Home ख़ास खबरें Republic Day 2024: बीटिंग रिट्रीट समारोह में Vijay Chowk पर गूंजेंगी स्वदेशी...

Republic Day 2024: बीटिंग रिट्रीट समारोह में Vijay Chowk पर गूंजेंगी स्वदेशी धुन, जानें क्या है खास तैयारी

0
6
Republic Day 2024
Republic Day 2024

Republic Day 2024: वर्ष 2024 का गणतंत्र दिवस देश के लिए बेहद खास रहा है। इस गणतंत्र दिवस के अवसर पर सेना के जवानों द्वारा कर्तव्य पथ पर भव्य परेड आयोजन देखने को मिले। इस परेड की खास बात नारी शक्ति थीम रही जिसके तहत दुनिया के समक्ष भारतीय नारी शक्ति परंपरा का प्रदर्शन किया गया। जानकारी के अनुसार आज राजधानी दिल्ली में रायसीना हिल्स के समीप विजय चौक (Vijay Chowk) पर बीटिंग रिट्रीट समारोह (Beating Retreat Ceremony) का आयोजन होगा।

गणतंत्र दिवस (Republic Day 2024) के इस अवसर पर आयोजित किया जाने वाला ये बीटिंग रिट्रीट समारोह बेहद खास होने वाला है। दरअसल इस बीटिंग रिट्रीट समारोह में आज शाम विजय चौक पर स्वदेशी धुनें गूंजेंगी। दावा किया जा रहा है कि इस कार्यक्रम के आयोजन को देखकर लोगों के अंदर देशभक्ति का ज्वार पैदा हो सकेगा। बता दें कि बीटिंग रिट्रीट समारोह में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) व पीएम मोदी (PM Modi) के साथ अन्य गणमान्य मेहमान मौजूद रहेंगे।

Republic Day 2024: बीटिंग रिट्रीट समारोह

राजधानी दिल्ली में रायसीना हिल्स के निकट विजय चौक (Vijay Chowk) पर आज शाम बीटिंग रिट्रीट समारोह (Beating Retreat Ceremony) का आयोजन होगा। इस आयोजन में प्रमुख रुप से स्वदेशी धुनें गूंजेंगी जिसमे ‘वीर भारत’, ‘संगम दूर’, ‘देशों का सरताज भारत’, ‘भागीरथी’ और ‘अर्जुन’ जैसी मनमोहक धुनें शामिल हैं।

गणतंत्र दिवस (Republic Day 2024) के इस समापन समारोह को और खास बनाने के लिए ‘मिशन चंद्रयान’, ‘जय भारती’ और ‘हम तैयार हैं’ जैसी धुनों पर भी प्रस्तुति की तैयारी की गई है। बता दें कि आज शाम विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट समारोह में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu), पीएम मोदी (PM Modi) व रक्षा क्षेत्र से जुड़े तमाम अन्य गणमान्य मेहमान शामिल रहेंगे।

क्या है बीटिंग रिट्रीट समारोह?

गणतंत्र दिवस के तीसरे दिन रायसीना हिल्स के निकट विजय चौक (Vijay Chowk) पर बीटिंग रिट्रीट समारोह (Beating Retreat Ceremony) का आयोजन किया जाता है। इस आयोजन को गणतंत्र दिवस (Republic Day 2024) का समापन माना जाता है और मान्यता है कि ये समारोह सेना के बैरक में लौटने का प्रतीक है। बीटिंग रिट्रीट समारोह के दौरान ही भारतीय ध्वज को ससम्मान नीचे उतारा जाता है।

बता दें कि बीटिंग रिट्रीट समारोह की शुरुआत 1950 के दशक की शुरुआत में हुई थी। मान्यता है कि सेनाओं की लड़ाई बंद होने के बाद सैनिक युद्ध के मैदान से हट जाते थे और सूर्यास्त के समय अपने शिविरों में लौट आते हैं। इसी क्रम में बीटिंग रिट्रीट समारोह को भारतीय सेना के बैरक में लौटने का प्रतीक माना जाता है।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOKINSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।