलब है कि मेरठ तक नमो भारत ट्रेन चलने के बाद दिल्ली-एनसीआर के लोगों को मेरठ जाना बहुत आसान हो जाएगा। वहीं मेरठ डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा स्टेशन के 2 किलोमीटर के आस-पास के इलाकों का विकास किया जाएगा।

MDA के वाइस चेयरमैन ने दी जानकारी

मेरठ डेवलपमेंट अथॉरिटी के वाइस चेयरमैन अभिषेक पांडे ने जानकारी देते हुए कहा कि आरआरटीएस कॉरिडोर को आर्थिक रूप से व्यवहार्य बनाने के लिए, राज्य सरकार ने अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार रेल कॉरिडोर के दोनों किनारों को विकसित करने के लिए 2022 में एक टीओडी नीति बनाई। नीति के तहत, परिवहन के साधनों की आसानी और निकटता सुनिश्चित करने के लिए रेल ट्रैक के दोनों ओर 1.5 किमी और रेलवे स्टेशनों से 500 मीटर तक मिश्रित भूमि उपयोग के साथ विकास किया जाएगा।

उन्होंने आगे कहा कि गगनचुंबी इमारतों और अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे के अलावा, दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम से आने वाले यात्रियों को आकर्षित करने के लिए डिज़नीलैंड की तर्ज पर मेगा अवकाश और मनोरंजन स्थलों को विकसित करने की योजना पर काम चल रहा है।

Latest stories