Copper Condenser AC
Copper Condenser AC

Copper Condenser AC: गर्मी के मौसम में सबसे पहले एयर कंडीशनर यानी एसी (AC) की याद आती है। देश में ज्यादातर लोग विंडो एसी और स्प्लिट एसी खरीदते वक्त कुछ ही चीजों ही चीजों का ध्यान रखते हैं, जैसे एसी की कूलिंग क्षमता, एनर्जी एफिशियंसी रेटिंग और फिल्टर्स आदि। मगर कॉपर कंडेनसर एसी (Copper Condenser AC), एल्युमीनियम कंडेनसर एसी (Aluminium Condenser AC) में कौन बेहतर है।

Copper Condenser AC या Aluminium Condenser AC

मगर एसी में कौन सा कंडेनसर लगा है, ये नहीं पूछते हैं या फिर अधिक ध्यान नहीं देते हैं। एसी में कौन सा कंडेनसर लगा है, ये काफी खास होता है। आपको बता दें कि एसी में तीन तरह के कंडेनसर होते हैं, इसमें कॉपर कंडेनसर एसी, एल्युमीनियम कंडेनसर एसी और अलॉय कंडेनसर शामिल है। इस खबर में जानिए कॉपर और एल्युमीनियम कंडेनसर में से कौन सा बेहतर होता है।

कंडेनसर से वजन में फर्क

आपको बता दें कि एसी में एल्युमीनियम कंडेनसर कॉपर कंडेनसर के मुकाबले वजन में काफी हल्के होते हैं। यही वजह है कि कॉपर कंडेनसर एसी का अधिक वजन होता है।

किसकी लिमिट ज्यादा (ड्यूरेबिलिटी)

एसी में ऑक्सीडेशन एक साधारण प्रोसेस है। कंडेनसर लगातार हवा से कनेक्ट रहता है, ऐसे में उसमें जंग लगने की संभावना बनी रहती है। दोनों कंडेनसरों में जंग लगती है, मगर कॉपर कंडेनसर में काफी धीरे-धीरे जंग लगती है। एल्युमीनियम हवा के साथ अधिक रिएक्ट करता है, ऐसे में एल्युमीनियम कंडेनसर में जंग भी इसी वजह से जल्दी लगती है।

किसकी एफिशिएंसी बेहतर

कॉपर कंडेनसर का एक बड़ा लाभ ये होता है कि इसमें कम स्पेसिफिक हीट होती है। कॉपर एल्युमीनियम की तुलना में अधिक तेजी से ठंडा होता है और ज्यादा तेजी से गर्म होता है। कॉपर कंडेनसर वाले एसी ही टर्बो कूल और फास्ट कूलिंग के फीचर्स के साथ आते हैं।

रखरखाव और मेंटेनेंस

कॉपर कंडेनसर का मेंटेनेंस काफी आसान होता है। कॉपर कंडेनसर एल्युमीनियम कंडेनसर के मुकाबले काफी मजबूत होते हैं। यही वजह है कि एल्युमीनियम कंडेनसर जल्दी खराब हो जाते हैं। वहीं, कॉपर कंडेनसर को सरलता के साथ ठीक किया जा सकता है। मगर एल्युमीनियम कंडेनसर को बदलना ही पड़ता है।

किसमें मिलती है बेहतर रेटिंग

कॉपर कंडेनसर लंबे वक्त तक चलने वाले होते हैं। ऐसे में कॉपर वाले कंडेनसरों की रेटिंग तेजी से नहीं गिरती है। वहीं, एल्युमीनियम कंडेनसर की 5 स्टार रेटिंग भी एक साल में कम हो जाएगी।

कीमत में अंतर

कॉपर और एल्युमीनियम कंडेनसरों के बीच वैसे तो कीमत में अधिक अंतर नहीं होता है। मगर फिर भी दोनों में 500 से लेकर 1000 रुपये तक का अंतर हो सकता है। हालांकि. ये कंपनियों के एसी पर निर्भर करता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।   

Tagged:

अमित महाजन DNP India Hindi में कंटेंट राइटर की पोस्ट पर काम कर रहे हैं.अमित ने सिंघानिया...