मंगलवार, मई 28, 2024
होमदेश & राज्यउत्तराखंडUttarakhand News: सुप्रीम कोर्ट ने पेड़ों की कटाई मामले में पूर्व वन...

Uttarakhand News: सुप्रीम कोर्ट ने पेड़ों की कटाई मामले में पूर्व वन मंत्री और पूर्व वन अधिकारी को लगाई फटकार, 3 महीने के अंदर रिपोर्ट सौपे CBI

Date:

Related stories

Dehradun News: चार धाम यात्रा में जुटी भारी भीड़ को लेकर सख्त हुआ प्रशासन, श्रद्धालुओं के लिए जारी हुए अहम निर्देश

Dehradun News: उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों में इन दिनों भारी भीड़ जुटी है। दरअसल ये भीड़ चार धाम यात्रा को लेकर है जिसमे शामिल होने के लिए देश-दुनिया के विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालुओं का जत्था देहरादून सहित देवभूमि के अलग-अलग शहरों की ओर से पहुंच रहा है।

Dehradun News: क्या ONGC मुख्यालय को देहरादून से शिफ्ट करने की है तैयारी? जानें स्टॉफ यूनियन को क्यों सता रहा डर

Dehradun News: उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में स्थित तेल एवं प्राकृतिक गैस लिमिटेड (ONGC) मुख्यालय को शिफ्ट करने की चर्चाएं जोरो पर है।

Char Dham Yatra 2024: यमुनोत्री-गंगोत्री धाम में रिकॉर्ड संख्या में पहुंचे भक्त, जानें क्या है प्रशासन की व्यवस्था?

Char Dham Yatra 2024: उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों में इन दिनों में भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं जिसको लेकर प्रशासन की ओर से सभी खास इंतजाम किए जा रहे हैं।

Uttarakhand News: बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व में अवैध निर्माण और पेड़ो की कटाई की अनुमति देने के लिए उत्तराखंड के पूर्व वन मंत्री हरक सिंह रावत और पूर्व प्रभागीय वन अधिकारी किशन चंद को फटकार लगाई। बता दें कि अदालत ने पहले से ही मामले की जांच कर रही सीबीआई के तीन महीने के अंदर मामले पर अपनी रिपोर्ट दाखिल करने के भी निर्देश दिए है। गौरतलब है कि पर्यावरण कार्यकर्ता और वकील गौरव बंसल ने यह याचिका दायर की थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दी।

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कही बड़ी बात

न्यायमूर्ति बीआर गवई, न्यायमूर्ति पीके मिश्रा और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि यह एक ऐसा मामला है जहां नौकरशाहों और राजनेताओं ने सार्वजनिक विश्वास सिद्धांत को कचरे के डिब्बे में फेंक दिया है। उन्होंने पूर्व वन मंत्री हरक सिंह रावत और पूर्व प्रभागीय वन अधिकारी किशन चंद को फटकार लगाते हुए कहा कि इन लोगों ने व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए पर्यटन को बढ़ावा देने के बहाने इमारतों बनाने के लिए बड़े लेवल पर पेड़ो की कटाई की गई है।

पीठ ने आगे कहा कि वर्तमान मामले में यह साफ है कि पूर्व वन मंत्री ने खुद को कानून से परे माना था और यह दर्शाता है कि किशन चंद ने सार्वजनिक विश्वास सिद्धांत को कैसे हवा में उड़ा दिया था।

Uttarakhand News
फाइल फोटो प्रतिकात्मक

Uttarakhand News: सुप्रीम कोर्ट ने 3 सदस्यीय समिति बनाने का दिया आदेश

शीर्ष अदालत ने कहा कि हालांकि आंकड़े बाघो के अवैध शिकार में काफी कमी दिखाते है, लेकिन जमीना वास्तविकताओं से इनकार नही किया जा सकता है। (Uttarakhand News) कोर्ट ने देश नें बाघ अभयारण्यों के कुशल प्रबंधन हेतु सुझाव देने के लिए तीन सदस्यीय समिति नियुक्त की है। इस समिति को 3 महीने के अंदर एक रिपोर्ट सौपने के लिए कहा गया है।

कोर्ट ने आशंका जताते हुए कहा कि हमें यकीन है कि कई अन्य लोग भी इसमें शामिल हैं। चूंकि सीबीआई इसकी जांच कर रही है, इसलिए हम और कुछ नहीं कह रहे हैं। आपको बता दें कि इससे पहले ईडी ने टाइगर रिजर्व में अवैध निर्माण के मामले में रावत और चंद के आवासों पर छापेमारी की थी।

Latest stories