गुरूवार, जुलाई 25, 2024
होमविडियोHealth Tips: क्या अखरोट और बादाम को लेकर आप भी रखते हैं...

Health Tips: क्या अखरोट और बादाम को लेकर आप भी रखते हैं ये गलत अवधारणा! भिगोकर खाने से पहले जानिए ये बड़ी वजह

Date:

Related stories

Health Tips: आप भी खाते हैं बादाम और अखरोट को भिगोकर और क्या आपने भी सुना है कि उनकी कवरिंग में होते हैं टॉक्सिंस यानी जहरीले पदार्थ। अगर आपकी भी है यह अवधारणा तो डॉक्टर प्रियंका शेहरावत ने एक वीडियो को शेयर करते हुए इस बारे में पूरी जानकारी लोगों को दी है। आप भी यह समझने की गलती कर रहे हैं कि बादाम और अखरोट के छिलके में टॉक्सिंस होते हैं तो आईए जानते हैं क्या कहती है डॉक्टर और क्या है इसका मेडिकल बैकग्राउंड। अब भिगोकर अखरोट या बादाम खाने से पहले जान लीजिए यह बात ताकि बदल सके आपकी सोच।

क्या अखरोट और बादाम की कवरिंग में है टॉक्सिन

डॉ प्रियंका शेहरावत ने इस वीडियो में बताया कि अगर आप भी बादाम और अखरोट के छिलके को विषाक्त पदार्थ समझने की गलती कर रहे हैं तो सचेत होने की जरूरत है क्योंकि यह कोई टॉक्सिन नहीं बल्कि एक कंपोनेंट होता है जिसका नाम फ़ायटिक एसिड है। और यह उनके लिए है ताकि वह पर्यावरण में खुद को बचा सके। ऐसे में यह सोचकर ड्राई फ्रूट्स को भिगोना कि इसकी कवरिंग नुकसानदायक है तो यह सोच बदलने की जरूरत है।

क्यों भिगोकर खाया जाता है ड्राई फ्रूटस

डॉक्टर के अनुसार ऐसा नहीं है कि कवरिंग हमारे लिए नुकसानदायक है। अगर हम बादाम अखरोट को भिगोकर खा रहे हैं तो इसका मतलब यह l भी नहीं है कि हमने टॉक्सिन को हटा दिया उसमें फ़ायटिक एसिड होता है और क्योंकि फ़ायटिक हमारे शरीर के मिनरल्स और विटामिन को कम कर देता है सिर्फ इसलिए कहा जाता है कि नट्स और सीड्स को रात में भिगोकर सुबह उठकर खाना चाहिए। लेकिन अगर आप अखरोट या बादाम को बिना भिगोए तो यह आपके शरीर के लिए नुकसानदायक नहीं है आप टॉक्सिन नहीं खा रहे हैं। लेकिन अगर आप यह चाहते हैं कि आपके शरीर में भरपूर मात्रा में मिनरल्स और विटामिन मिले जो डाइट के जरिए लिया है तो आप अखरोट और बादाम को भिगोकर खा सकते हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।   

Anjali Wala
Anjali Walahttp://www.dnpindiahindi.in
अंजलि वाला पिछले कुछ सालों से पत्रकारिता में हैं। साल 2019 में उन्होंने मीडिया जगत में कदम रखा। फिलहाल, अंजलि DNP India वेब साइट में बतौर Sub Editor काम कर रही हैं। उन्होंने बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से हिंदी पत्रकारिता में मास्टर्स किया है।

Latest stories