बुधवार, मई 29, 2024
होमदेश & राज्यH-1B Visa धारकों के लिए खुशखबरी! USCIS के नए दिशानिर्देश के तहत...

H-1B Visa धारकों के लिए खुशखबरी! USCIS के नए दिशानिर्देश के तहत बढ़ेगी अमेरिका में रहने की अवधि; बस करना होगा ये काम

Date:

Related stories

US में भी Ram Mandir ‘प्राण प्रतिष्ठा’ की धूम, VHP ने Tesla म्यूजिकल लाइट शो का किया आयोजन; देखें वीडियो

Ayodhya Ram Mandir: 22 जनवरी का दिन भारत के लिए बेहद खास होने वाला है। दरअसल इस खास दिन को ही अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन किया जाना है। इसको लेकर मंदिर ट्रस्ट के साथ यूपी शासन और प्रशासन की ओर से सभी तैयारियां की जा रही है।

Red Sea में Iran समर्थित Houthi पर चला US-UK का संयुक्त ऑपरेशन, हवाई हमला कर तोड़ी दुश्मन की कमर; जानें डिटेल

US Attacks Houthi Rebels: अफ्रीका और एशिया के बीच हिंद महासागर में स्थित नमकीन पानी की खाड़ी लाल सागर (Red Sea) को लेकर अक्सर सुर्खियां बनती रहती है। दरअसल लाल सागर को ईरान (Iran) समर्थित हूतियों (Houthi) का गढ़ भी माना जाता है और इस समुद्री क्षेत्र में हूतियों द्वारा युद्ध व लूट-पाट की घटनाएं भी सामने आती रहती हैं।

Epstein Files: एपस्टीन के लिस्ट में ट्रंप-क्लिंटन के नाम को लेकर सनसनी! ‘यौन संबंध’ से जुड़े ये खुलासे हैरान कर देंगे

Epstein Files: अमेरिका की एक शीर्ष अदालत ने करोड़पति और जेट-सेटिंग फाइनेंसर जेफरी एपस्टीन से जुड़े कई दस्तावेजों के संबंध में अहम खुलासे किए हैं। अदालत द्वारा इस पूरे प्रकरण में जारी किए गए ताजा सूचि के अनुसार पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, स्टीफन हॉकिंग के बाद अब पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन का नाम भी सामने आया है।

Apple Watch के इस खास फीचर ने बचाई अमेरिकी महिला की जान, CO गैस के रिसाव से बढ़ी थी मुश्किलें; जानें डिटेल

Apple Watch: रंगहीन गैस कार्बन मोनोआक्साइड (CO) उन रसायनिक पदार्थों में से एक है जो कि जीव-जंतुओं के लिए विषाक्त साबित हो सकती है। इस गैस के अत्याधिक रिसाव से मनुष्यों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा है और कई मामलों में इसके कारण शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है जिससे जान जाने की संभावना भी रहती है।

खालिस्तानियों ने US के हिंदू मंदिर पर फिर साधा निशाना, बोर्ड पर लिखे गए भारत विरोधी नारे; देखें तस्वीर

US Hindu Temple Attack: खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की मौत के बाद से ही कट्टरपंथी खालिस्तानियों का रुख भारत व भारतवासियों के प्रति बदला नजर आ रहा है।

H-1B Visa: अमेरिका में इन दिनों गूगल, टेस्ला और वॉलमार्ट जैसी प्रमुख टेक कंपनियों ने बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की छटनी की है। ऐसे में ढ़ेर सारे एच1-बी वीजा धारक भी इसकी चपेट में आकर अपना नौकरी गवा चुके हैं। हालाकि एच1-बी वीजा धारकों के लिए राहत भरी खबर सामने आई है।

अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवा (USCIS) ने इस संबंध में एक नोटिस जारी कर स्पष्ट किया है कि अगर कोई एच1-बी वीजा धारक नौकरी खोने के बाद 60 दिन के अंदर अपने नॉन-इमिग्रेंट स्टेटस में बदलाव के लिए अप्लाई कर देता है तो वो 60 दिन के बाद भी अमेरिका में रह सकता है। अथवा उसे 60 दिनों के अंदर ही अमेरिका छोड़कर जाना होगा। दावा किया जा रहा है कि इस फैसले से एच1-बी वीजा धारकों को राहत मिलेगी।

USCIS ने जारी किए दिशानिर्देश

अमेरिका में हजारों कर्मचारियों की नौकरी जाने के बाद अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवा (USCIS) की ओर से नए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं जिसके तहत एच1-बी वीजा धारकों को राहत मिलती नजर आ रही है।

USCIS की ओर से स्पष्ट किया गया है कि जिन H-1B वीजा होल्डर्स को कंपनियों ने नौकरी से निकाला है, वो अब अमेरिका में 60 से भी ज्यादा दिन तक रह सकते हैं। इसके लिए उन्हें नौकरी खोने के बाद 60 दिन के अंदर अपने नॉन-इमिग्रेंट स्टेटस में बदलाव के लिए अप्लाई करना होगा। अगर प्रभावित कर्मचारी ने ऐसा नहीं किया तो उसे और उसके परिजनों को 60 दिन के अंदर अमेरिका छोड़ना पड़ सकता है।

USCIS की ओर से नोटिस जारी कर ये भी कहा गया है कि अगर कोई व्यक्ति किसी नई कंपनी में नौकरी पाता है तो उस उस कंपनी को जल्द से जल्द कर्मचारी के H-1B वीजा को बढ़ाने के लिए पिटीशन दायर करना होगा।

बता दें कि अमेरिका में H-1B वीजा के सबसे बड़े लाभार्थी भारतीय नागरिक हैं। ऐसे में USCIS के इस फैसले से भारतीय मूल के लोग प्रभावित हो सकेंगे।

हजारों कर्मचारियों की छंटनी

अमेरिका के विभिन्न हिस्सों में कई प्रतिष्ठित टेक कंपनियों ने हजारों कर्मचारियों की छंटनी कर उन्हें नौकरी से निकाला है। इसमे गूगल, टेस्ला, माइक्रोसॉफ्ट, एपल, डेल, ट्विटर, अमेजन और वॉलमार्ट जैसी कंपनियों के नाम शामिल हैं। आंकड़ों की मानें तो 2024 में अब तक अमेरिका की 247 टेक कंपनियों ने 58499 लोगों को नौकरी से निकाला है जिससे उनका जीवन प्रभावित हुआ है।

Gaurav Dixit
Gaurav Dixithttp://www.dnpindiahindi.in
गौरव दीक्षित पत्रकारिता जगत के उभरते हुए चेहरा हैं। उन्होनें चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से अपनी पत्रकारिता की डिग्री प्राप्त की है। गौरव राजनीति, ऑटो और टेक संबंघी विषयों पर लिखने में रुची रखते हैं। गौरव पिछले दो वर्षों के दौरान कई प्रतिष्ठीत संस्थानों में कार्य कर चुके हैं और वर्तमान में DNP के साथ कार्यरत हैं।

Latest stories