शनिवार, जुलाई 20, 2024
होमख़ास खबरेंNirjala Ekadashi 2024: भीषण गर्मी के बीच निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें...

Nirjala Ekadashi 2024: भीषण गर्मी के बीच निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें उपवास के दौरान किन बातों का रखें ध्यान?

Date:

Related stories

Pausha Putrada Ekadashi 2024: संतान प्राप्ति के लिए फलदायी है इस एकादशी का व्रत, जानें पूजन विधि

Pausha Putrada Ekadashi 2024: हिंदू धर्म ग्रंथ के अनुसार आज 21 जनवरी 2024 को देश में पौष पुत्रदा एकादशी मनाया जा रहा है। इस खास एकादशी के दिन विशेष तौर पर महिलाएं संतान प्राप्ति के लिए व्रत रखती हैं तो वहीं सुख-संपदा के लिए भी इस दौरान पूजन-पाठ का आयोजन किया जाता है।

Navaratri 2023: शारदीय नवरात्रि में व्रत क्या खाएं और क्या न खाएं? यहां पढ़ें हर सवाल का जवाब

Navaratri 2023: हिंदू धर्मशास्त्रों में शारदीय नवरात्रि को सबसे...

Nirjala Ekadashi 2024: देश के ज्यादातर हिस्सों में आज यानी 18 जून को निर्जला एकादशी का व्रत रखा जाएगा। इस दौरान उपवास रखने वाले भक्त बिना जल ग्रहण किए 24 घंटों तक व्रत रहेंगे और धार्मिक मान्यता के अनुसार श्री हरि व मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करेंगे।

निर्जला एकादशी व्रत के दौरान ही लोगों को भीषण गर्मी का भी ध्यान रखना होगा और कोशिश रहे कि व्रत के दौरान घरों से बाहन ना निकलें, धूप से बचें। ऐसा करने से आपका स्वास्थ्य सही रह सकेगा और आप अपने एकादशी निर्जला व्रत को अच्छे से पूर्ण कर सकेंगे। ऐसे में आइए हम आपको निर्जला एकादशी व्रत से जुड़े सभी मान्यताओं के बारे में विस्तार से बताते हैं।

निर्जला एकादशी का व्रत

देश के ज्यादातर हिस्सों में आज यानी 18 जून, मंगलवार को निर्जला एकादशी का व्रत रखा जाएगा। हिंदू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 17 जून को सुबह 04 बजकर 43 मिनट से शुरू होगी और इसका समापन 18 जून को सुबह 06 बजकर 24 मिनट पर होगा। हालाकि सनातन धर्म में उदया तिथि का अधिक महत्व है, इसीलिए निर्जला एकादशी का व्रत 18 जून को रखा जाएगा। वहीं 19 जून को सुबह 5 बजकर 21 मिनट से 7 बजकर 28 मिनट तक इस व्रत का पारण किया जा सकेगा।

निर्जला एकादशी व्रत के दौरान साधक प्रात: स्नान कर पीले रंग का वस्त्र धारण करें और पूजन स्थल पर भगवान विष्णु व मां लक्ष्मी की प्रतिमा विराजमान कर पूजा करें। इसके बाद घी का दीपक जला कर विष्णु चालीसा व लक्ष्मी चालीसा का पाठ करें। अंतत: केला व नैवेद्य समेत अन्य वस्तुओं का भोग लगाएं। धार्मिक मान्यता है कि निर्जला एकादशी के दौरान भगवान विष्णु व मां लक्ष्मी की पूजा करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है और जीवन में सुख की आमद होती है।

निर्जला एकादशी व्रत के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

निर्जला एकादशी व्रत के दौरान कई प्रमुख बातों का ध्यान रखना होता है। बता दें कि निर्जला एकादशी का दौरान व्रत करने वाला साधक 24 घंटों तक जल तक ग्रहण नहीं कर सकता। वहीं भीषण गर्मी का दौर भी जारी है। ऐसे में व्रत करने वालों की कोशिश रहे कि वे अपने घरों में ठंडा वातावरण बना कर रहें। इसके अलावा धूप में निकलने से बचे व खुद को भगवान की साधना में लीन रखने की कोशिश करें। इस प्रकार से निर्जला एकादशी व्रत को आसानी से पूर्ण किया जा सकता है।

डिस्क्लेमर– यह सूचना लोगों को सामान्य जानकारी के लिए सिर्फ मान्यताओं के आधार पर दी गई है। डीएनपी न्यूज नेटवर्क किसी भी तरह की मान्यता व जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। ऐसे में आप किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले विशेषज्ञ से अवश्य सलाह लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories