- विज्ञापन -

Latest Posts

Menopause के इन लक्षणों को करती हैं महसूस तो हो जाएं सावधान, सुधार के लिए जरूर आजमाएं ये टिप्स

Menopause: अधिकतर महिलाएं पेरिमेनोपॉज का शिकार हो जाती हैं। महिलाएं अलग-अलग उम्र में पेरिमेनोपॉज की समस्या से परेशान होती हैं। लेकिन कभी-कभी 40 की उम्र के बाद मेनोपॉज की और बढ़ने के संकेत देख सकते हैं। कुछ इसके लक्षण भी बताए गए हैं जिसके जरिए आप पेरिमेनोपॉज की पहचान कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको यह जानना होगा कि पेरिमेनोपॉज क्या होता है। इसका अर्थ होता है मेनोपॉज के आसपास और उस समय को संदर्भित करता है जिसके दौरान आपका शरीर मेनोपॉज के लिए प्राकृतिक रूप से तैयार होता हैं, जो रिप्रोडक्शन सालों के अंत को चिन्हित करता है।

इसकी मुख्य लक्षण पीरियड्स की अनियमितता और कुछ अन्य बदलावों के साथ इसकी पहचान की जा सकती है। शरीर में एस्ट्रोजन का लेवल मोनोपॉज के दौरान असमान रूप से बढ़ता है और गिरता है। इसके लक्षण जैसे हॉट फ्लैशेज, नींद की समस्या और वेजाइना में ड्राइनेस। लेकिन आपको इन सब से परेशान होने की जरूरत नहीं हैं। क्योंकि हम आपको कुछ ऐसे टिप्स भी बताएंगे जिनसे आप राहत प्राप्त कर सकती हैं।

अलसी का सेवन करेगा मदद

अलसी का सेवन आपको फलों, सलाद और स्मूदी में एक चम्मच मिलाकर करना हैं। इसमें फाइटोएस्ट्रोजन होता है जो पेरिमेनोपॉज के लक्षण को कम करता है।

राजगिरा के लड्डू का सेवन

अपनी मिड डे मील में एक राजगिरा लड्डू का सेवन करें। इसके सेवन से ही हड्डियों के घनत्व को बरकरार बनाए रखा जा सकता है। साथ ही इससे ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में भी क्षमता मिलती है।

Also Read: Brain Hemorrhage: विंटर में इस सामान्य रूटीन के कारण बढ़ता है ब्रेन हेमरेज और लकवा का खतरा, जानकर आपके भी उड़ जाएंगे होश

एड्रिनल उत्तेजक चाय का सेवन

यदि आप सोने से पहले एड्रेनल उत्तेजक चाय का सेवन करते हैं तो इससे आपके तनाव में सुधार होगा। साथ ही मेनोपॉज के लक्षणों को भी रोका जा सकता है। इसके लिए आपको 1 इंच मुलेठी, 1 इंच दालचीनी, एक चुटकी जायफल और एक गिलास पानी में इन सभी को उबालना है। यह इतना उबालना है कि आपका पानी एक लाख से आधा ग्लास हो जाना चाहिए। इसके बाद इसका सेवन करें।

डोसे का सेवन

यदि आप अपने दोपहर के भोजन में फर्मेंटेड बाजरा डोसा का सेवन करते हैं, तो इससे आपके शरीर में एनर्जी लेवल बरकरार रहेगा साथ ही आंत के स्वास्थ्य में भी सुधार होगा। डोसे में कैल्शियम और आयरन की मात्रा भरपूर होती है।

घास पर टहलने की आदत डालें

यदि आप रोजाना सुबह थोड़ी देर के लिए नंगे पैर घास पर टहलते हैं तो इससे आपके शरीर में कई तरह के बदलाव नजर आएंगे। साथ ही आपकी हेल्थ भी अच्छी रहेगी‌। नंगे पैर घास पर टहलने से शरीर में एंडोर्फिन रिलीज करने में मदद मिलती है।

Also Read: Mohammed Shami को बड़ा झटका, पत्नी हसीन जहां को गुजारा भत्ता के तौर पर हर महीने देंगे इतनी बड़ी रकम

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, DNP INDIA न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Latest Posts

देश

बिज़नेस

टेक

ऑटो

खेल